ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News देशमोदी को फंसाने के लिए बनाया गया था दबाव, लेकिन नहीं मचाई हाय तौबा; अमित शाह का कांग्रेस पर अटैक

मोदी को फंसाने के लिए बनाया गया था दबाव, लेकिन नहीं मचाई हाय तौबा; अमित शाह का कांग्रेस पर अटैक

कांग्रेस पर तंज कसते हुए अमित शाह ने कहा, "हमने तो काले कपड़े नहीं पहने। हमने तो कोई विरोध नहीं किया। एक राज्य के मुख्यमंत्री मोदी जी के खिलाफ एसआईटी बनाई। कोई करप्शन का केस नहीं था।"

मोदी को फंसाने के लिए बनाया गया था दबाव, लेकिन नहीं मचाई हाय तौबा; अमित शाह का कांग्रेस पर अटैक
Amit Kumarलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीWed, 29 Mar 2023 10:32 PM
ऐप पर पढ़ें

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने बुधवार को कांग्रेस पर बड़ा आरोप लगाते हुए कहा कि कांग्रेस अपने शासन काल के दौरान सीबीआई के जरिए एक फर्जी केस में नरेंद्र मोदी को फंसाना चाहती थी। उन्होंने कहा कि सीबीआई ने फर्जी मुठभेड़ केस में नरेंद्र मोदी जी को फंसाने के लिए मुझ पर दबाव बनाया था। अमित शाह ने कहा कि उस वक्त नरेंद्र मोदी गुजरात के मुख्यमंत्री और वे खुद राज्य के गृह मंत्री थे। 

नेटवर्क18 समूह के ‘राइजिंग इंडिया सम्मेलन 2023’ में बोलते हुए केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा, "मैं केंद्रीय एजेंसियों के दुरूपयोग का भुक्तभोगी हूं। हमारे खिलाफ क्या भ्रष्टाचार का केस कांग्रेस ने नहीं किया था? एक एनकाउंटर हुआ था। उस समय मैं राज्य (गुजरात) का गृह मंत्री था। सीबीआई ने मुझे अरेस्ट किया था। अगर कांग्रेस की सरकार ने मिटा नहीं दिया होगा तो आज भी सीबीआई के रिकॉर्ड में पड़ा होगा। 90 परसेंट सवालों में यही था कि 'काहे को परेशान हो रहे हो, मोदी का नाम ले लो, आपको छोड़ देंगे'।"

कांग्रेस पर तंज कसते हुए अमित शाह ने आगे कहा, "हमने तो काले कपड़े नहीं पहने। हमने तो कोई विरोध नहीं किया। एक राज्य के मुख्यमंत्री मोदी जी के खिलाफ एसआईटी बनाई गई थी। कोई करप्शन का केस नहीं था। दंगों में भूमिका का फर्जी केस किया जिसे अंत में सुप्रीम कोर्ट ने खारिज किया। हमने तो कोई हाय तौबा नहीं मचाई। कभी काले कपड़े पहनकर संसद को हमने जाम नहीं किया।" गृह मंत्री ने आगे कहा, "मुझे पकड़कर अरेस्ट किया। 90 दिन में हाईकोर्ट ने मुझे बेल दे दी। कोर्ट ने कहा कि अरेस्ट करने के लिए प्रयाप्त सबूत ही नहीं है।"

उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने उनके खिलाफ गुजरात से बाहर मुंबई में केस चलाया। लेकिन उन्हें कोई आपत्ति नहीं हुई। वहां के कोर्ट ने कहा, "राजनीतिक प्रतिशोध की भावना से सीबीआई ने राजनीतिक इशारों पर ये केस किया है। इसलिए हम अमित शाह के खिलाफ केस को और सारे आरोपों को खारिज करते हैं। हमने हाय तौबा नहीं की थी। तब भी यही लोग थे पी चिदंबरम, सोनिया गांधी, राहुल गांधी। लेकिन हमने उनके खिलाफ कोई झूठा मामला दर्ज नहीं किया है।"

केंद्रीय जांच एजेंसियों के दुरुपयोग के आरोपों पर केंद्रीय मंत्री अमित शाह ने कहा, “हमने 2014 के चुनावों में वादा किया था कि हमारी लड़ाई भ्रष्टाचार के खिलाफ है। आपातकाल के दौरान लाखों निर्दोष नेताओं को सलाखों के पीछे डाल दिया गया था।"