ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News देश‘अभिमन्यु सरीखी लड़ाई’ में हिमंत शर्मा को पटकनी, करिश्मे से कम नहीं राहुल के करीबी नेता की ये जीत

‘अभिमन्यु सरीखी लड़ाई’ में हिमंत शर्मा को पटकनी, करिश्मे से कम नहीं राहुल के करीबी नेता की ये जीत

राहुल गांधी के करीबी गौरव गोगोई की जोरहाट सीट से जीत किसी करिश्मे से कम नहीं है क्योंकि इस सीट को जीतने के लिए सत्तारूढ़ दल भाजपा ने अपनी पूरी ताकत झोंक दी थी और यह सीट प्रतिष्ठा का सवाल बन गयी थी।

‘अभिमन्यु सरीखी लड़ाई’ में हिमंत शर्मा को पटकनी, करिश्मे से कम नहीं राहुल के करीबी नेता की ये जीत
how himanta sharma defeated in battle like abhimanyu victory of gaurav gogoi no less than miracle
Amit Kumarपीटीआई,जोरहाटWed, 05 Jun 2024 04:54 PM
ऐप पर पढ़ें

दुनिया का सबसे बड़ा लोकतांत्रिक पर्व बड़ी ही सफलता के साथ 4 जून को संपन्न हो गया। 4 जून को आए लोकसभा चुनाव 2024 के नतीजों में किसी भी एक दल को स्पष्ट बहुमत नहीं मिला लेकिन सत्ताधारी राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) ने बहुमत का आंकड़ा पार कर लिया जिससे एक बार फिर से नरेंद्र मोदी के प्रधानमंत्री बनने का रास्ता लगभग साफ है। कल आए नतीजों में पक्ष और विपक्ष के लिए कई चौंकाने वाले झटके लगे। इनमें से एक झटका सत्ताधारी भाजपा को असम में लगा जब राहुल गांधी के बेहद करीबी नेता ने जोरहाट सीट अपने नाम कर ली। 

कांग्रेस नेता गौरव गोगोई की जोरहाट सीट से जीत किसी करिश्मे से कम नहीं है क्योंकि इस सीट को जीतने के लिए सत्तारूढ़ दल भाजपा ने अपनी पूरी ताकत झोंक दी थी और इस सीट पर जीत प्रतिष्ठा का सवाल बन गयी थी। असम के मुख्यमंत्री और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेता हिमंत विश्व शर्मा ने कई दिन केवल इस सीट पर प्रचार के लिए दिए जबकि उनके मंत्रियों और विधायकों ने हफ्तों तक यहां डेरा डाले रहा। इस सीट पर गौरव गोगोई का मुकाबला भाजपा के तपन कुमार गोगोई से था और इस मुकाबले को महाभारत के प्रसिद्ध किरदार अभिमन्यु के युद्ध के तौर पर देखा जा रहा था।

लगातार दूसरी बार जीतना चाहते थे तपन कुमार गोगोई 

निर्वाचन आयोग के आंकड़ों के मुताबिक गौरव गोगोई ने जोरहाट सीट तपन कुमार गोगोई को 1,44,393 मतों के अंतर से हराकर सत्तारूढ़ दल से छीन ली है। तपन कुमार गोगोई लगातार दूसरी बार इस सीट से जीत के लिए मैदान में थे जबकि गौरव कलियाबोर सीट से दो बार लोकसभा सदस्य चुने गए थे और परिसीमन के बाद इस सीट का नाम काजीरंगा दिया गया है। परिसीमन के बाद, लोकसभा में कांग्रेस के उपनेता गौरव को जोरहाट में भाजपा से मुकाबला करने की जिम्मेदारी सौंपी गई जो गत 10 वर्षों में सत्तारूढ़ दल का गढ़ था।

जोरहाट में प्रचार करने के लिए भाजपा का कोई राष्ट्रीय नेता नहीं आया, जबकि कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी वाद्रा ने गौरव के पिता और असम के पूर्व मुख्यमंत्री तरुण गोगोई के विधानसभा क्षेत्र रहे टीटाबोर में विशाल रोड शो का नेतृत्व किया। तपन गोगोई के लिए पूरे अभियान का नेतृत्व मुख्यमंत्री शर्मा ने किया। उन्होंने जोरहाट लोकसभा सीट के अंतर्गत सभी 10 विधानसभा क्षेत्रों में कई सभाओं को संबोधित किया और कई रोड शो किए।

मैं अभिमन्यु की तरह हूं जो चक्रव्यूह में दाखिल हुआ...

जोरहाट सीट पर 19 अप्रैल को मतदान से पहले गौरव ने कहा था, ‘‘मैं अभिमन्यु की तरह हूं जो चक्रव्यूह में दाखिल हुआ और मारा गया, लेकिन इस लड़ाई में मैं चक्रव्यूह को तोड़कर विजयी बनकर निकलूंगा।’’ जोरहाट में 17,32,944 मतदाता हैं, जिनमें से 8,78,356 महिलाएं, 8,54,583 पुरुष और पांच तीसरे लिंग के हैं। हालांकि, गौरव हमेशा सदन के अंदर और बाहर भाजपा सरकार के खिलाफ मुखर रहे हैं, लेकिन पिछले साल अगस्त में नरेन्द्र मोदी सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाने के बाद वह सुर्खियों में आए थे। उस मौके पर दिया गया उनका भाषण चर्चा में आया था और युवाओं में खासतौर पर लोकप्रिय हुआ।

पिछले लोकसभा चुनाव भाजपा के गोगोई ने कांग्रेस के सुशांत बोरगोहिन के 4,60,635 वोटों के मुकाबले 5,43,288 वोट प्राप्त करके 82,653 वोटों के अंतर से जीत हासिल की थी। बोरगोहिन बाद में भाजपा में शामिल हो गए थे। गौरव (41) चुनावी राजनीति में पहली बार 2014 में तब आए, जब उन्होंने लोकसभा के लिए चुनाव लड़ा था। उस समय उनके पिता असम के मुख्यमंत्री थे। गौरव गोगोई ने 16वीं लोकसभा के लिए कलियाबोर सीट से दर्ज की।

राहुल गांधी के करीबी 

राहुल गांधी के करीबी माने जाने वाले गौरव गोगोई कई संसदीय समितियों जैसे रेलवे संबंधी स्थायी समिति, संचार और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय की परामर्शदात्री समिति, तथा प्रोटोकॉल मानदंडों के उल्लंघन और सरकारी अधिकारियों द्वारा लोकसभा सदस्यों के साथ अपमानजनक व्यवहार संबंधी समिति के सदस्य बने। गौरव 2019 में कलियाबोर से लगातार दूसरी बार लोकसभा के लिए निर्वाचित हुए। इस बार उन्हें लोकसभा में वित्त संबंधी स्थायी समिति, सरकारी आश्वासनों संबंधी समिति और पूर्वोत्तर क्षेत्र विकास मंत्रालय की परामर्शदात्री समिति का सदस्य नामित किया गया। गौरव गोगोई ने इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग में बीटेक और लोक प्रशासन में एमए की पढ़ाई की है। उनकी शादी एलिजाबेथ गोगोई से हुई है और उनका एक बेटा है।