DA Image
25 सितम्बर, 2020|11:13|IST

अगली स्टोरी

LAC पर तनातनी के बीच भारत और चीन के रिश्ते पर क्या बोले EAM जयशंकर?

 external affairs minister s jaishankar responded to rahul gandhi by nine tweet  file photo

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने सोमवार को कहा कि भारत और चीन के रिश्ते दोनों देशों तथा दुनिया के लिए "काफी अहम" हैं। इसलिए दोनों पक्षों के लिए यह महत्वपूर्ण है कि वे किसी "समझ या संतुलन" पर पहुंचे। अमेरिका-भारत रणनीतिक साझेदारी मंच के संवाद सत्र में जयशंकर ने कहा कि दुनिया के हर देश की तरह ही भारत भी चीन के उन्नति से परिचित है, लेकिन भारत की तरक्की भी एक वैश्विक गाथा है।

विदेश मंत्री डिजिटल कार्यक्रम में चीन के उभार, भारत पर उसके असर के साथ-साथ दोनों देशों के रिश्तों पर पड़े प्रभाव से संबंधित सवालों के जवाब दे रहे थे। पूर्वी लद्दाख में भारत और चीन की सेनाओं के बीच चार महीने से चल रहे सीमा विवाद की पृष्ठभूमि में जयशंकर की यह टिप्पणी आई है। इस विवाद का असर व्यापार और निवेश समेत सभी रिश्तों पर पड़ा है।

चीन को चारों खाने चित करने में लगा भारत, लद्दाख के पैंगोंग में और मजबूत की सैन्य ताकत

उन्होंने अपनी किताब का हवाला देते हुए कहा, "दुनिया के अन्य देशों की तरह, हम भी चीन की उन्नति से परिचित हैं। हम चीन के पड़ोसी हैं। जाहिर है कि अगर आप पड़ोसी हैं तो आप उस उभार से सीधे प्रभावित होंगे जो मैंने अपनी किताब में कहा है।" उन्होंने अपनी किताब "द इंडिया वेः स्ट्रेटेजीज फॉर एन अनसर्टेन वर्ल्ड" का जिक्र किया। इस किताब का अभी विमोचन नहीं हुआ है।"

लद्दाख: भारत को बड़ी कामयाबी, हमारे कंट्रोल में जीत दिलाने वाली जगह

विदेश मंत्री ने कहा कि भारत भी आगे बढ़ रहा है, लेकिन उसकी रफ्तार चीन जितनी नहीं है। उन्होंने कहा, "लेकिन, अगर आप बीते 30 साल देखें तो, भारत की उन्नति भी वैश्विक कहानी है। अगर आपके पास दो देश हैं, दो समाज हैं जिनकी आबादी अरबों में हैं, इतिहास है, संस्कृति है, तो यह अहम है कि उनके बीच किसी तरह की समझ या संतुलन बने।"

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Important for India and China to reach some kind of equilibrium says EAM Dr S Jaishankar