ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News देशसनातन धर्म के लिए नहीं किया बलिदान; गुरु अर्जन देव पर सिख कमेटी का दावा अलग, VC के बयान पर भड़का

सनातन धर्म के लिए नहीं किया बलिदान; गुरु अर्जन देव पर सिख कमेटी का दावा अलग, VC के बयान पर भड़का

हरियाणा की एक यूनिवर्सिटी के वीसी ने कहा था कि गुरु अर्जन देव जी ने सनातन धर्म की रक्षा के लिए बलिदान दिया था। उनके इस बयान पर सिख संस्था शिरोमणि कमेटी ने आपत्ति जताई है और माफी की मांग की है।

सनातन धर्म के लिए नहीं किया बलिदान; गुरु अर्जन देव पर सिख कमेटी का दावा अलग, VC के बयान पर भड़का
Surya Prakashवार्ता,अमृतसरTue, 11 Jun 2024 05:28 PM
ऐप पर पढ़ें

सिख पंथ के पांचवें गुरु अर्जन देव जी के बारे में हरियाणा के श्री कृष्णा आयुष विश्वविद्यालय के वाइस चांसलर के बयान पर शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी ने आपत्ति जताई है। शिरोमणि कमेटी ने विश्वविद्यालय के चांसलर और हरियाणा के राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय को एक पत्र भेजकर विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर वेद करतार सिंह धीमान से स्पष्टीकरण मांगने और सिख समुदाय से माफी मांगने को कहा है। शिरोमणि कमेटी के अध्यक्ष एडवोकेट हरजिंदर सिंह धामी ने मंगलवार को कहा कि सिखों का इतिहास पूरी तरह से अनोखा और मौलिक है। इसके साथ साजिश के तहत छेड़छाड़ की जा रही है। 

इसी के तहत श्रीकृष्णा आयुष विश्वविद्यालय कुरूक्षेत्र के कुलपति ने आपत्तिजनक हरकत की है, जिसे बर्दाश्त नहीं किया जा सकता। उन्होंने कहा कि वीसी द्वारा जानबूझकर श्री गुरु अर्जन देव जी की शहादत के इतिहास को तोड़-मरोड़कर पेश करना और इसे सनातन हिंदू धर्म की रक्षा के लिए बताना पूरी तरह से गलत है। यह सिख इतिहास और सिद्धांतों को ठेस पहुंचाने वाला कृत्य है। अगर एक जिम्मेदार पद पर बैठा व्यक्ति ऐसा कृत्य करे तो यह और भी गंभीर और षडयंत्रकारी है।

एडवोकेट धामी ने कहा कि इस विश्वविद्यालय के वीसी के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जानी चाहिए क्योंकि किसी भी धर्म की भावनाओं का ख्याल रखना एक सरकारी संस्थान के जिम्मेदार अधिकारियों का कर्तव्य है। उन्होंने कहा कि गुरुओं का गुरुपर्व मनाना अच्छी बात है, लेकिन इसे सिख धर्म की परंपराओं और इतिहास को खराब करने के लिए नहीं मनाया जाना चाहिए। एसजीपीसी अध्यक्ष ने कहा कि यह गंभीर जांच का मामला है जिस पर यूनिवर्सिटी के चांसलर और हरियाणा के राज्यपाल को कड़ा संज्ञान लेना चाहिए। उन्होंने कहा कि शिरोमणि कमेटी ने हरियाणा के राज्यपाल को कार्रवाई के लिए पत्र भेजा है और अगर कार्रवाई नहीं हुई तो हम कानूनी ऐक्शन लेंगे।

कैथल में सिख युवक की पिटाई पर भी जताया विरोध, हरियाणा से ऐक्शन की मांग
इसके अलावा हरियाणा के कैथल में एक सिख युवक की पिटाई के मामले पर भी कमेटी ने ऐतराज जताया है। धामी ने कहा कि इस घटना से पूरे सिख जगत की भावनायें आहत हुई हैं। इसलिए हरियाणा सरकार को इसे गंभीरता से लेना चाहिए और राज्य में रहने वाले सिखों की सुरक्षा सुनिश्चित करनी चाहिए। उन्होंने कहा कि पिछले कुछ समय से देखा जा रहा है कि भारत देश में सिखों के खिलाफ लगातार नफरत का माहौल बनाया जा रहा है और अलग-अलग राज्यों में बिना वजह सिखों को निशाना बनाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि देश के हर वर्ग, हर धर्म और हर समुदाय के लोगों की धार्मिक स्वतंत्रता और अधिकारों की रक्षा करना सरकारों की जिम्मेदारी है। सांप्रदायिक माहौल पैदा करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जानी चाहिए।