DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जेट एयरवेज को बचाने में केंद्र बढ़ा सकती है हाथ, PSU की मदद लेने पर विचार

Jet flight

सरकार आम चुनाव से पहले हजारों की संख्या में नौकरियों को खत्म होने से रोकने के एक कदम के तहत जेट एयरवेज को बचाने के लिए सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों की मदद ले सकती है। सूत्रों ने कहा कि सरकार चाहती है कि राष्ट्रीय निवेश एवं अवसंरचना निधि (एनआईआईएफ) जेट में हिस्सेदारी खरीदे और नकदी संकट से जूझ रही इस कंपनी को बचा ले। एनआईआईएफ में सरकार की 49 फीसदी हिस्सेदारी है और इसकी जिम्मेदारी रुकी और नई अवसंरचना परियोजनाओं में निवेश करने की है।

जेट एयरवेज पर मंडराया संकट, पायलटों की 1 अप्रैल से उड़ान बंद करने की चेतावनी

जेट के ऊपर 8,000 करोड़ रुपये अधिक का कर्ज है और कंपनी कर्मचारियों के वेतन नहीं दे पा रही है। वह बैंकों और विमान के ठेकेदारों के भुगतान नहीं कर पाई है। कुछ ठेकेदारों ने तो कथित तौर पर विमानों के पट्टा रद्द करना शुरू कर दिया है।उड्डयन क्षेत्र में लगभग 10 लाख लोग कार्यरत हैं।

वित्त मंत्रालय जेट एयरवेज की वित्तीय सेहत को लेकर भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) के नेतृत्व वाले बैंकों के संपर्क में है। यदि बैंक सरकार के प्रस्तावों से सहमति जताते हैं, तब एसबीआई और पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) सहित सरकारी बैंक और एनआईआईएफ एकसाथ मिलकर कम से कम विमानन कंपनी का एक-तिहाई हिस्सा खरीद सकते हैं, जब तक कि उन्हें कोई नया खरीददार नहीं मिल जाता। फिलहाल अबु धाबी का एतिहाद एयरवेज जेट में सबसे बड़ा शेयरधारक है, जिसकी हिस्सेदारी 24 प्रतिशत है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Government may turn to PSU banks to rescue Jet Airways