ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ देशकेजरीवाल का दो दिन में डबल धमाका, गुजरात-हिमाचल हारकर भी AAP ने बनाया नया रिकॉर्ड; बनेगी राष्ट्रीय पार्टी

केजरीवाल का दो दिन में डबल धमाका, गुजरात-हिमाचल हारकर भी AAP ने बनाया नया रिकॉर्ड; बनेगी राष्ट्रीय पार्टी

चुनाव आयोग के मुताबिक, कांग्रेस, बीजेपी, बीएसपी, तृणमूल कांग्रेस, एनसीपी, सीपीआई, सीपीआईएम और एनपीपी पहले से ही राष्ट्रीय पार्टी है। एनपीपी को 2019 में राष्ट्रीय पार्टी का दर्जा मिला है।

केजरीवाल का दो दिन में डबल धमाका, गुजरात-हिमाचल हारकर भी AAP ने बनाया नया रिकॉर्ड; बनेगी राष्ट्रीय पार्टी
Pramod Kumarलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीThu, 08 Dec 2022 10:18 AM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

अरविंद केजरीवाल की अगुवाई वाली आम आदमी पार्टी ने राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में नगर निगम चुनावों में बड़ी जीत दर्ज करने के बाद दूसरे ही दिन एक और रिकॉर्ड बनाया है। भले ही उनकी पार्टी हिमाचल प्रदेश और गुजरात विधानसभा चुनावों में बेहतर प्रदर्शन नहीं कर पाई हो लेकिन उनकी पार्टी ने राष्ट्रीय दल का दर्जा हासिल कर लिया है। इस तरह देश में अब राष्ट्रीय दलों की संख्या बढ़कर नौ हो जाएगी।

आम आदमी पार्टी ने गुजरात चुनावों में अब तक करीब 13 फीसदी वोट हासिल कर लिए हैं। इसके साथ ही आप गुजरात में एक क्षेत्रीय पार्टी और राष्ट्रीय पार्टी भी बन गई है। हालांकि, इसका ऐलान चुनाव आयोग द्वारा बाद में किया जाएगा।

देश में कितनी राष्ट्रीय पार्टियां:
चुनाव आयोग के मुताबिक, कांग्रेस, बीजेपी, बीएसपी, तृणमूल कांग्रेस, एनसीपी, सीपीआई, सीपीआईएम और एनपीपी पहले से ही राष्ट्रीय पार्टी है। एनपीपी को 2019 में राष्ट्रीय पार्टी का दर्जा मिला है। आप पहले से ही दिल्ली, पंजाब और गोवा में राज्य स्तर की पार्टी यानी क्षेत्रीय दल का दर्जा प्राप्त कर चुकी है। गोवा में आप को पिछले असेंबली चुनावों में 6.8 फीसदी वोट मिल चुके हैं। 

राष्ट्रीय पार्टी के लिए जरूरी शर्तें:
किसी भी दल को राष्ट्रीय पार्टी का दर्जा हासिल करने के लिए कुछ शर्तों को पूरा करने की जरूरत होती है।
1. अगर कोई पार्टी चार राज्यों में क्षेत्रीय दल का दर्जा प्राप्त कर ले तो उसे राष्ट्रीय पार्टी का दर्जा मिल जाता है।
2. अगर कोई पार्टी तीन राज्यों को मिलाकर लोकसभा की तीन फीसदी सीटें जीत जाती है, तो उसे राष्ट्रीय पार्टी का दर्जा मिल जाता है।
3. अगर कोई पार्टी चार लोकसभा सीटों के अलावा संसदीय या विधानसभा चुनावों में चार राज्यों में 6 फीसदी वोट प्राप्त कर लेती है तो उसे राष्ट्रीय पार्टी का दर्जा मिल जाता है।
4. अगर कोई पार्टी ऊपर की कोई तीन शर्तों में से कोई भी एक शर्त पूरी कर लेती है तो उसे राष्ट्रीय पार्टी का दर्जा मिल जाता है।