DA Image
28 फरवरी, 2021|10:09|IST

अगली स्टोरी

वैक्सीनेशन में आने वाली दिक्कतों को सरकार ने किया दूर, अब ऑन-स्पॉट भी होगा रजिस्ट्रेशन

decisive battle in one year against corona first meeting was held on 17 january 2020 know about enti

कोरोना वायरस (कोविड 19) टीकाकरण स्थलों पर कम स्वास्थ्य कर्मियों के टीकाकरण के मुद्दे से निपटने के लिए केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने को-विन ऐप को संशोधित कर अब ऑन-स्पॉट लाभार्थी पंजीकरण की अनुमति दी है और अपग्रेड के साथ राज्य भी वॉक-इन करा सकते हैं।

कोविड -19 टीकाकरण पर अधिकार प्राप्त समूह के डॉ. आरएस शर्मा ने कहा कि प्रति साइट पर अनुमत औसत टीकाकरण सत्र 100 हैं। हमें कुछ केंद्रों में बताया गया कि कम लोग आ रहे हैं। हमने ऐप में एक प्रावधान किया है ताकि लाभार्थियों को अन्य तारीखों पर टीके लेने के लिए निर्धारित किया जान सके। इससे पहले सॉफ्टवेयर को दिन की सूची के बाहर लाभार्थियों को स्वीकार करने के लिए डिज़ाइन नहीं किया गया था, लेकिन अब वे कर सकते हैं।

उन्होंने कहा कि सॉफ्टवेयर में बदलाव करना ठीक है क्योंकि ऐसा न करने से बहुत सारे संसाधन बेकार जा सकते हैं, जैसे कि ह्यूमन रिसोर्स जो केंद्र में है, वैक्सीन की आपूर्ति आदि। तब तक जो व्यक्ति पहुंचा है उसे टीका मिलना चाहिए। टीका प्राप्त करने के लिए, भले ही वे किसी अन्य दिन के लिए पंजीकृत हों, यह कोई समस्या नहीं होनी चाहिए। शर्मा ने कहा कि संसाधनों और समय की बर्बादी क्यों की जाए जब हमें किसी भी तरह  स्वास्थ्य कर्मियों की एक संख्या को टीका लगाना ही है।

देश में कोविड-19 टीकाकरण अभियान शुरू होने के प्रारंभिक तीन दिनों में पौने चार लाख से अधिक लोगों को टीका लगाया जा चुका है। प्राप्त रिपोटोर्ं के मुताबिक प्राथमिकता वाले समूह में शामिल 3.81 लाख से अधिक लोगों का अब तक टीकाकरण किया जा चुका है। कोरोना का टीका लगने के बाद अब तक 580 लोगों में दुष्प्रभाव  की सूचनाएं हैं जबकि दो लोगों को वैक्सीन की डोज दिये जाने के बाद हृदयसंबंधी विकार उत्पन्न होने के कारण मौत हो गयी। मुरादाबाद में एक 52 वर्षीय व्यक्ति और कनार्टक में 42 वषीर्य व्यक्ति की मौत की  हालांकि वैक्सीन से होने की अभी पुष्टि नहीं हुई है।  

गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 16 जनवरी को देश में विश्व के सबसे बड़े टीकाकरण अभियान का शुभारंभ किया था। प्रधानमंत्री ने कोविड-19 वैक्सीन को विकसित करने के लिए वैज्ञानिक समुदाय के प्रयासों की सराहना करते हुए इसे भारत की प्रतिभा और दक्षता का उदाहरण निरूपित किया था। सरकार ने ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका की 'कोविशिल्ड' और भारत बायोटेक के 'कोवैक्सिन' को मंजूरी दी है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Government overcome the problems of vaccination now on Spot registration will also be done