DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

तीसरा मोर्चा बनाने में लगे नायडू आंध्र में नहीं बचा सके अपनी सरकार, जगनमोहन रेड्डी की बनेंगे किंग

ysr congress chief ys jagan mohan reddy pti

साल 2003 में विधानसभा चुनावों से ठीक पहले तत्कालीन कांग्रेस नेता वाईएस राजेशखर रेड्डी (वाईएसआर के नाम से मशहूर) तेलुगू देशम पार्टी (टीडीपी) अध्यक्ष नायडू को सत्ता से बाहर फेंकने के लिए संयुक्त आंध्र प्रदेश में राज्यव्यापी मार्च किया था।

अगर शुरुआती रुझान आंध्र प्रदेश में सच होता है तो वहीं तरकीब इस बार राजशेखर रेड्डी के बेटे जगनमोहन रेड्डी ने उसी चंद्रबाबू नायडू के खिलाफ अपनाई है। शुरुआती रुझानों में 175 विधानसभा सीटों में कांग्रेस से अलग होकर बनी वाईएसआर कांग्रेस 89 सीटों पर आगे चल रही थी, जबकि टीडीपी 34 और पवन कल्याण की जनसेना पार्टी एक सीट पर आगे चल रही थी। बाकी सीटों के रुझान अभी आने बाकी है।

बाकी सीटों के रुझान अभी आ रहे हैं। लोकसभा चुनाव में भी वहीं की 25 लोकसभा सीटों में से वाईएसआर कांग्रेस 16 जबकि टीडीपी 9 सीट पर आगे चल रही है।

ऐसे में जगनमोहन रेड्डी का वह मुख्यमंत्री बनने का सपना पूरा होता हुआ दिख रहा जिसके चलते वह कांग्रेस से अलग हुए थे। जगन ने पिछले 14 महीने के अंदर 3,640 किलोमीटर लंबी पैदल यात्रा आंध्र प्रदेश के अंदर की और लोगों के सामने टीडीपी के खिलाफ अपनी बातें रखी।
ये भी पढ़ें: ओडिशा रिजल्ट 2019: बरकरार रहेगा पटनायक का जादू या लगेगी किले में सेंध

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:In Andhra YSR Congress Jagan Reddy looks set to unseat Chandrababu Naidu