ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News देशसीनियर्स के दबाव में सरकारी अधिकारी का सुसाइड, भाजपा विधायक का आरोप- 85 करोड़ की चोरी में गई जान

सीनियर्स के दबाव में सरकारी अधिकारी का सुसाइड, भाजपा विधायक का आरोप- 85 करोड़ की चोरी में गई जान

बेंगलुरु में एक सरकारी अधिकारी ने अपने सीनियर्स के दबाव के चलते सुसाइड कर लिया। आखिरी नोट में पता लगा है कि उस पर एक फर्जी बैंक खाता खोलकर निगम की करोड़ों की रकम ट्रांसफर करने दवाब बनाया था।

सीनियर्स के दबाव में सरकारी अधिकारी का सुसाइड, भाजपा विधायक का आरोप- 85 करोड़ की चोरी में गई जान
gurugram jail suicide
Gaurav Kalaलाइव हिन्दुस्तान,शिवमोग्गाTue, 28 May 2024 06:41 AM
ऐप पर पढ़ें

बेंगलुरु में एक सरकारी अधिकारी ने अपने सीनियर्स के दबाव में सुसाइड कर लिया। पुलिस को उसके कमरे से मिले सुसाइड नोट से पता लगा है कि फर्जी बैंक खाता खुलवाकर निगम की करोड़ों की रकम को उससे ट्रांसफर करवाया जा रहा था। आजिज आकर उसने ऐसा कदम उठाया है। उधर, आत्महत्या के इस मामले को गंभीर बताते हुए भाजपा विधायक ने आरोप लगाया कि इसका निगम में 85  करोड़ की चोरी से लिंक है।

घटना बेंगलुरु के शिवमोग्गा की बताई जा रही है। बेंगलुरु पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार, निगम में काम करने वाले 50 साल के सरकारी अधिकारी चंद्रशेखरन पी ने रविवार को अपने घर में आत्महत्या कर दी। वह बेंगलुरु में कर्नाटक महर्षि वाल्मिकी एसटी डेवलपेंट कॉर्प लिमिटेड में काम करता था। 

पुलिस अधिकारियों ने बताया कि आस-पास के लोगों द्वारा सूचना दिए जाने के बाद टीम ने मौके पर पहुंचकर शव को बरामद किया है। सुसाइड नोट के बाद अप्राकृतिक मौत का मामला दर्ज कर शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है। पुलिस के अनुसार, मरने वाले चंद्रशेखरन पी ने अपने वरिष्ठ अधिकारियों के दबाव के चलते ऐसा चरमपंथी कदम उठाया।

सुसाइड नोट में क्या लिखा था
पुलिस की बताई कहानी के मुताबिक, चंद्रशेखरन के कमरे से छह पन्नों का एक नोट मिला है। ऐसा बताया जा रहा है कि संभवत: मरने से पहले उसने इसे लिखा है। नोट में लिखा गया है कि वह पिछले कुछ समय से काफी तनाव में था क्योंकि उसके सीनियर्स अधिकारी उस पर निगम के बैंक खाते से मिलता-जुलता एक और खाता खोलने का दबाव बना रहे थे। इतना ही नहीं उस बैंक खाते में निगम की करोड़ों की रकम डालने का भी प्रेशर डाला जा रहा था। 

निगम के खाते से 85 करोड़ की हेरा-फेरी
मामले में शिवमोग्गा के भाजपा विधायक एसएन चन्नबसप्पा ने संवाददाता सम्मेलन में चंद्रशेखरन के 'नोट' का हवाला देते हुए कहा कि निगम के विभिन्न खातों में 187.3 करोड़ रुपये का अनुदान था, जिसमें से लगभग 85 करोड़ रुपये अन्य खातों में ट्रांसफर किए गए हैं। उन्होंने मामले में जांच की मांग की है।