DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

राजस्थान और मध्य प्रदेश में भारी बारिश, दो की मौत

Heavy rain prediction by NDMA (File Pic)

मानसून के रफ्तार पकड़ने से मध्यप्रदेश का बड़ा हिस्सा एक बार फिर पानी से तरबतर हो गया है। भोपाल समेत कई जिलों में शुक्रवार से रुक-रुककर बारिश होती रही। इसके चलते पारे में गिरावट दर्ज की गई। वहीं राजस्थान के  बारां जिले में शनिवार तड़के भारी बारिश के कारण छत गिरने के कारण दो लड़कियों की मौत हो गई। 

महागठबंधन से अलग बीजेपी 2019 में मोदी सरकार की उपलब्धियों पर करेगी फोकस
मौसम विभाग के मुताबिक, पूर्वी मध्यप्रदेश और आसपास के क्षेत्र से दक्षिणी उत्तरप्रदेश, हरियाणा और पंजाब तक स्पष्ट चिह्नित कम दवाब का क्षेत्र बना हुआ है। इसके चलते एक बार फिर समूचे प्रदेश में झमाझम बारिश का दौर शुरू हो गया है। वहीं हिमालय पर्वत शृंखला से शक्तिशाली पूर्वी हवाएं डेढ़ से लेकर साढ़े तीन किलोमीटर प्रति घंटा की गति से दक्षिण-पूर्वी हवाओं के रूप में उत्तरी और दक्षिण-पूर्वी मध्यप्रदेश में आ रही हैं। इसके कारण प्रदेश में ठंड महसूस हो रही है। प्रदेश के शिवपुरी में पिछले करीब सात दिन से लगातार जारी बारिश से कई क्षेत्र पानी से घिर गए हैं। बघेलखंड क्षेत्र के रीवा, सतना और सीधी में भी भारी बारिश और जगह-जगह जलभराव की खबरें हैं। राजस्थान के कई जिलों में भी बारिश का दौर जारी है और मौसम विभाग ने अगले 24 घंटे में कम से कम पांच जिलों में मूसलाधार बारिश की चेतावनी जारी की है। मौसम विभाग के प्रवक्ता ने बताया कि राज्य के धौलपुर, झालावाड़, डूंगरपुर, पाली व करौली में आने वाले 24 घंटे में बहुत भारी बारिश का अनुमान है। इन जिलों में 115.6 से 204.4 मिलीमीटर तक की बारिश हो सकती है। इस बीच बारां जिले में शनिवार तड़के एक घर की छत गिरने के कारण दो लड़कियों की मौत हो गई और उनके चार रिश्तेदार घायल हो गए। पुलिस ने बताया कि कवाई थाना क्षेत्र के कुंवरपुरा गांव में तड़के तीन बजे यह हादसा हुआ। 

पेट में ड्रग्स ले जा रही गर्भवती विदेशी महिला को 10 साल कैद  

ओडिशा में बाढ़ से तीन लाख से ज्यादा लोग प्रभावित
ओडिशा में वैतरणी नदी का पानी कई गांवों में घुस गया जिससे शनिवार को तीन तटीय जिलों भद्रक, जाजपुर और केंद्रपाड़ा में तीन लाख से ज्यादा लोग प्रभावित हो गए। वैतरनी नदी का पानी हालांकि कियोनझार जिले के खेतों में भी घुस गया। हालांकि नदी के निकट रह रहे लोग अभी इससे प्रभावित नहीं हुए हैं। विशेष राहत आयुक्त कार्यालय के सूत्रों ने बताया कि जाजपुर जिले के चार ब्लॉक, भद्रक के चार ब्लॉक और केंद्रपाड़ा के दो ब्लॉक में बाढ़ की स्थिति काफी भयावह है। जल संसाधन विभाग के सूत्रों के अनुसार वैतरनी नदी भद्रक जिले के अखुपाड़ा में खतरे के निशान से ऊपर बह रही है।  

नगालैंड के बारिश प्रभावित दो जिलों की रिपोर्ट पेश
नगालैंड में अगस्त के मध्य तक बारिश से सबसे ज्यादा प्रभावित फेक और कैफाइर के जिला प्रशासन ने इससे हुए नुकसान और उसकी मरम्मत को आवश्यक निधि के लिए केंद्रीय दल को रिपोर्ट पेश की। अधिकारियों ने बताया कि शुक्रवार को कोहिमा में पांच सदस्यीय अंतर मंत्रालयी केंद्रीय दल के सामने यह रिपोर्ट पेश की गई। अभी अन्य जिलों से रिपोर्ट नहीं आई है। यह रिपोर्ट मीडिया को भी उपलब्ध कराई गई।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:heavy rainfall in madhya pradesh and rajasthan two died