Good news for students marks obtained in final exams will have just 30 percent share in the final result - राहत: सालाना परीक्षा के अंकों की अंतिम रिजल्ट में हिस्सेदारी मात्र 30% ही रह जाएगी DA Image
12 दिसंबर, 2019|11:29|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

राहत: सालाना परीक्षा के अंकों की अंतिम रिजल्ट में हिस्सेदारी मात्र 30% ही रह जाएगी

students  representative picture ht

आने वाले समय में उच्च शिक्षा संस्थानों में विद्यार्थियों पर साल के अंत या सेमेस्टर के अंत में होने वाली परीक्षा का दबाव शायद ही रहेगा। क्योंकि इन परीक्षाओं के जरिये मिलने वाले अंकों की हिस्सेदारी छात्रों के अंतिम रिजल्ट में मात्र 30 फीसदी ही रह जाएगी। शेष 70 फीसदी अंक छात्र-छात्राओं को सतत मूल्यांकन के जरिये मिलेंगे, जिसमें क्लास टेस्ट, क्विज और असाइनमेंट का सहारा लिया जाएगा। विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) के परीक्षा सुधार में यह बदलाव प्रस्तावित है। यूजीसी इसे अगले सप्ताह जारी कर सकता है।  परीक्षा सुधार पर तैयार ड्राफ्ट रिपोर्ट में सैद्धांतिक विषयों के मूल्यांकन के लिए चार मॉडल, प्रैक्टिकल कोर्स के लिए एक मॉडल और स्वअध्ययन के लिए एक मॉडल तैयार किया है। वहीं, कार्य अनुभव वाले पाठ्यक्रमों के लिए भी एक मूल्यांकन मॉडल तैयार किया गया है। उदाहरण के लिए सैद्धांतिक विषयों के मूल्यांकन के लिए तैयार 200 अंकों के मॉडल-1 में कहा गया है कि छात्रों के तीन क्लास टेस्ट लिए जाएंगे, जिनके 35-35 अंक होंगे। 

बेस्ट-3 के अंक जुड़ेंगे 

अंतिम रिजल्ट में दो बेस्ट के अंक जोड़े जाएंगे। इसी तरह 10-10 अंकों के चार क्विज आयोजित होंगे। अंतिम परिणाम में बेस्ट-3 के अंक जोड़े जाएंगे। ग्रुप डिस्कशन और एक्टिव लर्निंग के 10 अंक होंगे। 10-10 अंक क्रमश: होम असाइनमेंट, क्लास असाइनमेंट और उपस्थिति के होंगे। शेष 60 अंक अंतिम परीक्षा के होंगे। 

सख्ती:अब AI से होगी परीक्षा केंद्रों और सरकारी दफ्तरों की निगरानी

विदेशों में भी इसी तरह होता है मूल्यांकन

यूजीसी के उपाध्यक्ष एवं आयोग में शिक्षा की गुणवत्ता सुधारने का जिम्मा संभाल रहे प्रो. भूषण पटवर्धन ने प्रस्तावित परीक्षा सुधार पर टिप्पणी करते हुए कहा कि अब तक हम सिर्फ परीक्षा लेते हैं। इसमें छात्रों की याद करने की क्षमता की जांच होती है। अब हम इसे परीक्षा से मूल्यांकन की ओर ले जा रहे हैं। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर उच्च शिक्षा संस्थानों में इसी तरह मूल्यांकन होता है। इससे छात्र याद करने की बजाय विषयों को समझेंगे। उन्होंने कहा कि हम इस दिशानिर्देश को विश्वविद्यालयों को भेज देंगे। यह नई मूल्यांकन पद्यति फिलहाल ऐच्छिक होगी।   
 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Good news for students marks obtained in final exams will have just 30 percent share in the final result