ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News देशराफा में हुई हत्याएं दिल दहला देने वाली, भारत ने जताई चिंता; फिर किया फिलिस्तीनी देश का समर्थन

राफा में हुई हत्याएं दिल दहला देने वाली, भारत ने जताई चिंता; फिर किया फिलिस्तीनी देश का समर्थन

गाजा पट्टी में राफा में इजरायली हमले के बाद स्थिति पर विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि राफा में विस्थापन शिविर में नागरिक जीवन की दिल दहला देने वाली क्षति गहरी चिंता का विषय है।

राफा में हुई हत्याएं दिल दहला देने वाली, भारत ने जताई चिंता; फिर किया फिलिस्तीनी देश का समर्थन
india calls killings in rafah heartbreaking reaffirms palestinian statehood
Amit Kumarलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीThu, 30 May 2024 07:18 PM
ऐप पर पढ़ें

भारत ने गुरुवार को कहा कि राफा में हो रहीं मौतें चिंताजनक हैं। इसके अलावा, भारत ने एक बार फिर से फिलिस्तीन के मुद्दे का समर्थन दोहराया है। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रणधीर जायसवाल ने कहा कि राफा में विस्थापन शिविर में नागरिकों की जान जाने की हृदय विदारक घटना गहरी चिंता का विषय है। मीडिया ब्रीफिंग में जायसवाल ने कहा कि भारत अंतरराष्ट्रीय मानवीय कानून के पालन का आह्वान करता है।

गाजा पट्टी में राफा में इजरायली हमले के बाद स्थिति पर विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा, “राफा में विस्थापन शिविर में नागरिक जीवन की दिल दहला देने वाली क्षति गहरी चिंता का विषय है। हमने लगातार नागरिक आबादी की सुरक्षा और जारी संघर्ष में अंतरराष्ट्रीय मानवीय कानून के सम्मान का आह्वान किया है। हम यह भी ध्यान देते हैं कि इजरायली पक्ष ने पहले ही इसे एक दुखद दुर्घटना के रूप में जिम्मेदारी स्वीकार कर ली है और घटना की जांच की घोषणा की है।”

दक्षिणी गाजा के शहर राफा पर इजरायली हमलों की व्यापक निंदा हो रही है। स्थानीय स्वास्थ्य अधिकारियों ने बताया कि हमलों में कम से कम 45 फिलिस्तीनी मारे गए, जिनमें कई विस्थापित व्यक्ति भी शामिल हैं जो रविवार को आग के हवाले किए गए टेंटों में रह रहे थे। इस घटना के कारण सोशल मीडिया पर आक्रोश और एकजुटता की लहर दौड़ गई है। हैशटैग "ऑल आईज ऑन राफा" ने जोर पकड़ा लिया है और इसे दुनिया भर में लाखों लोगों ने शेयर किया।

स्पेन, आयरलैंड और नॉर्वे द्वारा फिलिस्तीन को औपचारिक रूप से मान्यता देने के फैसले के बारे में पूछे जाने पर, जायसवाल ने कहा, "जैसा कि आप जानते हैं, भारत 1980 के दशक के अंत में फिलिस्तीनी देश को मान्यता देने वाले पहले देशों में से एक था, और हमने लंबे समय से दो-देश समाधान का समर्थन किया है। इसमें मान्यता प्राप्त और पारस्परिक रूप से सहमत सीमाओं के भीतर एक संप्रभु, व्यवहार्य और स्वतंत्र फिलिस्तीन देश की स्थापना शामिल है, जो इजरायल के साथ शांति से रह सके।" 1988 में भारत फिलिस्तीन देश को मान्यता देने वाले पहले देशों में से एक बना था। 1996 में भारत ने गाजा शहर में फिलिस्तीन के लिए अपना प्रतिनिधि कार्यालय भी खोला, जिसे बाद में 2003 में रामल्लाह में शिफ्ट कर दिया गया था।

यूरोपीय देशों को उम्मीद है कि फिलिस्तीन को मान्यता देने से शांति की दिशा में अंतर्राष्ट्रीय प्रयासों को बढ़ावा मिलेगा। आयरलैंड के प्रधानमंत्री साइमन हैरिस ने एक बयान में कहा, "हम शांति प्रक्रिया के अंत में फिलिस्तीन को मान्यता देना चाहते थे। हालांकि, हमने शांति के चमत्कार को जीवित रखने के लिए स्पेन और नॉर्वे के साथ मिलकर यह कदम उठाया है।" उन्होंने इजरायल से गाजा में "मानवीय तबाही को रोकने" का आग्रह किया।