ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News देशटिड्डियों के आतंक से निपटने के लिए हाथ मिलाकर काम कर रहा भारत-पाकिस्तान

टिड्डियों के आतंक से निपटने के लिए हाथ मिलाकर काम कर रहा भारत-पाकिस्तान

पाकिस्तान की सीमा से सटे अधिकांश राज्य के किसान टिड्डियों के आतंक से काफी परेशान हैं। ये रेगिस्तानी टिड्डियां झुंड में आते हैं और फसलों को नुकसान पहुंचाते थे। पंजाब, हरियाणा, राजस्थान और मध्य...

टिड्डियों के आतंक से निपटने के लिए हाथ मिलाकर काम कर रहा भारत-पाकिस्तान
एजेंसी,इस्लामाबाद।Fri, 05 Jun 2020 07:55 PM
ऐप पर पढ़ें

पाकिस्तान की सीमा से सटे अधिकांश राज्य के किसान टिड्डियों के आतंक से काफी परेशान हैं। ये रेगिस्तानी टिड्डियां झुंड में आते हैं और फसलों को नुकसान पहुंचाते थे। पंजाब, हरियाणा, राजस्थान और मध्य प्रदेश में इसका ज्यादा प्रकोप देखा गया। अब भारत और पाकिस्तान ने साथ मिलकर इस समस्या से लड़ रहा है।

खाद्य और कृषि संगठन (एफएओ) द्वारा प्रशासित एक मंच के तहत रेगिस्तानी टिड्डे के आतंक से निपटने के लिए भारत और पाकिस्तान एक-दूसरे का सहयोग कर रहे हैं। इस बात की जानकारी पाकिस्तान विदेश मंत्रालय के कार्यालय ने दी है। पाकिस्तान और भारत दक्षिण-पूर्व एशिया में रेगिस्तानी टिड्डे को नियंत्रित करने के लिए गठित खाद्य और कृषि संगठन का सदस्य है।

पाकिस्तान विदेश कार्यालय की प्रवक्ता आइशा फारूकी ने एक साप्ताहिक मीडिया ब्रीफिंग में कहा कि आयोग की मंत्रिस्तरीय बैठक मार्च में आयोजित की गई थी, जिसके दौरान सदस्य राज्यों के बीच टिड्डी स्थिति और एक तकनीकी और परिचालन समन्वय (ToC) के बीच संचार को फिर से सक्रिय करने का निर्णय लिया गया था। डॉन ने बताया कि टीम का गठन सूचनाओं के आदान-प्रदान, सीमावर्ती क्षेत्रों में समन्वय बढ़ाने और क्षेत्र में रेगिस्तानी टिड्डे के प्रकोप से निपटने के लिए समन्वय बढ़ाने के लिए किया गया था।

फारूकी ने कहा कि पाकिस्तान साप्ताहिक आधार पर एसडब्ल्यूएसी की बैठक में भाग ले रहा था। पाकिस्तानी अखबार डॉन के मुताबिक, उन्होंने कहा कि पाकिस्तान और भारत के सीमावर्ती क्षेत्रों में सूचनाओं के आदान-प्रदान में सहयोग लाभप्रद है।

उन्होंने कहा कि "हम मानते हैं कि संबंधित तकनीकी टीमें एफएओ के माध्यम से उचित रूप से समन्वय कर रही हैं। पाकिस्तान रेगिस्तानी टिड्डे के प्रकोप से निपटने में भारत सहित सभी एसडब्ल्यूएसी सदस्य राज्यों के साथ सहयोग करने के लिए प्रतिबद्ध। 

भारत और पाकिस्तान हाल के वर्षों में सबसे खराब टिड्डी हमले का सामना कर रहा है। रेगिस्तानी टिड्डे टिड्डे की एक प्रजाति है, एक झुंड वाला छोटा सींग वाला टिड्डा। वे अपने रास्ते में सब कुछ नष्ट करने के लिए जाने जाते हैं, जिससे खाद्य आपूर्ति और लाखों लोगों की आजीविका के लिए एक अभूतपूर्व खतरा पैदा हो जाता है।

पाकिस्तान से भारी मात्रा में टिड्डे राजस्थान, पंजाब, हरियाणा और मध्य प्रदेश में प्रवेश कर चुकी हैं, जिससे कपास की फसलों और सब्जियों को बड़े नुकसान होती है। भारत के पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय के प्रवक्ता ने राजस्थान को सबसे अधिक प्रभावित राज्य बताया है।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें