ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News देश विपक्ष का अपमान कर रही सरकार, प्रोटेम स्पीकर ना बनाए जाने पर भड़के कांग्रेस सांसद के सुरेश

विपक्ष का अपमान कर रही सरकार, प्रोटेम स्पीकर ना बनाए जाने पर भड़के कांग्रेस सांसद के सुरेश

कांग्रेस सांसद के सुरेश ने कहा है कि एनडीए की सरकार ने लोकसभा के नियमों का उल्लंघन किया है। उन्होंने कहा, मैं आठ बार का लोकसभा सांसद हूं इसके बाद भी सात बार के सांसद को प्रोटेम स्पीकर बनाया गया है।

 विपक्ष का अपमान कर रही सरकार, प्रोटेम स्पीकर ना बनाए जाने पर भड़के कांग्रेस सांसद के सुरेश
k suresh
Ankit Ojhaलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीMon, 24 Jun 2024 11:36 AM
ऐप पर पढ़ें

18वीं लोकसभा के लिए संसद का पहला सत्र शुरू हो गया है। प्रोटेम स्पीकर के तौर पर बीजेपी सासंद भर्तृहरि महताब ने शपथ ली और अब वह लोकसभा के कामकाज का संचालन कर रहे हैं। इसी बीच प्रोटेम स्पीकर पद के लए विपक्ष के दावेदार रहे कांग्रेस सांसद के सुरेश ने कहा है कि एनडीए ने विपक्ष का अपमान किया है। उन्होंने कहा कि इंडिया गठबंधन ने विपक्ष के नेताओं के उन नामों को वापस लेने का  फैसला किया है जिनका नाम प्रोटेम स्पीकर महताब के सहयोग के लिए आगे किया गया था। बता दें कि संसद के बाहर विपक्षी सांसदों ने हाथ में संविधान लेकर प्रोटेम स्पीकर का विरोध भी किया। 

के सुरेश ने कहा कि महताब का प्रोटेम स्पीकर बनाया जाना सदन की परंपरा के खिलाफ है। के सुरेश ने कहा कि वह सदन के सबसे सीनियर सांसद हैं। बता दें कि के सुरेश आठ बार के सांसद हैं। वहीं महताब सात बार लोकसभा सांसद चुने गए हैं। उन्होंने एएनआई से कहा, एनडीए सरकार ने लोकसभा के नियमों का उल्लंघन किया है। नियम यही था कि जो भी सांसद सबसे ज्यादा बार चुनकर लोकसभा पहुंचा हो, उसे प्रोटेम स्पीकर बनाया जाए। महताब सात बार के सांसद हैं और मैं आठ बार चुना जा चुका हूं। वे एक बार फिर विपक्ष का अपमान कर रहे हैं। इसीलिए इंडिया गठबंधन ने सहयोगी पैनल का भी बहिष्कार किया है। 

बता दें कि नई सरकार बनने के बाद प्रोटेम स्पीकर के मुद्दे पर सत्ता और विपक्ष के बीच यह पहली टक्कर है। महताब कटक से सात बार लोकसभा सांसद चुने गए हैं। वहीं कोडिकुनिल सुरेश , टी आर बालू, राधा मोहन सिंह और फग्गन सिं कुलस्ते को भी पैनल में शामिल किया गया था। कांग्रेस का कहना है कि सुरेश दलित समुदाय से आते हैं इसलिए उन्हें प्रोटेम स्पीकर नहीं बनाया गया। 

पहले ही दिन सरकार और विपक्ष में टकराव
संसद के सत्र के पहले ही दिन विपक्ष और सरकार में टकराव देखने को मिल रहा है। कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे समते विपक्षी सांसदों ने गांधी प्रतिमा के पास सरकार का विरोध किया। आम तौर पर पहले दिन यानी शपथ के दिन ही इस तरह का टकराव देखने को नहीं मिलता था। प्रधानमंत्री मोदी ने भी सत्र की शुरुआत से पहले अपने संबोधन में कांग्रेस पर हमला बोला था और कहा था कि 25 जून को आपातकाल के काले दिन की 50वीं बरसी है।