ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News देशखत्म होने वाली है हीटवेव, फिर इन राज्यों में होगी बारिश ही बारिश; IMD ने बता दी तारीख

खत्म होने वाली है हीटवेव, फिर इन राज्यों में होगी बारिश ही बारिश; IMD ने बता दी तारीख

IMD Rain Alert in India: नागपुर जिले में बारिश हुई और विदर्भ क्षेत्र के विभिन्न जिलों में अगले तीन दिनों तक बारिश जारी रहने की संभावना है। बारिश के कारण विदर्भ के इलाकों में पारे में गिरावट आई।

खत्म होने वाली है हीटवेव, फिर इन राज्यों में होगी बारिश ही बारिश; IMD ने बता दी तारीख
Amit Kumarलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीThu, 09 May 2024 08:31 PM
ऐप पर पढ़ें

IMD Rain Alert in India: चिलचिलाती गर्मी से भारत के ज्यादातर राज्य परेशान हैं। ऐसे में भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने गुरुवार को राहत भरी खबर दी है। आईएमडी ने बताया कि देश भर में हीटवेव (लू) खत्म होने वाली है। हालांकि, पश्चिम राजस्थान और केरल के कुछ इलाके अभी भी लू की चपेट में हैं, जिसके कारण अधिकारियों को अलर्ट जारी करना पड़ा है। आईएमडी वैज्ञानिक सोमा सेन ने कहा कि पश्चिमी राजस्थान के लिए हीटवेव अलर्ट जारी है। हालांकि उन्होंने कहा कि इस अलर्ट को अब येलो अलर्ट में बदल दिया गया है।

सेन ने कहा, "हमने इसे येलो अलर्ट के साथ जारी किया है क्योंकि हमें इसके असर की बहुत ज्यादा उम्मीद नहीं है।" उन्होंने मौसम के मिजाज में बदलाव के लिए बंगाल की खाड़ी से आने वाले मजबूत नमी प्रवाह को जिम्मेदार ठहराया। इस प्रवाह से विभिन्न क्षेत्रों में तूफान की गतिविधियां शुरू होने की उम्मीद है।

यहां आफत बरसा रही गर्मी

आईएमडी ने कहा कि केरल में इस समय गर्मी की स्थिति बनी हुई है। उन्होंने कहा कि त्रिशूर और पलक्कड़ में अधिकतम तापमान 39 डिग्री सेल्सियस, अलाप्पुझा में 38 डिग्री सेल्सियस, कोल्लम, कोट्टायम, पथानामथिट्टा, एर्नाकुलम, कोझीकोड और कन्नूर में 37 डिग्री सेल्सियस और तिरुवनंतपुरम, मलप्पुरम और कासरगोड जिलों में 36 डिग्री सेल्सियस रहने की संभावना है। 10 मई तक राज्य का तापमान वर्ष के इस समय के सामान्य तापमान से तीन से पांच डिग्री सेल्सियस अधिक था।

आईएमडी के अनुसार, आने वाले दिनों में मौसम में कई बदलाव होंगे जो देश के विभिन्न हिस्सों को प्रभावित कर सकता है। उन्होंने कहा कि इस बदलाव के कारण बारिश, तूफान, बिजली और तेज हवाएं चलेंगी। मौसम विभाग ने कहा कि बांग्लादेश और पास के इलाके में चक्रवाती प्रवाह मौजूद होने तथा बंगाल की खाड़ी में अधिक नमी होने के कारण 12 मई तक पश्चिम बंगाल में आंधी, बारिश होने का अनुमान है। IMD के मुताबिक, 9 मई से 12 मई तक पश्चिम बंगाल और सिक्किम में गरज, बिजली और तेज हवाओं (40-50 किमी प्रति घंटे) के साथ व्यापक रूप से हल्की से मध्यम वर्षा होने की संभावना है।

बिहार, झारखंड और ओडिशा में गरज के साथ बारिश

इसी अवधि के दौरान बिहार, झारखंड और ओडिशा में गरज और तेज हवाओं के साथ छिटपुट से लेकर काफी ज्यादा वर्षा होने की संभावना है। 9 मई को बिहार, उप-हिमालयी पश्चिम बंगाल और सिक्किम में तूफान, बिजली और तेज हवाएं (50-60 किमी प्रति घंटे) चलने का अनुमान है, जो 10-11 मई को गंगीय पश्चिम बंगाल और 10 मई को झारखंड तक फैल जाएगी। अलग-अलग स्थानों पर भारी वर्षा होगी। इस अवधि के दौरान गंगीय पश्चिम बंगाल, उप-हिमालयी पश्चिम बंगाल, सिक्किम, बिहार और ओडिशा में भी बारिश होने की संभावना है।

महाराष्ट्र में शुरू होगा बारिश का दौरा

मध्य और पश्चिमी भारत की बात करें तो, मध्य महाराष्ट्र पर एक चक्रवाती प्रवाह बन रहा है। इसके चलते उत्तर-पश्चिमी राजस्थान से लेकर पश्चिम विदर्भ तक एक और मध्य महाराष्ट्र में 9 मई से 13 मई तक गरज, बिजली और तेज हवाओं (40-50 किमी प्रति घंटे) के साथ छिटपुट वर्षा होने की संभावना है। मौसम विभाग के अधिकारियों ने कहा कि गुरुवार सुबह महाराष्ट्र के नागपुर जिले में बारिश हुई और विदर्भ क्षेत्र के विभिन्न जिलों में अगले तीन दिनों तक बारिश जारी रहने की संभावना है। बारिश के कारण विदर्भ के विभिन्न इलाकों में पारे में गिरावट आई, जहां तापमान 40 डिग्री सेल्सियस से ऊपर चल रहा था। पूर्वी मध्य प्रदेश और विदर्भ में 9 मई को आंधी, बिजली और तेज हवाएं (50-60 किमी प्रति घंटे) चल सकती हैं। 9 और 10 मई को मध्य प्रदेश और विदर्भ में और 9 मई को मध्य महाराष्ट्र और मराठवाड़ा में ओलावृष्टि की संभावना है।  

दक्षिणी और उत्तर भारत में कब होगी बारिश?

दक्षिणी भारत में, 9 मई, 12 मई और 13 मई को दक्षिण आंतरिक कर्नाटक में छिटपुट से लेकर भारी वर्षा होने की संभावना है, साथ ही इसी दौरान तमिलनाडु, पुडुचेरी, कराईकल, रायलसीमा, तेलंगाना, केरल और माहे में छिटपुट से लेकर काफी व्यापक वर्षा होने की संभावना है। इस बीच, पश्चिमी विक्षोभ के कारण 9 मई से 13 मई तक जम्मू-कश्मीर, लद्दाख, हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड में गरज, बिजली और तेज हवाओं के साथ छिटपुट से लेकर काफी व्यापक वर्षा होने की उम्मीद है। इस अवधि के दौरान उत्तराखंड में ओलावृष्टि की भी संभावना है।