ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News देश'लॉकडाउन नहीं बढ़ा, तो जुलाई मध्य में चरम पर होंगे कोरोना वायरस के मामले'

'लॉकडाउन नहीं बढ़ा, तो जुलाई मध्य में चरम पर होंगे कोरोना वायरस के मामले'

देश में जारी लॉकडाउन इस महीने के अंत के बाद नहीं बढ़ाया जाता है, तो देश में कोरोना मामलों की संख्या जुलाई मध्य में चरम पर पहुंच सकती है। स्वास्थ्य क्षेत्र के विशेषज्ञ प्रोफेसर गिरिधर बाबू ने यह दावा...

'लॉकडाउन नहीं बढ़ा, तो जुलाई मध्य में चरम पर होंगे कोरोना वायरस के मामले'
एजेंसी,बेंगलुरुFri, 22 May 2020 05:25 AM
ऐप पर पढ़ें

देश में जारी लॉकडाउन इस महीने के अंत के बाद नहीं बढ़ाया जाता है, तो देश में कोरोना मामलों की संख्या जुलाई मध्य में चरम पर पहुंच सकती है। स्वास्थ्य क्षेत्र के विशेषज्ञ प्रोफेसर गिरिधर बाबू ने यह दावा किया। हालांकि यह भी कहा कि दो महीने तक कंटेनमेंट जैसे उपायों के कारण लॉकडाउन हटाने के बावजूद कोरोना मामलों में अपेक्षाकृत कम संख्या में बढ़ोतरी दर्ज की जाएगी।

पब्लिक हेल्थ फाउंडेशन ऑफ इंडिया के प्रोफेसर गिरिधर आर बाबू ने यह दावा किया है। प्रोफेसर ने कहा- यदि 30 मई को लॉकडाउन को हटा लिया जाता है तो तीन इनक्यूबेशन अवधि यानी जुलाई मध्य तक कोरोना मामले अपने चरम पर पहुंच जाएंगे, फिर लोगों को पता चलेगा कि यह बगैर नियंत्रण के यह बीमारी किस तरह फैलती है।

यूपी में कोरोना मरीजों का रिकाॅर्ड, एक दिन में मिले 341 पॉजिटिव केस

वहीं, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने बृहस्पतिवार (21 मई) को कहा कि भारत में कोविड-19 के कारण मृत्युदर 3.06 है, जबकि वैश्विक मृत्युदर 6.65 है। मंत्रालय ने इसके लिए समय पर मामलों की पहचान और उचित क्लीनिकल प्रबंधन को श्रेय दिया।  देश में बृहस्पतिवार को कोविड-19 के मामलों की संख्या बढ़कर 1,12,359 हो गई, जबकि इसके कारण जान गंवाने वालों की संख्या 3,435 पर पहुंच गई। 

मंत्रालय ने कहा कि मृत्यु के मामलों के विश्लेषण से पता चलता है कि संक्रमण से मरने वालों में 64 प्रतिशत पुरुष और 36 प्रतिशत महिलाएं हैं। मृतकों को आयु के आधार पर बांटते हुए मंत्रालय ने बताया कि मौत के 0.5 प्रतिशत मामले 15 साल से कम आयु के बच्चों के हैं, 2.5 प्रतिशत मामले 15 से 30 साल की उम्र के बीच के, 11.4 प्रतिशत मामले 30 से 45 साल के बीच के, 35.1 प्रतिशत मामले 45-60 आयुवर्ग के और 50.5 प्रतिशत मामले 60 साल से अधिक उम्र के लोगों के हैं।

अम्फान चक्रवात की वजह से पश्चिम बंगाल में बढ़ सकता है कोरोना का मामला

मंत्रालय ने बताया कि मौत के 73 प्रतिशत मामलों में अन्य गंभीर बीमारियां भी साथ थीं। 60 साल से अधिक उम्र के लोगों और अन्य बीमारियां वालों को कोविड-19 के लिहाज से उच्च जोखिम वाले समूह में रखा गया है। मंत्रालय ने एक बयान में कहा, ''संक्रमण के मामलों में भारत में मृत्युदर 3.06 प्रतिशत है, जो वैश्विक मृत्युदर 6.65 प्रतिशत की तुलना में बहुत कम है। यह समय पर मामलों का पता लगाने और उनके उचित क्लीनिकल प्रबंधन की दिशा में हमारे प्रयासों को दर्शाता है।"