DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दिल्ली हाईकोर्ट से अग्रिम जमानत खारिज होने के बाद चिदंबरम के घर पहुंची ईडी और सीबीआई

ed team reach senior congress leader p chidambaram   s residence in new delhi in relation with inx med

1 / 4ED team reach senior Congress leader P Chidambaram’s residence in New Delhi in relation with INX media case on Aug 20, 2019. (HT photo by Vipin Kumar)

after cbi now ed team reaches at senior congress leader p  chidambaram s house after delhi hc cancel

2 / 4After CBI now ED team reaches at Senior Congress leader P. Chidambaram's House after Delhi HC cancels anticipatory bail (ANI Twitter Pic)

cbi reaches senior congress leader chidambaram s house  ani twitter pic

3 / 4CBI reaches Senior Congress leader Chidambaram's house (ANI Twitter PIc)

congress leader and former union minister p chidambaram   ani photo

4 / 4Congress leader and former Union minister P Chidambaram. (ANI Photo)

PreviousNext

आईएनएक्स मीडिया केस में दिल्ली हाईकोर्ट से मंगलवार को अग्रिम जमानत याचिका खारिज होने के बाद सीनियर कांग्रेस नेता और पूर्व वित्तमंत्री पी. चिदंबरम पर गिरफ्तार की तलवार लटक रही है। हाईकोर्ट से अग्रिम जमानत याचिका खारिज होने के बाद मंगलवार की शाम को पहले सीबीआई चिदंबरम के घर पहुंची और उसके बाद प्रवर्तन निदेशालय सीनीयर कांग्रेस नेता के घर पहुंची। हालांकि, चिदंबरम घर पर नहीं मिले।

इससे पहले दिल्ली हाईकोर्ट से अग्रिम जमानत याचिका खारिज होने के बाद चिदंबरम ने सुप्रीम कोर्ट अग्रिम याचिका दाखिल की। लेकिन, सुप्रीम कोर्ट ने इस पर जल्द सुनवाई से इनकार करते हुए उन्हें कल यानि बुधवार को आने को कहा।

पी. चिदंबरम के लिए पैरवी कर रहे सीनियर कांग्रेस नेता और वकील कपिल सिब्बल ने संवाददाताओं से कहा- हमें कल इस मामले में सबसे सीनियर जज से एप्रोज करने की सलाह दी गई है। इस केस की जांच प्रवर्तन निदेशालय और सीबीआई कर रही है।

दिल्ली हाईकोर्ट की तरफ से पूर्व वित्तमंत्री पी. चिदंबरम की अग्रिम जमानत याचिका खारिज करने के बाद सीनियर वकील कपिल सिब्बल ने सुप्रीम कोर्ट के रजिस्ट्रार से इस मामले पर जल्द से जल्द सुनवाई का अनुरोध किया था। इसी तरह, चिदंबरम के वकीलों की तरफ से फैसले के खिलाफ अपील करने के लिए तीन दिन केी मांग को भी खारिज कर दिया गया।

सीबीआई ने आईएनएक्स मीडिया मामले में चिदंबरम के खिलाफ भ्रष्टाचार का मामला दर्ज किया है, जबकि प्रवर्तन निदेशालय ने धन शोधन का मामला दाखिल किया है। जस्टिस सुनील गौड़ ने सभी पक्षों की दलीलें सुनने के बाद चिदंबरम की अग्रिम जमानत याचिका पर 25 जनवरी को फैसला सुरक्षित रखा था।

दिल्ली हाईकोर्ट ने की चिदंबरम की याचिका खारिज

आईएनएक्स मीडिया घोटाले से जुड़े भ्रष्टाचार और धनशोधन मामलों में मंगलवार को कांग्रेस नेता एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिदंबरम को करारा झटका लगा है। पूर्व वित्त मंत्री की अग्रिम जमानत की अर्जी दिल्ली उच्च न्यायालय ने खारिज कर दी है। वहीं, याचिका खारिज होने के बाद गिरफ्तारी से बचने के लिए चिदंबरम ने उच्चतम न्यायालय का दरवाजा खटखटाया। कोर्ट इस मामले में बुधवार को सुनवाई कर सकता है।

दिल्ली उच्च न्यायालय के जस्टिस सुनील गौर ने चिदंबरम की याचिका को खारिज करने का फैसला सुनाया। कोर्ट ने 25 जनवरी को इस मामले में अपना निर्णय सुरक्षित रख लिया था। अदालत द्वारा आदेश सुनाए जाने के बाद बाद चिदंबरम की ओर से पेश वरिष्ठ वकील डी कृष्णन ने आदेश के प्रभावी होने पर तीन दिनों की रोक लगाने का अनुरोध किया। इस पर अदालत ने कहा कि वह अनुरोध पर विचार करेगी और उस पर आदेश पारित करेगी।

सुनवाई के दौरान सीबीआई और प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) दोनों ने इस आधार पर चिदंबरम की याचिका का विरोध किया कि उनसे हिरासत में पूछताछ की आवश्यकता है। क्योंकि पूछताछ के दौरान उन्होंने स्पष्ट जवाब नहीं दिया था। दोनों जांच एजेंसियों ने तर्क दिया था कि वित्त मंत्री के रूप में चिदंबरम के कार्यकाल के दौरान वर्ष 2007 में 305 करोड़ रुपये का विदेशी कोष प्राप्त करने के लिए एक मीडिया समूह को एफआईपीबी मंजूरी दी गई थी। ईडी ने तर्क दिया कि जिन कंपनियों में धन अंतरित किए गए, वे प्रत्यक्ष या परोक्ष रूप से चिदंबरम के पुत्र कार्ति द्वारा नियंत्रित हैं तथा यह विश्वास करने का कारण है कि उनके बेटे के हस्तक्षेप पर आईएनएक्स मीडिया को एफआईपीबी मंजूरी दी गई थी।

उच्च न्यायालय ने 25 जुलाई, 2018 को दोनों मामलों में चिदंबरम को गिरफ्तारी से अंतरिम राहत प्रदान की थी और इसे समय-समय पर बढ़ाया गया था।

क्या है मामला 

यूपीए-1 सरकार में वित्त मंत्री के रूप में चिदंबरम के कार्यकाल के दौरान एफआईपीबी ने दो उपक्रमों को मंजूरी दी थी। आईएनएक्स मीडिया मामले में सीबीआई ने 15 मई 2017 को प्राथमिकी दर्ज की थी। इसमें आरोप लगाया गया है कि वित्त मंत्री के रूप में चिदंबरम के कार्यकाल के दौरान 2007 में 305 करोड़ रुपये की विदेशी धनराशि प्राप्त करने के लिए मीडिया समूह को दी गई एफआईपीबी मंजूरी में अनियमितताएं हुईं। इसके बाद ईडी ने पिछले साल इस संबंध में मनी लॉन्ड्रिंग का मामला दर्ज किया था। 

 

ये भी पढ़ें: हाईकोर्ट से झटके के बाद अग्रिम जमानत के लिए SC पहुंचे चिदंबरम

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:in INX media case no arrest shield for Chidambaram at SC told to come tomorrow