DA Image
हिंदी न्यूज़ › देश › लापरवाही न करें, डेढ़ से 2 महीने में भारत आ सकती है कोरोना वायरस की तीसरी लहर, एम्स चीफ ने बताया
देश

लापरवाही न करें, डेढ़ से 2 महीने में भारत आ सकती है कोरोना वायरस की तीसरी लहर, एम्स चीफ ने बताया

लाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीPublished By: Priyanka
Sat, 19 Jun 2021 09:25 AM
लापरवाही न करें, डेढ़ से 2 महीने में भारत आ सकती है कोरोना वायरस की तीसरी लहर, एम्स चीफ ने बताया

जून महीने में भारत को कोरोना की दूसरी लहर से थोड़ी राहत मिलते दिख रही है लेकिन यह पूरी तरह मंद नहीं पड़ी है। इस बीच भारत में कोरोना वायरस की तीसरी लहर आने की आशंका भी जाहिर की गई है और अब एम्स के चीफ रणदीप गुलेरिया ने बयान दिया है कि अगले 6 से 8 हफ्तों में यानी की 2 महीने के अंदर भारत में कोविड-19 की तीसरी लहर दस्तक दे सकती है। 

एम्सी चीफ ने एनडीटीवी से बातचीत के दौरान यह बयान दिया है। बता दें कि दूसरी लहर में भारत में अस्पतालों में बिस्तर की कमी के साथ ही मेडिकल सप्लाई की भी कमी हो गई थी। दूसरी लहर के बीच कई राज्यों ने सख्त प्रतिबंध लागू किए थे, जिनमें अब ढील दी जा रही है। इसी को लेकर एम्स चीफ ने अगले दो महीने में कोरोना की तीसरी लहर आने की आशंका जाहिर की है। 

उन्होंने कहा, 'हमने अनलॉक की प्रक्रिया शुरू कर दी है और फिर से कोरोना नियमों का पालन करने में लापरवाही देखी जा रही है। ऐसा लगता है जैसे पहली और दूसरी लहर में जो कुछ हुआ, हमने उससे कुछ सीखा नहीं। फिर से भीड़ जमा हो रही है। लोग इकट्ठे हो रहे हैं। राष्ट्रीय स्तर पर कोरोना संक्रमण के आंकड़े बढ़ने में समय लगेगा लेकिन अगले 6 से आठ हफ्तों में केस बढ़ने लगेंगे..या कुछ और देर से। यह सब निर्भर करता है कि हम कैसे कोरोना नियमों का पालन कर रहे हैं और भीड़ इकट्ठा होने से रोक रहे हैं।'

बता दें कि कोरोना संक्रमण ने दुनियाभर में अब तक 40 लाख से ज्यादा लोगों की जान ले ली है। इसमें 50 फीसदी हिस्सेदारी भारत, अमेरिका, ब्राजील, रूस और मेक्सिको शामिल हैं। वहीं, भारत में बीते 24 घंटे के अंदर कोरोना वायरस के 60 हजार 753 नए मामले दर्ज किए गए हैं। इसके बाद अब देश में ऐक्टिव मामले घटकर 7 लाख 60 हजार के पास पहुंच गए हैं।

वहीं, 16 जनवरी से शुरू हुए टीकाकरण अभियान के तहत अभी तक वैक्सीन की 27.23 करोड़ खुराकें लगाई गई हैं। देश में महामारी की शुरुआत से अब तक कुल 38 करोड़ 92 लाख 7 हजार 637 सैंपलों की जांच की गई है। 

संबंधित खबरें