DA Image
21 नवंबर, 2020|11:05|IST

अगली स्टोरी

ऑक्सफोर्ड के कोविड-19 टीके के मानव ट्रायल का दूसरा चरण पुणे में शुरू

serum institues s covid-19 vaccine  file pic

ऑक्सफोर्ड के कोविड-19 टीके का मानव पर दूसरे चरण का क्लीनिकल परीक्षण पुणे में बुधवार को एक मेडिकल कॉलेज अस्पताल में शुरू हो गया। इस टीके का निर्माण यहां स्थित सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (एसआईआई) द्वारा किया जा रहा है। 

अस्पताल के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि दो स्वयं सेवियों को भारती विद्यापीठ मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल में टीके की खुराक दी गई। ये दोनों पुरूष हैं। उन्होंने बताया कि परीक्षण दोपहर एक बजे शुरू हुआ। 

भारती विद्यापीठ के मेडिकल कॉलेज, अस्पताल एवं अनुसंधान केंद्र के मेडिकल निदेशक डॉ संजय ललवानी ने कहा, ''अस्पताल के चिकित्सकों ने 32 वर्षीय एक व्यक्ति की कोविड-19 जांच रिपोर्ट और एंटीबॉडी जांच रिपोर्ट नेगेटिव आने के बाद उसे 'कोवीशील्ड टीके की पहली खुराक दी।'' 

ये भी पढ़ें: देश में कोरोना वैक्सीन की रेस में कौन सबसे आगे? ICMR ने बताया

उन्होंने बताया कि 48 वर्षीय एक अन्य व्यक्ति को भी इस टीके की खुराक दी गई। उन्होंने बताया कि पांच स्वयंसेवियों ने परीक्षण के लिये अपना नाम पंजीकृत कराया था। जांच में उनमें से तीन व्यक्तियों में एंटीबॉडी पाए गए। इसलिए उन पर टीके का परीक्षण नहीं किया जा सकता। 

ललवानी के मुताबिक अगले सात दिनों में कुल 25 स्वयंसेवियों को टीके की खुराक दी जाएगी। एसआईआई ने ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय के जेनर इंस्टीट्यूट द्वारा विकसित संभावित टीके के निर्माण के लिये एक समझौते पर हस्ताक्षर किया है। 

महाराष्ट्र के मंत्री डॉक्टर विश्वजीत कदम ने बुधवार को कहा, पुणे के भारती हॉस्पीटल में 5 वालेंटियर्स को कोरोना वैक्सीन का पहला डोज दिया गया है। वे अगले दो महीने तक मेडिकल पर्यवेक्षण में रहेंगे।

ये भी पढ़ें: अमेरिका, ब्रिटेन, जापान जैसे देशों में कोरोना वैक्सीन खरीदने की होड़

कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के बीच लोग वैक्सीन के इंतजार में हैं। भारत में जिस वैक्सीन पर सबसे ज्यादा नजर है, वह ऑक्सफोर्ड और सीरम इंस्टीट्यूट द्वारा बनाई जा रही 'कोविशील्ड' है। मीडिया में 'कोविशील्ड' की उपलब्धता के बारे में हो रहे दावों पर सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया ने सफाई दी है।

सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया ने रविवार को कहा कि इंस्टीट्यूट स्पष्ट करता है कि मीडिया में कोविशील्ड की उपलब्धता पर वर्तमान दावे पूरी तरह से गलत और अनुमान पर आधारित हैं। उन्होंने कहा, 'वर्तमान में, सरकार ने हमें केवल वैक्सीन का निर्माण करने और भविष्य में उपयोग के लिए भंडार करने की अनुमति दी है।'

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Human trial of Seroma Institute corona vaccine begins in India