DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

Exclusive Interview: सिविल सर्विस छोड़ते हुए खुशी नहीं हो रही- शाह फैसल

Shah Faesal

कश्मीर की समस्याओं के उचित समाधान ने होने से नाराज शाह (Shah Faesal) फैसल ने हाल ही में भारतीय प्रशासनिक सेवा (Indian Administrative Service) से इस्तीफा दे दिया था। शाह फैसल ऐसे कश्मीरी नौजवान हैं, जो जम्मू-कश्मीर सूबे से पहली बार 2009 में सिविल सेवा टॉपर बने थे। वह केंद्र और राज्य सरकारों के रवैये से खासे नाराज हैं और अब राजनीति के जरिए आगे का रास्ता तलाश रहे हैं। शाह की भावी योजनाओं को लेकर हिनदुस्तान के ब्यूरो चीफ मदन जैड़ा ने उनसे विस्तृत बातचीत की-

प्रश्न- जिस सविल सेवा में आने के सपने करोड़ों भारतीय नौजवान दिन-रात देखते हैं, उसे छोड़ने का फैसला आपने क्यों किया?
उत्तर- देखिए, हमारे सूबे में राजनीति पूरी तरह से फेल हो गई है। पिछले 30 साल से जो हिंसा चल रही थी, वह बढ़ती गई। नौजवान मुख्यधारा से दूर हो चुके हैं। दिल्ली से कुछ समाधान नहीं हो रहा है। कश्मीर के लोगों में बहुत ज्यादा गुस्सा है। यह एक बड़ी राजनीतिक चुनौती है। इसके अलावा, देश के दूसरे हिस्सों में भी असहिष्णुता बढ़ी है। मैंने देखा है कि काफी समय से कश्मीरी पंडित घर आना चाहते हैं। उनसे वादे किए गए, लेकिन वे पूरे नहीं हुए। मैं इन पर बात करना चाहता था, लेकिन सरकारी सेवा में रहते हुए मेरे लिए इन मुद्दों पर बात करना संभव नहीं था। एक-दो साल से सोच रहा था कि इस चुनौती का जवाब देना चाहिए। यही सोचकर यह कदम उठाया। सिविल सेवा से मेरा इस्तीफा केंद्र सरकार के लिए एक पैगाम है। मैंने उसे याद दिलाया है कि जम्मू-कश्मीर के आवाम के लिए आपकी कुछ जिम्मेदारियां हैं, जिन्हें आप पूरा नहीं कर रहे।

प्रश्न- जब आपने सिविल सेवा परीक्षा में टॉप किया था, तब कश्मीर घाटी में आपके पोस्टर लगे थे, ताकि नौजवान आपसे प्रेरणा लें, लेकिन अब इस सेवा को छोड़ना नौजवानों को हतोत्साहित नहीं करेगा?
उत्तर- मैंने इसलिए सेवा नहीं छोड़ी कि इसमें कोई समस्या थी या मैं इस नौकरी में कुछ नहीं कर पाया। सिविल सेवा तो मेरे लिए सबसे बड़ी चीज थी। मगर जिंदगी में कुछ ऐसे मौके आते हैं, जब आपको भी कुछ कुर्बानियां देनी पड़ती हैं। कश्मीर में लोग अपनी जान दे रहे हैं। अपनी जमीनें दे रहे हैं। अपने सपने तोड़ रहे हैं। मैंने भी नौकरी छोड़कर कुर्बानी दी है। जहां तक नौजवानों का सवाल है, तो जो युवा सिविल सेवा की तैयारी कर रहे हैं, उनसे मैंने हमेशा यही कहा है कि ऐसी संभावनाएं दुनिया की किसी सेवा में नहीं हैं। मैंने तो यह भी कहा है कि मुझे इस सेवा को छोड़ते हुए खुशी नहीं हो रही है।

मुख्य धारा की किसी पार्टी में नहीं शामिल होंगे J&K के पहले IAS टॉपर शाह फैसल

प्रश्न- क्या आपको लगता था कि एक नौकरशाह के रूप में आप कश्मीर की समस्याओं को हल नहीं कर सकते?
उत्तर- कर सकते हैं, जम्मू-कश्मीर की बहुत सारी समस्याएं हैं, जो नौकरशाह दूर कर सकते हैं। वह भी महत्वपूर्ण है। लेकिन मेरे सामने ऐसी चुनौती थी, जो कहीं ज्यादा जरूरी है। जो अस्तित्व से जुड़ी है। आज पढ़े-लिखे नौजवान बंदूक उठाकर मर रहे हैं और इसका समाधान नौकरशाही के पास नहीं है। यह एक सियासी मसला है। जब तक हम लोगों की आकांक्षाओं की बात नहीं करेंगे, तब तक कुछ भी नहीं हो सकता। इसलिए मैं कह रहा हूं कि राजनीतिक हस्तक्षेप जरूरी है।

प्रश्न- अब आपका अगला कदम क्या होगा?
उत्तर-
मैं सोच रहा हूं कि चुनाव लड़ूं। मैं कश्मीर के अवाम से बात करने जा रहा हूं। हालांकि यहां के अवाम, खासकर नौजवानों को चुनावी राजनीति से कोई मतलब नहीं है, क्योंकि उन्हें यही लगता है कि चुनावी राजनीति के नाम पर उन्हें बार-बार ठगा गया है। मैं घाटी के नौजवानों से कहता हूं कि चुनावी राजनीति में आना चाहिए। हम चुनाव लड़कर भी आपकी बात को नहीं झुठलाएंगे। 

प्रश्न- जो कश्मीरी नौजवान देश और फौज के खिलाफ हथियार उठा रहे हैं, उनसे भी आप राजनीति में आने का अनुरोध करेंगे?
उत्तर-
देखिए, हर कोई अपना रास्ता खुद चुनता है। उन्होंने अपना एक रास्ता चुना है। यदि कोई इंसान अपनी जान पर खेलकर कोई रास्ता चुने, तो आपको यह समझने की जरूरत कि उसकी मानसिकता क्या रही होगी? एक इंसान, जो अपनी जान से खेल रहा है, उसे मैं क्या बोलूं? मुझे बहुत दुख होता है, जब ये नौजवान मुठभेड़ में मारे जाते हैं, या जब कोई सैनिक शहीद होता है।

IAS टॉपर रहे शाह फैसल ने दिया इस्तीफा, बारामूला से लड़ेंगे लोकसभा चुनाव

प्रश्न- कश्मीर समस्या को आप आखिर किस रूप में देखते हैं?
उत्तर-
यह सिर्फ एक राजनीतिक मसला है। कश्मीरियों के जेहन में यह बात 1947 से है। यह कोई कल की बात नहीं है। यह 2008 की बात भी नहीं है। जब से देश आजाद हुआ है, तभी से भारत सरकार और जम्मू-कश्मीर के बीच बातचीत हो रही है। केंद्र सरकार और कश्मीर के बीच एक अनोखा रिश्ता है, इस रिश्ते में खटास कैसे आई और अब वह कैसे दूर हो सकती है, इसे देखना होगा।

प्रश्न- आप कश्मीर की स्वायत्तता के पक्षधर हैं?
उत्तर-
मैं चाहता हूं कि कश्मीरियों की बात सुनी जाए। अभी हम यह नहीं कहते हैं कि समाधान क्या है? हम तो यह कह रहे हैं कि सामाधान तलाशने से पहले कश्मीरियों से बातचीत हो। समाधान बाद में देखेंगे। खासकर जो कश्मीरी राजनीतिक रूप से आपसे सहमत नहीं, उनकी बात सुनी जानी चाहिए। यहां के कई कानून ऐसे हैं, जिनको सरल बनाए जाने की जरूरत है। हुर्रियत से बात की जानी चाहिए। सेना की उपस्थिति ज्यादा है। नागरिकों और सेना के बीच टकराव को कम किया जाना चाहिए। इसी से समाधान निकलेगा।

प्रश्न- कश्मीरी नौजवान बंदूक उठाते हैं। मुठभेड़ में मारे जाते हैं, फिर नई भर्तियां होती हैं, फिर मारे जाते हैं, यह सिलसिला कब तक चलेगा?
उत्तर-
यदि आप आतंकियों को मारकर आतंकवाद खत्म कर सकते, तो यह कब का खत्म हो चुका होता। इस आतंकवाद को आपको दूसरे संदर्भ में देखना होगा। लोगों की भावनाओं को समझने और उसे एड्रेस करने की जरूरत है। आज यदि वहां कोई विश्वविद्यालय में भाषण देता है, तो आप कहते हैं कि यह देश की एकता और अखंडता के खिलाफ है। ऐसे में, वहां घुटन का माहौल पैदा होता है। इसी माहौल में पीएचडी स्कॉलर भी बंदूक उठाने पर मजबूर हो जाता है। मैं तो यही कहता हूं कि विचारों को प्रकट करने दीजिए। 

प्रश्न- केंद्र सरकार का कहना है कि जम्मू-कश्मीर को पहले ही बहुत स्वायत्तता दी जा चुकी है?
उत्तर-
इधर, कुछ वर्षों से, जो स्वायत्तता या विशेष दर्जा कश्मीर को मिला हुआ है, उसे भी खत्म करने की कोशिशें हो रही हैं। अनुच्छेद 370 और अनुच्छेद 35ए को खत्म करने की कोशिशें हो रही हैं। जो पहले से है, उसे भी वापस लिया जा रहा है। लोगों को उकसाया जा रहा है कि हम संविधान में प्रदत्त सुविधाओं को आपसे वापस ले लेंगे। हम आपके विशेष दर्जे के खिलाफ हैं। मैं कहता हूं कि अपने लोगों के खिलाफ जंग लड़कर नहीं जीती जा सकती। 

प्रश्न- कश्मीर में सेना और सुरक्षा बलों की भूमिका को आप कैसे देखते हैं?
उत्तर-
सेना और सुरक्षा बल सियासी निजाम के अंदर काम करते हैं। सेना अपनी तरफ से कुछ नहीं करती। वह सरकार का प्रतिनिधित्व करती है। जवान शहीद होते हैं। इसका दुख उनका परिवार जानता है। राजनीतिक लोग जवानों और सेना को आगे कर देते हैं। मैं एक उदाहरण देता हूं। कर्नल राय मेरे दोस्त थे। वह यहीं तैनात थे। जब वह शहीद हुए, तो मुझे बहुत दुख हुआ। उनके परिवार और बच्चे को देखकर मुझे रोना आता है। मुझे एहसास हुआ कि वह यहां कश्मीरियों को मारने नहीं आए थे। वह तो अपनी भूमिका निभा रहे थे। वह चाहते थे कि इस समस्या का समाधान हो। राजनेता भी आगे आएं। लेकिन ऐसा नहीं हुआ। यह क्रम जारी है। दरअसल, जब राजनीतिक लोग फेल हो जाते हैं, तो सेना को आगे आना पड़ता है और जवानों को अपनी शहादत देनी पड़ती है।

प्रश्न- एक धारणा यह भी है कि कश्मीर समस्या कुछ लोगों के लिए वरदान बन गई है, वे इसका समाधान चाहते ही नहीं?
उत्तर-
हां, आप दुरुस्त कह रहे हैं। यह होता है। संघर्ष क्षेत्र में चीजें रूटीन बन जाती हैं। मरना-मारना एक रोजाना का काम हो जाता है। आज दस मारे गए, तो कल पांच। हर युद्ध क्षेत्र की अपनी एक अर्थव्यवस्था विकसित हो जाती है। बंदूक के साथ पकड़ने पर इनाम मिलता है। आतंकी मारे जाते हैं, तब भी इनाम मिलता है। मुखबिरों को सूचना देने के लिए पैसा मिलता है। बंदूकें एक जगह से दूसरी जगह ले जाने के लिए भी पैसे मिलते हैं। इस प्रकार, युद्ध क्षेत्र की एक अर्थव्यवस्था जब विकसित हो जाती है, तो उसे राजनीतिक हस्तक्षेप के बिना खत्म करना संभव नहीं होता है।

प्रश्न- कश्मीर समस्या के समाधान के बारे में आप क्या सोचते हैं?
उत्तर-
बहुत सारी मांगें की जाती हैं। बहुत सारे समाधान के विजन भी दिए जाते हैं। कुछ लोग स्वायत्तता की बात करते हैं, कुछ स्वशासन की। कोई जनमत संग्रह की मांग करता है, तो कोई बाहरी हस्तक्षेप से समाधान की। और भी कई मांगें होंगी। लेकिन मैं कहता हूं कि जब तक आप लोगों के साथ बैठेंगे नहीं, तब तक बात आगे नहीं बढ़ेगी। पहले आप समस्या को स्वीकार करें। बीमारी की पहचान करें। उसके बाद समाधान पर बात होगी।

प्रश्न- आपने हिंदुत्ववादी ताकतों के खिलाफ अपनी नाराजगी प्रकट की है, आपका इशारा किसकी तरफ है?
उत्तर-
यह मसला नोएडा के करीब हुई एक मॉब लिंचिग का लेकर था। मैंने एक वीडियो देखा था। इस वीडियो में एक व्यक्ति कह रहा है कि उसने एक मुस्लिम को तब मारा, जब वह पानी मांग रहा था। उसका कहना था कि जैसे तुमने बिना पानी के मेरी गाय को मारा, वैसे ही मैं तुम्हें मारूंगा। वीडियो में वह यह भी कहता है कि जब वह जेल गया, तो उसका स्वागत किया गया। जिस देश को बुद्ध और गांधी की भूमि कहा जाता है, वहां ऐसी मानसिकता कहां से आ गई? यह मानसिकता पहले भारत में नहीं थी। भारत हिंदू-मुस्लिम एकता और सांप्रदायिक सौहार्द का उदाहरण था। हमने उसे खत्म कर दिया। अब हमारे पास दुनिया को दिखाने के लिए क्या रह गया? एक बात और, मैं हिंदू-और हिंदुत्व में फर्क मानता हूं। मैं शशि थरूर के विचार से सहमत हूं। जिस प्रकार, मुस्लिम और मुस्लिम आतंकवाद में फर्क है। उसी प्रकार, हिंदू और हिंदुत्व में भी फर्क है। हमें इन्हें अलग-अलग ही रखना चाहिए।

प्रश्न- गुमराह कश्मीरी नौजवानों को पाकिस्तानी मदद को लेकर आप क्या कहेंगे?
उत्तर-
देखिए, कश्मीरियों की अपनी भावनाएं हैं। कभी कहा जाता है कि अमेरिका से संदेश आ रहे हैं, तो कभी कहते हैं कि पाकिस्तान से मदद मिल रही है। ऐसा कहकर असली मुद्दे की अनदेखी की जाती है। हमें चाहिए कि पहले हम अपने लोगों से बात करें, उनका भरोसा जीतें। फिर देखेंगे कि कोई और क्या कर रहा है और उससे कैसे निपटें।

प्रश्न- आपके नेशनल कांफ्रेंस में शामिल होने की चर्चा जोरों पर है?
उत्तर-
मैंने अभी किसी मौजूदा राजनीतिक दल में शामिल होने का कोई फैसला नहीं किया है।

प्रश्न- तो क्या आप अलग पार्टी बनाने जा रहे हैं?
उत्तर-
अभी मैं लोगों से मिल रहा हूं, उनसे जैसा फीडबैक मिलेगा, उसी के मुताबिक मैं अपना कदम उठाऊंगा।

प्रश्न- जम्मू-कश्मीर का विकास क्या समाधान का रास्ता हो सकता है?
उत्तर-
यह एक तरीका है। आप सूबे के विकास के मुद्दों को देखिए। अवाम को अच्छा शासन-प्रशासन दीजिए। लेकिन यह मत कहिए कि इसी से कश्मीर समस्या हल हो जाएगी। इसके साथ ही राजनीतिक हल भी तलाश कीजिए। यदि कोई यह सोचता है कि घाटी के नौजवानों को रोजगार देकर कश्मीर में आतंकवाद खत्म हो जाएगा, तो यह पूरी तरह से सही नहीं। बल्कि उल्टा हो रहा है। रोजगार छोड़कर नौजवान आतंकी बन रहे हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Hindustan Exclusive Interview with Shah Faesal says he is not happy for leaving the Indian Administrative Service