ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ देशमेघालय में फिर आगजनी, प्रदर्शनकारियों ने सिटी बस को किया आग के हवाले; इंटरनेट पर प्रतिबंध बढ़ा

मेघालय में फिर आगजनी, प्रदर्शनकारियों ने सिटी बस को किया आग के हवाले; इंटरनेट पर प्रतिबंध बढ़ा

असम से लगी सीमा पर हुई गोलीबारी के मुद्दे पर मेघालय के मुख्यमंत्री कोनराड संगमा ने कहा कि दोषियों को सजा मिलेगी, लेकिन हमें इस समय शांति बनाए रखनी चाहिए। वह गृह मंत्री से जांच का अनुरोध करेंगे।

मेघालय में फिर आगजनी, प्रदर्शनकारियों ने सिटी बस को किया आग के हवाले; इंटरनेट पर प्रतिबंध बढ़ा
Ashutosh Rayअनिरुद्ध धार,नई दिल्लीThu, 24 Nov 2022 10:43 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

असम से लगी सीमा पर मंगलवार को हुई हिंसक झड़पों के बाद मेघालय में एक बार फिर आगजनी की घटना सामने आई है। गुरुवार शाम बदमाशों ने मेघालय की राजधानी शिलांग में एक ट्रैफिक बूथ को आग के हवाले कर दिया। इसके साथ-साथ बदमाशों ने एक सिटी बस और पुलिस की तीन वाहनों में भी आग लगा दी। न्यूज एजेंसी एएनआई के मुताबिक आगजनी की यह घटना उस समय हुई जब 22 नवंबर को असम-मेघायल सीमा पर हुई हिंसा के विरोध में कुछ समूहों की ओर से कैंडल मार्च निकाला जा रहा था। मेघालय सरकार ने 7 जिलों में मोबाइल इंटरनेट और डेटा सेवाओं के निलंबन को और 48 घंटों के लिए बढ़ा दिया है।

ताजा घटनाक्रम में प्रदर्शनकारियों ने कथित तौर पर शांति बनाए रखने के लिए तैनात पुलिस बलों पर पत्थर और पेट्रोल बम भी फेंके हैं। सुरक्षाकर्मियों ने प्रदर्शनकारियों को तितर-बितर करने के लिए आंसू गैस के गोले भी दागे हैं। ईस्ट खासी हिल्स, शिलांग के एसपी एस नोंगटंगर ने एएनआई को बताया कि इस घटना में एक सिटी बस और एक जिप्सी सहित तीन पुलिस वाहनों को नुकसान पहुंचा है। उपद्रवियों ने ट्रैफिक बूथ में आग लगा दी और पुलिसकर्मियों पर पेट्रोल बम फेंके।

मंगलवार को हुई झड़प में छह लोगों की हुई थी मौत

असम-मेघालय सीमा के साथ पश्चिम कार्बी आंगलोंग जिले में एक विवादित स्थान पर मंगलवार तड़के हुई हिंसा में एक वन रक्षक सहित छह लोगों की मौत हो गई थी। झड़प उस समय हुई जब अवैध रूप से काटी गई लकड़ियों से लदे एक ट्रक को असम के वनकर्मियों द्वारा रोका गया था।   घटना के बाद यात्री कारों पर सिलसिलेवार हमलों के बाद असम सरकार ने वाहनों को मेघालय ले जाने से रोक दिया है।

12 क्षेत्रों में लंबे समय से विवाद है

असम और मेघालय के बीच 884.9 किलोमीटर लंबी अंतर-राज्यीय सीमा से सटे 12 क्षेत्रों में लंबे समय से विवाद है और जिस स्थान पर हिंसा हुई वह उनमें से एक है। दोनों राज्यों ने छह क्षेत्रों में विवाद को समाप्त करने की दिशा में इस साल मार्च में एक समझौता पर हस्ताक्षर किए थे। मेघालय को 1972 में असम से अलग किया गया था और तब से इसने असम पुनर्गठन अधिनियम, 1971 को चुनौती दे रखी है, जिसके अनुसार दोनों राज्यों के बीच सीमा का सीमांकन किया गया था।

epaper