DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   देश  ›  Guna Lok Sabha Seat Result 2019: गुना से हारे कांग्रेस के दिग्गज नेता सिंधिया, कभी उनके ही सहयोगी रहे यादव ने किया पराजित

देशGuna Lok Sabha Seat Result 2019: गुना से हारे कांग्रेस के दिग्गज नेता सिंधिया, कभी उनके ही सहयोगी रहे यादव ने किया पराजित

शिवपुरी, एजेंसीPublished By: Madan
Fri, 24 May 2019 01:46 PM
Guna Lok Sabha Seat Result 2019: गुना से हारे कांग्रेस के दिग्गज नेता सिंधिया, कभी उनके ही सहयोगी रहे यादव ने किया पराजित

तत्कालीन ग्वालियर रियासत के सिंधिया परिवार के प्रभाव वाली गुना शिवपुरी संसदीय क्षेत्र (Guna Lok Sabha Seat Result 2019) से कांग्रेस प्रत्याशी के तौर पर वरिष्ठ नेता एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया को कभी उनके ही करीबी रहे और अब भाजपा प्रत्याशी के पी यादव ने लगभग सवा लाख मतों शिकस्त दे दी।

ज्योतिरादित्य सिंधिया को चार लाख 86 हजार से अधिक और यादव को छह लाख दस हजार से अधिक मत मिले। इस तरह इस सीट से लगातार चार बार चुनाव जीतने वाले सिंधिया पांचवीं बार संसद नहीं पहुंच सके और वे लगभग सवा लाख मतों से यह चुनावी रण हार बैठे। सिंधिया ने हालांकि, अपनी पराजय स्वीकार करते हुए यादव को बधाई भी प्रेषित की है। 

इसके पहले गुना सीट का ज्योतिरादित्य सिंधिया के पिता एवं वरिष्ठ कांग्रेस नेता माधवराव सिंधिया प्रतिनिधित्व करते थे। इस सीट पर जब कभी अन्य दल का कब्जा रहा है, तो वो प्रत्याशी भी सिंधिया परिवार से जुड़ा हुआ ही रहता था। इस मायने से सिंधिया की यह पराजय भविष्य में राजनीति के कई महत्वपूर्ण घटनाक्रमों का सबब बन सकती है।

जिला निवार्चन कायार्लय शिवपुरी से प्राप्त जानकारी के अनुसार गुना संसदीय क्षेत्र से 13 प्रत्याशी चुनाव मैदान में थे, जिनमें से 10 उम्मीदवारों की जमानत भी नहीं बची है। चुनाव प्रचार के दौरान जहां कांग्रेस प्रत्याशी सिंधिया ने अपने क्षेत्र में कराए गए विकास कार्यों का हवाला देते हुए जनता से समर्थन मांगा था, वहीं भाजपा के यादव ने सामंतवाद का मुद्दा उठाया था तथा भाजपा की सरकार द्वारा कराए गए विकास कायोर्ं का उल्लेख करते हुए समर्थन मांगा था। 

प्रचार अभियान में सिंधिया भाजपा तथा अन्य प्रत्याशियों से काफी आगे दिखायी दे रहे थे। बसपा प्रत्याशी लोकेंद्र सिंह राजपूत ने भी उन्हें अपना समर्थन दिया था। वहीं यादव ने बहुत ही सादगीपूर्ण तरीके से अपना चुनाव लड़ा। आजादी के बाद गुना का यह पहला चुनाव है, जिसमें सिंधिया परिवार का कोई सदस्य पराजित हुआ हो। गुना संसदीय क्षेत्र में इस बार प्रचार अभियान की कमान सिंधिया की पत्नी प्रियदर्शिनीराजे सिंधिया ने भी संभाली थीं।

संबंधित खबरें