ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ देशसंसद का मॉनसून सत्र जल्दी स्थगित करने की योजना पर विचार कर रही सरकार, विपक्ष से ले रहे परामर्श

संसद का मॉनसून सत्र जल्दी स्थगित करने की योजना पर विचार कर रही सरकार, विपक्ष से ले रहे परामर्श

संसद के मॉनसून सत्र में केवल तीन दिन बचे हैं। सरकारी प्रबंधकों ने सदन को 8 या 10 अगस्त को स्थगित करने के प्रस्ताव पर प्रमुख विपक्षी नेताओं से परामर्श करना शुरू कर दिया है।

संसद का मॉनसून सत्र जल्दी स्थगित करने की योजना पर विचार कर रही सरकार, विपक्ष से ले रहे परामर्श
Gaurav Kalaसौभद्र चटर्जी स्मृति रामचंद्रन, हिन्दुस्तान टाइम्स,नई दिल्लीFri, 05 Aug 2022 10:43 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

संसद के मॉनसून सत्र में केवल तीन दिन बचे हैं। सरकारी प्रबंधकों ने सदन को 8 या 10 अगस्त को स्थगित करने के प्रस्ताव पर प्रमुख विपक्षी नेताओं से परामर्श करना शुरू कर दिया है। सत्र को जल्दी बंद करने पर अंतिम निर्णय होना बाकी है।  18 जुलाई से शुरू हुआ मॉनसून सत्र 12 अगस्त को समाप्त होने वाला था। लेकिन सरकार अब अगले सप्ताह मुहर्रम और रक्षा बंधन में दो छुट्टियों के मद्देनजर अपने विकल्पों की समीक्षा कर रही है।

दो वरिष्ठ विपक्षी नेताओं का कहना है कि सरकार के प्रस्तावों में से एक 8 अगस्त को प्रश्नकाल और शून्यकाल को छोड़ना और राज्यसभा के पहले आधे हिस्से को उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू की विदाई के लिए समर्पित करना है। एक नेता ने कहा, "राज्यसभा की कार्यवाही के दूसरे भाग का उपयोग कुछ विधेयकों को आगे बढ़ाने के लिए किया जाएगा।"

एक गैर-कांग्रेसी विपक्षी नेता के अनुसार, अन्य प्रस्ताव 10 अगस्त को उपराष्ट्रपति के रूप में वेंकैया नायडू के कार्यकाल के अंतिम दिन पेश होना है। इसी दिन प्रश्नकाल और शून्यकाल दोनों है, ताकि हम कुछ महत्वपूर्ण मुद्दे उठा सकें। 

एक अन्य नेता ने कहा कि ऐसी भी संभावना है कि लोकसभा 8 अगस्त को अनिश्चित काल के लिए स्थगित हो सकता है जबकि, राज्यसभा 10 अगस्त तक चलेगी।

मामले से अवगत भाजपा के नेताओं का कहना है कि सरकार ने सदन में सामान्य स्थिति बहाल करने के लिए कड़ी मेहनत की और विपक्षी सदस्यों से कार्यवाही की अनुमति देने का आग्रह किया। भाजपा के एक वरिष्ठ नेता ने नाम न छापने की शर्त पर कहा, "सरकार उन मुद्दों को उठाने के लिए विपक्ष के पास पहुंची, जो वे बातचीत और चर्चा के माध्यम से चाहते थे, लेकिन विपक्ष व्यवधान और गड़बड़ी पर आमादा था।"

नेता ने कहा कि विपक्ष मूल्य वृद्धि और मुद्रास्फीति पर बोलना चाहता है और सरकार के एक चर्चा के लिए सहमत होने के बावजूद, उन्होंने लगभग दो सप्ताह बर्बाद कर दिए। उन्होंने कहा, “राज्य सभा में अध्यक्ष ने इस मुद्दे पर चर्चा के लिए सहमति व्यक्त की थी। उन्होंने केवल इतना कहा कि नियम 267 के तहत चर्चा नहीं हो सकती। वित्त मंत्री की तबीयत खराब थी और सरकार ने उनके लिए सदन में लौटने में सक्षम होने के लिए समय मांगा ताकि वह जवाब दे सकें। फिर भी हमने विपक्ष की ओर से केवल तख्तियां और नारेबाजी देखी गई।"

सरकार ने मॉनसून सत्र के लिए पारित होने के लिए 24 विधेयकों की सूची तैयार की थी, जिनमें से 14 पिछले सत्र से लंबित हैं। नेता के मुताबिक, “यह 17-18 बैठकों का एक छोटा सत्र था और लगभग 60-62 घंटे सरकारी कामकाज के लिए अलग रखे गए थे और बाकी समय शून्यकाल, प्रश्नकाल और निजी सदस्यों के बिलों के लिए आवंटित किया जाना था लेकिन, पहले दो सप्ताह व्यावहारिक रूप से एक वाशआउट थे। अन्य दलों के सदस्यों के लिए भी यह एक बहुत बड़ी क्षति थी, जो उन मुद्दों को नहीं उठा सके जिन्हें वे सदन के ध्यान में लाने की तैयारी कर रहे थे।”

epaper