ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News देशदिल्ली में होगी INDIA गठबंधन की बैठक, तय हो गई तारीख; सीट शेयरिंग पर हो सकती है चर्चा

दिल्ली में होगी INDIA गठबंधन की बैठक, तय हो गई तारीख; सीट शेयरिंग पर हो सकती है चर्चा

इंडिया गठबंधन की चौथी बैठक 19 दिसंबर को नई दिल्ली में होगी । कांग्रेस नेता जयराम रमेश ने सोशळ मीडिया पर इसकी जानकारी दी है।

दिल्ली में होगी INDIA गठबंधन की बैठक, तय हो गई तारीख; सीट शेयरिंग पर हो सकती है चर्चा
Ankit Ojhaलाइव हिंदुस्तान,नई दिल्लीSun, 10 Dec 2023 07:24 PM
ऐप पर पढ़ें

विपक्षी पार्टियों के अलायंस INDIA की चौथी बैठक को लेकर चर्चाएं कई दिनों से चल रही थीं। इसे एक बार पोस्टपोन भी किया गया। हालांकि अब पार्टियों की बैठक की तारीख पर फैसला हो गया है। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता जयराम रमेश ने सोशल मीडिया पर बताया कि इंडिया गठबंधन की पार्टियों की चौथी बैठक नई दिल्ली में 19 दिसंबर को होगी। यह बैठक दोपहर में तीन बजे शुरू होगी। बता दें कि इस बैठक में सीट शेयरिंग को लेकर भी फैसले लिए जा सकते हैं। 

सपा और कांग्रेस में खत्म हुई अनबन
सूत्रों का कहना है कि समाजवादी पार्टी और कांग्रेस के बीच सीट शेयरिंग को लेकर चल रहा गतिरोध खत्म हो गया है। इससे पहले जब इंडिया गठबंधन की बैठक होनी थी तो ममता बनर्जी ने कह दिया था कि उन्हें इसकी जानकारी ही नहीं है। ऐसे में उम्मीद थी कि इस बैठक में ममता बनर्जी, अखिलेश यादव और नीतीश कुमार शामिल ना होते। इसीलिए बैठक की तारीख पोस्टपोन भी की गई थी। बता दें कि चुनाव परिणाम यानी 3 दिसंबर को इंडिया गठबंधन की बैठक बुलाई गई थी। 

3 दिसंबर की तारीख के बारे में फैसला केवल तीन  दिन पहले ही लिया गया था। ऐसे में पार्टियों के पास इस बैठक के लिए समय निकालने का मौका नहीं था। बता दें कि पांच राज्यों में हुए विधानसभा चुनाव में भी कांग्रेस का परिणाम निराशाजनक ही रहा। उसे केवल तेलंगाना में ही जीत हासिल हो पाई। जिस तरह से इंडिया गठबंधन को उद्देश्य भाजपा का विरोध करना है, उस तरह से उसका फायदा नजर नहीं आया। तेलंगाना में कांग्रेस ने बीआरएस को हराया। वहीं भाजपा एक से आठ सीट पर पहुंच गई। छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश और राजस्थान में भाजपा ने जीत दर्ज की। ऐसे में दो राज्य की सरकारें भी कांग्रेस के हाथ से निकल गईं। 
 

2024 को लेकर होगी चर्चा
लोकसभा चुनाव में भाजपा के खिलाफ मिलकर लड़ने की बात करने वाले इस गठबंधन पर सवाल भी खड़े होते रहे हैं। वहीं इस गठबंधन में सीट शेयरिंग के मुद्दे पर रार अभी से देखने को मिल रही है। क्षेत्रीय पार्टियां अपने राज्यों में ज्यादा से ज्यादा सीटों पर चुनाव लड़ना चाहती हैं। वहीं कांग्रेस गठबंधन का नेतृत्व करने के नाते अपना दबदबा बनाना चाहती थी। हालांकि इस विधानसभा चुनाव से कांग्रेस को बड़ा धक्का लगा है। अब देखना है कि इस बैठक में सीट शेयरिंग का क्या फार्मुला तय होता है। इन विधानसभा चुनावों के बाद राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा का भी असर खत्म हो गया है। 


 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें