ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News देशपुर्तगालियों ने नष्ट किए मंदिर, अब मिटा दो उनके भी निशान; गोवा के सीएम का आह्वान

पुर्तगालियों ने नष्ट किए मंदिर, अब मिटा दो उनके भी निशान; गोवा के सीएम का आह्वान

सावंत ने कहा कि मराठा शासक गोवा आए और सप्तकोटेश्वर मंदिर का पुनर्निर्माण किया और पुर्तगालियों को मंदिरों को नष्ट करने के खिलाफ चेतावनी दी। उसके बाद मंदिर का विनाश रुक गया।

पुर्तगालियों ने नष्ट किए मंदिर, अब मिटा दो उनके भी निशान; गोवा के सीएम का आह्वान
goa cm pramod sawant portuguese destroyed temples wipe away their signs too
Amit Kumarजेरार्ड डी सूजा (HT),पणजीTue, 06 Jun 2023 06:01 PM
ऐप पर पढ़ें

गोवा के मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत ने मंगलवार को कहा कि पुर्तगालियों ने अपने शासनकाल के दौरान राज्य के अनेकों मंदिरों को नष्ट कर दिया था। पुर्तगालियों ने 1510 से 1961 तक चार शताब्दियों तक गोवा पर शासन किया था। सीएम ने राज्य में मंदिरों को 'नष्ट करने वाले' पुर्तगाली शासकों के निशानों को मिटाने का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सरकार राज्य की नई यात्रा की योजना बना रही है।

गोवा सीएम ने कहा, "कम से कम 60 साल बाद, अब तो हमें पुर्तगालियों के निशानों को मिटा देना चाहिए ... आगे बढ़ने का एक नया तरीका शुरू करने की जरूरत है ... हम (भारत की आजादी के) 75वें वर्ष का जश्न मना रहे हैं... भारत जब (आजादी के) 100 साल मना रहा होगा तो गोवा कैसा होगा? उसके बारे में हम अभी से सोच रहे हैं।” 

उन्होंने 17वीं शताब्दी में मराठा साम्राज्य की स्थापना करने वाले छत्रपति शिवाजी महाराज के राज्याभिषेक की 350 वीं वर्षगांठ के उपलक्ष्य में एक समारोह के दौरान यह बातें कहीं। उन्होंने कहा कि मराठा शासक ने सबसे पहले देश में स्वराज का विचार रखा। सावंत ने दावा किया कि पुर्तगालियों ने गोवा में मंदिरों को नष्ट करना शुरू कर दिया था। मराठों के साथ शांति समझौते पर हस्ताक्षर करने के बाद यह प्रथा बंद हो गई। उन्होंने कहा कि संधि से यह तय हुआ कि पुर्तगाली मंदिरों को नष्ट नहीं करेंगे।

सावंत ने कहा कि मराठा शासक गोवा आए और सप्तकोटेश्वर मंदिर का पुनर्निर्माण किया और पुर्तगालियों को मंदिरों को नष्ट करने के खिलाफ चेतावनी दी। उन्होंने कहा कि उन्हें गर्व है कि उसके बाद मंदिर का विनाश रुक गया। मराठा शासक के आदेश पर निर्मित 17वीं शताब्दी के बैतूल किले में आयोजित स्मारक कार्यक्रम में उन्होंने कहा, "इसलिए हम कहते हैं कि हिंदू संस्कृति को बचाने का प्रमुख श्रेय शिवाजी और [उनके बेटे] संभाजी को जाता है।" सावंत ने वादा किया कि किले को एक राज्य स्मारक के रूप में अधिसूचित किया जाएगा और बहाल किया जाएगा।