DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गुजरात के इन गांवों में होती है ननद भाभी की शादी, दूल्हा रहता है घर पर

गुजरात के इन तीन गांव में, सुरखेड़ा, सनद और अंबल गांव में शादी को लेकर एक अनोखी पंरपरा है। यहां शादी के लिए दूल्हा नहीं बल्कि उसकी बहन जाती है। यानी ननद और भाभी की शादी की जाती है। यह सदियो पुरानी परंपरा है। 

दरअसल गुजरात के इन आदिवासी गांवों में कभी भी दूल्हा खुद अपनी शादी में नहीं जाता। उसकी जगह उसकी बहन अपनी भाभी को के साथ शादी करने जाती है।  गुजरात के सुरखेड़ा गांव के स्थानीय निवासी कांजीभाई राथवा का कहना है कि दूल्हा घर में अपनी मां के साथ रहता है और बारात में ननद ही घोड़ी चढ़ती है और बारात लेकर भाभी के घर जाती है। शादी की सभी रस्में पूरी करके भाभी के साथ सात फेरे लेती है। ननद भाभी एक दूसरे के गले में वरमाला भी डालते हैं। फिर विदा करके भाभी को अपने घर ले आती है।  राथवा का कहना है कि यह परंपरा हम इसलिए निभाते हैं क्योंकि कहा जाता है कि ऐसा करने से कोई अनहोनी नहीं होगी।

सुरखेड़ा गांव की प्रमुख रामसिंह भाई राथवा का कहना है कि जब-जब इस गांव के लोगों ने इस परंपरा को नहीं माना है उनके साथ कोई न कोई अनहोनी घटना हो गई। कुछ घरों में इस तरह की शादी नहीं कराने से पाया गया कि उनके घर में शादी टूटने लगी, परिवार में किसी की तबीयत खराब हो गई और कई और परेशानियां होने लगीं। यहां के पंडितों का कहना है कि यह अनोखी शादी आदिवासियों के आदिवासी संस्कृति को दर्शाती हैं। अगर घर में बहन नहीं होती तो घर की कोई महिला जिसकी शादी न हुई हो जाकर दूल्हे की जगह शादी करती है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:In these villages of Gujarat Nand sister-in-law is married the groom lives at home