DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गुर्जर आंदोलन: आंदोलनकारी पटरियों और सड़क से हटने को तैयार नहीं

Gujjar on Railway tracks (ANI Pic)

राजस्थान में आरक्षण की मांग को लेकर गुर्जर आंदोलन मंगलवार को पांचवें दिन भी जारी रहा। सरकार की अपील के बावजूद आंदोलनकारी रेलवे ट्रैक और सड़कों से हटने को तैयार नहीं हैं। इस कारण दिल्ली-मुंबई रेल मार्ग भी सुचारू नहीं हो पाया है। प्रशासन ने एहतियात के तौर पर सवाई-माधोपुर और इसके आसपास के इलाकों में मोबाइल इंटरनेट सेवाएं निलंबित कर दी हैं।        
 

गुर्जर संघर्ष समिति के संयोजक कर्नल किरोड़ी सिंह बैंसला के नेतृत्व में गुर्जर समाज के लोग सवाईमाधोपुर के मलारणा डूंगर क्षेत्र में रेल पटरियों पर कब्जा जमाए हुए हैं। इस कारण पांचवें दिन भी दिल्ली-मुंबई रेल मार्ग बाधित रहा। इससे करीब आधा दर्जन ट्रेन को रद्द करना पड़ा, जबकि कई ट्रेन का मार्ग बदला गया।     

एनएच- 52 पर भी जाम
आंदोलनकारियों ने चाकसू में राष्ट्रीय राजमार्ग (एनएच) संख्या-52 को भी जाम कर दिया है। गत सोमवार को प्रदर्शनकारियों ने एनएच-11 पर डेरा डाल दिया था, जो मंगलवार को भी बधित। रहा। इसके साथ ही नैनवा (बूंदी), बुंडला (करौली) व मलारना में भी सड़क मार्ग अवरूद्ध हैं। टोंक जिले में कोटा जयपुर राजमार्ग गुर्जर धरना दे रहे हैं। इससे आम लोगों को खासी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत आंदोलनकारियों से बातचीत के लिए आगे आने की अपील कर चुके हैं, लेकिन गुर्जर समाज के नेता अपनी जिद पर अड़े हैं।

ये भी पढ़ेें: गुर्जर आरक्षण पर बोले गहलोत-राज्य सरकार मदद को तैयार,केन्द्र करे फैसला


बैंसला को ट्रैक खाली करने का नोटिस 
रेलवे ट्रैक पर बैठे गुर्जर समाज के लोगों पर प्रशासन ने सख्ती बरतने के संकेत दिए हैं। सवाई-माधोपुर में जिला कलेक्टर ने गुर्जर नेता कर्नल किरोड़ी सिंह बैंसला को नोटिस जारी कर रेलवे ट्रैक जल्द खाली करने को कहा है। नोटिस में कहा गया है कि आंदोलन की वजह से जहां यात्रियों को परेशानी हो रही है, वहीं रेलवे को भी खासा नुकसान हो रहा है।

गुर्जर नेता विजय बैंसला ने कहा कि सरकार की ओर से बातचीत की पेशकश का कोई औपचारिक संदेश नहीं मिला है। जब तक मांग पूरी नहीं होगी हम रेल की पटरियों और सड़कों पर धरना जारी रखेंगे।  
 

 विधानसभा में आज बड़ा ऐलान संभव

गुर्जर आंदोलन का हल निकालने के लिए राज्य सरकार बुधवार को विधानसभा में बड़ा ऐलान कर सकती है। इस सिलसिले में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की अध्यक्षता में मंगलवार सुबह एक उच्च स्तरीय बैठक हुई। इसके बाद शाम को मंत्रिपरिषद की बैठक भी हुई।  

 

खेल एवं परिवहन राज्य मंत्री अशोक चांदना ने मीडिया को बताया कि बैठक में जो निर्णय हुआ हैं, उससे गुर्जर समाज को बड़ा फायदा मिलेगा। इस पर बुधवार को विधानसभा में औपचारिक फैसला होगा। उन्होंने कहा कि इस मामले में राज्य सरकार गंभीर है और वह गुर्जर सहित पांच जातियों को पांच प्रतिशत आरक्षण के पक्ष में है। उन्होंने उम्मीद जताई कि बुधवार को गुर्जर आंदोलन समाप्त हो जाएगा।      
      
नया विधेयक ला सकती है सरकार
सूत्रों के मुताबिक, गुर्जरों को आरक्षण के लिए राज्य सरकार नया विधायक ला सकती है। इसके बाद राज्य सरकार इस संबंध में केंद्र को पत्र लिखकर पांच प्रतिशत आरक्षण का अनुरोध करेगी।      

ये भी पढ़ें: गुर्जर आंदोलन का तीसरा दिन: रेल पटरी, राजमार्ग बाधित, हिंसा भी हुई

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Gujjar agitation protesters sitting on railway tracks and blocked National Highway