DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पासपोर्ट अधिकारी को 7 साल का कठोर कारावास, ली थी 8000 रुपये की घूस

कलंक के खिलाफ : विजलेंस ने अफसर को घूस लेते किया गिरफ्तार

सीबीआई कोर्ट ने घूसखोरी के मामले में पासपोर्ट अधिकारी को सात साल के कठोर कारावास की सजा सुनाई है। उत्तर प्रदेश के बरेली के रहने वाले पासपोर्ट अधिकारी केपी सिंह को वर्ष 2016 में देहरादून स्थित पासपोर्ट कार्यालय में आठ हजार रुपये की घूस लेते गिरफ्तार किया था। कोर्ट ने इस मामले में 20 हजार का जुर्माना भी लगाया है। 

देहरादून स्थित सीबीआई की स्पेशल कोर्ट में न्यायधीश सुजाता सिंह ने वर्ष 2016 में क्षेत्रीय पासपोर्ट कार्यालय में तैनात अधीक्षक केपी सिंह को घूसखोरी का दोषी ठहराते हुए सजा सुनाई। शासकीय अभियोजन सतीश कुमार गर्ग ने बताया कि इब्राहिमपुर (हरिद्वार) के मुर्सलीन अहमद को वर्ष 2016 में हज पर जाना था। उनके पासपोर्ट में ईसीआर (इमीग्रेशन चेक रिक्वायर्ड) लिखा हुआ था। ऐसे में मुर्सलीन पासपोर्ट में ईसीआर कि जगह ईसीएनआर (इमीग्रेशन चेक नॉट रिक्वायर्ड) करवाने के लिए क्षेत्रीय पासपोर्ट कार्यालय गए। यहां तत्कालीन पासपोर्ट अधिकारी विजय शंकर पांडेय की अनुपस्थिति में उनकी मुलाकात क्षेत्रीय पासपोर्ट अधीक्षक केपी सिंह से हुई। जो बरेली के रहने वाले हैं। केपी सिंह ने पासपोर्ट ईसीएनआर करने की एवज में दस हजार रुपये मांगे। मुर्सलीन ने सीबीआई में शिकायत की और वह केपी सिंह के लगातार संपर्क में रहे। सीबीआई टीम ने केपी सिंह को घूस लेते रंगे हाथ गिरफ्तार कर लिया। 

इंदौर में महिला अफसर गिरफ्तार, कार से 1.60 लाख रुपये कैश बरामद

झूठी गवाह देने वाले के खिलाफ कार्रवाई के आदेश
सतीश कुमार गर्ग ने बताया कि कोर्ट में चार लोगों ने झूठी गवाही दी। ये सभी गवाह पासपोर्ट कार्यालय के ही कर्मचारी हैं और इन्होंने अपने अफसर को बचाने के लिए कोर्ट को गुमराह किया। इस पर कोर्ट ने चारों गवाहों के खिलाफ जांचकर कार्रवाई के आदेश दिए हैं। 

सीसीटीवी से पहचाने जाएंगे ठग, दलाल और टप्पेबाज

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:graft case: passport office officer to undergo rigorous imprisonment for 7 years