DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

साउथ अफ्रीका में गुप्ता माइनिंग के CEO जेपी अरोड़ा की हत्या

दो भाईयों के हत्या का आरोपी DU स्टूडेंट गिरफ्तार, मजाक उड़ाने के बाद लिया था बदला

चर्चित गुप्ता बंधुओं की कंपनी के सीईओ जगन्नाथ प्रसाद अरोरा की शनिवार रात दक्षिण अफ्रीका में गोली मारकर हत्या कर दी गई। वह दक्षिण अफ्रीका के पूर्व राष्ट्रपति के साथ संबंधों को लेकर चर्चाओं में आए सहारनपुर के गुप्ता बंधुओं की खनन कंपनी के सीईओ थे। वारदात को उस समय अंजाम दिया गया, जब वह सहारनपुर के ही रहने वाले अपने एक दोस्त को लेने शनिवार की रात एयरपोर्ट जा रहे थे। 

सहारनपुर के अजय गुप्ता, अतुल गुप्ता और राजेश गुप्ता की दक्षिण अफ्रीका में जेआईसी खनन कंपनी है। मूल रूप से कस्बा नानौता के रहने वाले जगन्नाथ प्रसाद अरोरा उर्फ जेपी अरोरा (58 वर्ष) साउथ अफ्रीका में जोहानिसबर्ग स्थित उक्त कंपनी के सीईओ थे। सहारनपुर आईआईए के पूर्व अध्यक्ष सुशील सडाना उनके अच्छे मित्रों में से हैं। वह दक्षिण अफ्रीका जेपी अरोरा से मिलने गए थे।

शनिवार रात करीब 11 बजे जेपी अरोरा ओडी गाड़ी से दोस्त सुशील सडाना को लेने एयरपोर्ट जा रहे थे। तभी फिल्मी अंदाज में आधा दर्जन हमलावरों ने गाड़ी को घेर कर गोलियां बरसा दीं। जेपी अरोरा गंभीर रूप से घायल हो गए, लेकिन उन्होंने हिम्मत नहीं हारी। वह खुद घायल अवस्था में गाड़ी चलाकर पास के अस्पताल पहुंचे, लेकिन अधिक खून बह जाने के कारण जेपी अरोरा की मौत हो गई। जोहानिसबर्ग पुलिस ने अज्ञात हत्यारों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है। 

उधर, गुप्ता परिवार के नजदीकी एवं कांग्रेस के कार्यवाहक अध्यक्ष जावेद साबरी के मुताबिक खनन कंपनी के मालिक अजय गुप्ता ने दक्षिण अफ्रीका पुलिस से जल्द से हत्यारों को गिरफ्तार करने को कहा है। आशंका है कि लूटमार करने वाले गैंग ने इस वारदात को अंजाम दिया है। 

शव भारत लाया गया

दक्षिण अफ्रीका से जेपी अरोरा का शव गुरुवार को अपराह्न करीब तीन बजे दिल्ली एयरपोर्ट पर लाया गया। उसके बाद नोएडा स्थित उनके घर पर ले जाया गया। 

देश छोड़कर अरोड़ा आने वाले थे घर

दक्षिण अफ्रीका की मीडिया में चल रहीं खबरों के मुताबिक जीआईसी माइनिंग कंपनी को जल्द बंद किया जाना था। इसके लिए पिछले दिनों फैसला भी ले लिया गया था। इसके चलते कंपनी में काम करने वाले करीब 800 लोगों की नौकरी खतरे में थी। कंपनी की बंदी के बाद जेपी अरोरा परिवार समेत भारत लौटने वाले थे, लेकिन इससे पहले ही उनकी हत्या कर दी गई। 

नानौता से दक्षिण अफ्रीका तक पहुंचे

गुप्ता बंधुओं की खनन कंपनी के सीईओ जेपी अरोरा का जन्म कस्बा नानौता के मध्यम वर्गीय परिवार में हुआ था। उनके पिता चरन लाल अरोरा कस्बे में चाय की दुकान करते थे। वह दो भाई थे। पिता और भाई की मौत हो चुकी है। वर्ष दिसंबर 2001 को जेपी अरोरा ने सहारनपुर के हकीकतनगर स्थित बैंक ऑफ बड़ौदा में सीनियर मैनेजर की नौकरी की। वहां वह सितंबर 2006 तक रहे। उसके बाद वह मुंबई स्थित एसईएस टेक्नोलॉजी में चले गए। वहां वर्ष 2008 तक कार्य किया। उसके बाद जेपी आरोरा गुप्ता बंधुओं के संपर्क में आ गए और नवंबर 2008 में साउथ अफ्रीका के जोहानिसबर्ग चले गए। वहां उन्होंने पहले गुप्ता बंधुओं की कंपनी सहारा कंप्यूटर्स में सीनियर मैनेजर का पद संभाला। बाद में यह कंपनी बंद हो गई तो फिर उसके बाद खनन कंपनी का सीईओ बनाया गया।

सीसीएस यूनिवर्सिटी से ग्रेजुएट किया

जेपी आरोरा ने मेरठ स्थित चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय से ग्रेजुएट किया था। इससे पहले सहारनपुर की एसएम इंटर कालेज से पढ़ाई की थी। उन्हें काफी होनहार छात्र बताया जाता था। 

पूर्व राष्ट्रपति के साथ संबधों को लेकर चर्चा में गुप्ता बंधु रहे 

गुप्ता बंधु दक्षिण अफ्रीका के पूर्व राष्ट्रपति जैकब जुमा के साथ घनिष्ठ संबंधों को लेकर चर्चा मे रह चुके हैं। दरअसल, तीन साल पहले दक्षिण अफ्रीका के तत्कालीन उप वित्त मंत्री मसोबीसी जोनस ने गुप्ता बंधुओं पर ऐसा आरोप लगाया था कि जैकब जुमा की सरकार हिल गई थी। बाद में जैकब जुमा की सरकार चली गई। उस दौरान गुप्ता बंधुओं पर पर तमाम आरोप लगे, लेकिन बाद में उन्हें क्लीन चिट दे दी गई। फिलहाल गुप्ता बंधु अफ्रीका में ही कारोबार कर रहे हैं।

बुलंदशहर हिंसा: 4 दिन, 200 दबिशें, 100 पुलिसकर्मी और गिरफ्तारी सिर्फ 4

मध्य प्रदेश: अज्ञात लोगों ने की RPF पर पत्थराबजी, छीनकर भागे एके-47

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Gupta mining CEO murdered in South Africa