ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News देशजम्मू-कश्मीर में हिज्बुल मुजाहिद्दीन का नया चेहरा बना गाजी हैदर, मेडिकल की कर चुका पढ़ाई, डॉक्टर सैफ बुलाते हैं साथी आतंकी

जम्मू-कश्मीर में हिज्बुल मुजाहिद्दीन का नया चेहरा बना गाजी हैदर, मेडिकल की कर चुका पढ़ाई, डॉक्टर सैफ बुलाते हैं साथी आतंकी

एक वरिष्ठ सुरक्षा अधिकारी ने बताया कि 26 साल का सैफुल्लाह मीर उर्फ ​​गाजी हैदर अब जम्मू-कश्मीर में हिज्बुल मुजाहिद्दीन का नया चेहरा बन गया है। अधिकारी ने कहा कि जम्मू-कश्मीर में हिजबुल का...

जम्मू-कश्मीर में हिज्बुल मुजाहिद्दीन का नया चेहरा बना गाजी हैदर, मेडिकल की कर चुका पढ़ाई, डॉक्टर सैफ बुलाते हैं साथी आतंकी
लाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीMon, 11 May 2020 01:45 PM
ऐप पर पढ़ें

एक वरिष्ठ सुरक्षा अधिकारी ने बताया कि 26 साल का सैफुल्लाह मीर उर्फ ​​गाजी हैदर अब जम्मू-कश्मीर में हिज्बुल मुजाहिद्दीन का नया चेहरा बन गया है। अधिकारी ने कहा कि जम्मू-कश्मीर में हिजबुल का नेतृत्व करने के लिए सैफुल्ला मीर की नियुक्ति की घोषणा पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर के मुजफ्फराबाद में मौजूद आतंकवादी समूह के प्रवक्ता सलीम हाशमी ने की। जफरूल इस्लाम को तथाकथित डिप्टी चीफ ऑपरेशनल कमांडर के रूप में चुना गया है और एक अन्य आतंकवादी अबू तारिक भाई को मुख्य सैन्य सलाहकार बनाया गया है।

इससे पहले हिज्बुल का चेहरा रहा नाइकू अपने सहयोगी आदिल अहमद के साथ जम्मू-कश्मीर पुलिस और 21 राष्ट्रीय राइफल्स के सैनिकों के संयुक्त ऑपरेशन में मारा गया था। नाइकू अपने गांव में एक गुप्त बंकर में छिपा था। सैफुल्लाह मीर को मुसाहिब और 'डॉक्टर सैफ' के नाम से भी जाना जाता है, क्योंकि वह पुलिस मुठभेड़ों में घायल हुए आतंकवादियों का इलाज कर चुका है। मीर दक्षिण कश्मीर के पुलवामा जिले के मलंगपोरा से 12वीं पास है, हालांकि रियाज नाइकू ग्रेजुएट था। सैफुल्लाह मीर ने स्कूल के बाद व्यावसायिक प्रशिक्षण का विकल्प चुना।

यह भी पढ़ें: गणित टीचर रहा हिज्बुल कमांडर नायकू था J&K में आतंक का सबसे बड़ा चेहरा

उसने पुलवामा में सरकार द्वारा संचालित आईटीआई में बायो मेडिकल कोर्स किया और इसके बाद एक तकनीशियन के रूप में श्रीनगर के राष्ट्रीय इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी संस्थान में नौकरी पा ली। मीर ने तीन साल तक नौकरी की और फिर आतंक  की राह पर चल पड़ा। 

सुरक्षा अधिकारियों ने कहा कि सैफुल्लाह को ’ए श्रेणी’ के आतंकवादी के रूप में वर्गीकृत किया गया था और वह ज्यादातर पुलवामा, कुलगाम और शोपियां के दक्षिण कश्मीर जिलों में सक्रिय था। उन्होंने यह भी कहा कि मीर रियाज नाइकू के नेटवर्क से पूरी तरह परिचित है और ऑर्चर्ड मालिकों से धन जुटाने और दक्षिण कश्मीर में अफीम की अवैध खेती से धन प्राप्त करने के लिए गतिविधियां करता है।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें