ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News देश14500 फीट की ऊंचाई पर दुश्मन को मिलेगा करारा जवाब, LAC पर भारत के कदम से थर्रा उठेगा चीन

14500 फीट की ऊंचाई पर दुश्मन को मिलेगा करारा जवाब, LAC पर भारत के कदम से थर्रा उठेगा चीन

भारतीय सेना ने चीन सीमा के पास न्योमा और डीबीओ सेक्टर में 14,500 फीट से अधिक की ऊंचाई पर दो बख्तरबंद वाहन रखरखाव और मरम्मत सुविधाएं स्थापित की है। भारत के इस कदम से चीन की मंशा पानी जरूर फिर गया है।

14500 फीट की ऊंचाई पर दुश्मन को मिलेगा करारा जवाब, LAC पर भारत के कदम से थर्रा उठेगा चीन
Himanshu Tiwariएएनआई,नई दिल्लीThu, 16 May 2024 12:55 AM
ऐप पर पढ़ें

वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर नजरें गड़ाए चीन की मंशा को नाकाम करने के लिए भारत ने अहम कदम उठाया है। भारत ने दुनिया की दो सबसे ऊंची टैंक मरम्मत केंद्र को स्थापित किया है। भारत ने पूर्वी लद्दाख में 500 से अधिक टैंकों और पैदल सेना के लिए लड़ाकू वाहनों को भी तैनात किया है। भारतीय सेना ने चीन सीमा के पास न्योमा और डीबीओ सेक्टर में 14,500 फीट से अधिक की ऊंचाई पर दो बख्तरबंद वाहन रखरखाव और मरम्मत सुविधाएं स्थापित की है। उल्लेखनीय है कि अप्रैल-मई 2020 में भारत और चीन के बीच गतिरोध शुरू होने के बाद पूर्वी लद्दाख में बड़ी संख्या में टैंक और बीएमपी लड़ाकू वाहनों के साथ-साथ क्विक रिएक्शन फाइटिंग व्हीकल जैसे भारतीय निर्मित बख्तरबंद वाहनों को तैनात किया गया है।

माइनस 40 डिग्री तापमान में भी कायम रहेगी भारत की ताकत
भारतीय सेना के अधिकारियों ने न्यूज एजेंसी एएनआई को बताया, "टैंक और पैदल सेना के लड़ाकू वाहनों को इन अत्यधिक ऊंचाई वाले क्षेत्रों में तैनात किया गया है। इससे क्षेत्र में बख्तरबंद वाहन संचालन को बनाए रखने में मदद मिलेगी। हमने न्योमा में और डीबीओ सेक्टर में डीएस-डीबीओ रोड पर केएम-148 के पास इन मध्यम रखरखाव (रीसेट) सुविधाओं की स्थापना की है। ये दो मुख्य क्षेत्र हैं जहां टैंक और आईसीवी ऑपरेशन पूर्वी लद्दाख सेक्टर में केंद्रित हैं।" भारतीय सेना उच्च ऊंचाई वाले क्षेत्रों में टी-90 और टी-72, बीएमपी और के-9वज्र ऑटोमेटिक हॉवित्जर सहित अपने टैंकों को रखने के लिए बड़े पैमाने पर बुनियादी ढांचे का निर्माण कर रही है। बताते चलें कि यहां सर्दियों में तापमान काफी कम हो जाता है।

दुर्गम रास्तों पर भी नहीं रुकेगी भारतीय सेना
हाल ही में, सेना प्रमुख जनरल मनोज पांडे ने बख्तरबंद लड़ाकू वाहनों (एएफवी) के लिए मध्यम रखरखाव (रीसेट) सुविधा का दौरा किया, जहां उन्होंने अद्वितीय रखरखाव सुविधा देखी। सेना के अधिकारियों ने कहा कि नई सुविधाएं टैंकों और पैदल सेना के लड़ाकू वाहनों की बेहतर सेवा क्षमता और मिशन विश्वसनीयता को बढ़ावा देती हैं। अधिकारियों ने कहा कि ये सुविधाएं ऊबड़-खाबड़ इलाकों और शून्य से 40 डिग्री नीचे तापमान वाले चुनौतीपूर्ण मौसम में भी लड़ाकू बेड़े को परिचालन के लिए तैयार रखती हैं। एएफवी के लिए विशेषज्ञ तकनीकी सहायता बुनियादी ढांचे को आगे बढ़ाने से परिचालन दक्षता और युद्ध की तैयारी के उच्च मानक प्राप्त हुए हैं।

भारत और चीन पिछले चार वर्षों से पूर्वी लद्दाख क्षेत्र में गतिरोध में लगे हुए हैं और उन्होंने क्षेत्र में सीमाओं के पास लगभग 50,000 सैनिकों को तैनात किया है। आक्रामकता के समय, चीन ने एलएसी पर बड़ी संख्या में पैदल सेना, लड़ाकू वाहन और टैंक तैनात किए हैं। भारतीय सेना ने बहुत तेजी से जवाब दिया और कुछ ही समय में, प्रतिद्वंद्वी का मुकाबला करने के लिए सी-17 परिवहन विमान में रेगिस्तान और विमानों से भारी बख्तरबंद तत्वों का तैनात किया है।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें