DA Image
9 जुलाई, 2020|6:28|IST

अगली स्टोरी

चीन के साथ झड़प में शहीद भारतीय जवानों के लिए फ्रांस ने शोक प्रकट किया, रक्षा मंत्री बोली- फ्रांसीसी सेना भारत के साथ

french defence minister florence parly writes letter to rajnath singh and condoling martyr indian so

फ्रांसीसी रक्षा मंत्री फ्लोरेंस पैली ने कल अपने भारत के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह को चिट्ठी लिखकर गलवान घाटी में 20 भारतीयों की शहादत पर शोक व्यक्त किया है। फ्रांसीसी रक्षा मंत्री ने पत्र में लिखा, "यह सैनिकों, उनके परिवारों और राष्ट्र के खिलाफ एक हमला था। इन कठिन परिस्थितियों में मैं फ्रांसीसी सशस्त्र बलों के साथ अपने दृढ़ और मैत्रीपूर्ण समर्थन को व्यक्त करना चाहती हूं।"

इस बात को याद करते हुए कि भारत, फ्रांस का रणनीतिक साझेदार है, रक्षा मंत्री पार्ली ने अपने देश की गहरी एकजुटता को दोहराया। फ्रांस के सशस्त्र बल मंत्री ने रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के आमंत्रण को स्वीकार करते हुए भारत में मिलने के लिए तत्परता व्यक्त की।

फ्रांस जुलाई अंत तक राफेल लड़ाकू विमान की आपूर्ति कर देगा
भारत के शीर्ष रक्षा अधिकारियों ने कहा है कि उम्मीद के अनुरूप फ्रांस भारतीय वायुसेना को दो राफेल लड़ाकू विमानों की आपूर्ति जुलाई अंत तक कर देगा। अधिकारियों ने कहा कि कोरोना वायरस महामारी के शुरुआत में ही फ्रांस ने भारत को आपूर्ति तिथि के बारे में सूचित कर दिया था। एक वरिष्ठ आईएएफ अधिकारी ने कहा कि फ्रेंच कंपनी दशॉ एविएशन बहुप्रतीक्षित दो राफेल लड़ाकू विमानों की आपूर्ति जुलाई अंत तक कर देगी।

भारत और फ्रांस बहुपक्षीय सहयोग की प्रगति की समीक्षा
भारत और फ्रांस ने सोमवार को आपसी बहुपक्षीय सहयोग की प्रगति की समीक्षा की। विदेश मंत्रालय ने एक वक्तव्य जारी कर बताया कि दोनों देशों के विदेश सचिवों के बीच वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये हुई इस समीक्षा बैठक में आपसी हितों के क्षेत्रीय तथा वैश्विक मुद्दों पर चर्चा की गई। भारत ने फ्रांस के आपदा प्रबंधन अवसंरचना पर अंतरार्ष्ट्रीय गठबंधन में शामिल होने का स्वागत किया जबकि फ्रांस ने भारत को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद का अस्थायी सदस्य चुने जाने पर बधाई दी।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:French Defence Minister Florence Parly writes letter to Rajnath Singh and condoling martyr Indian soldiers in Galwan Valley