DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

वे दिन: जब गोरखपुर में विरोधी के मंच से बोलने लगे महंत अवेद्यनाथ

गोरखपुर लोकसभा सीट पर वर्ष 1971 में महंत अवेद्यनाथ निर्दलीय प्रत्याशी थे और नरसिंह नारायण पांडेय कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ रहे थे। 8 जनवरी, 2018 को दिवंगत हुए पूर्व सांसद पांडेय अक्सर यह किस्सा सुनाया करते थे। चुनाव प्रचार के दौरान एक दिन महंत अवेद्यनाथ के समर्थकों ने सहजनवां में नरसिंह नारायण पांडेय के मंच के ठीक बगल में उनका मंच लगा दिया। कुछ देर बाद दोनों के समर्थकों के बीच माहौल गर्म होने लगा। दोनों तरफ से एक-दूसरे के खिलाफ नारेबाजी होने लगी। महंत अवेद्यनाथ ने यह बात सुनी तो तत्काल मौके पर पहुंचे। 

उन्होंने अपने समर्थकों को बुरी तरह डांट लगाई। इसके बाद नरसिंह नारायण पांडेय ने उनसे अपने मंच से ही भाषण देने का आग्रह किया। महंत अवेद्यनाथ ने उनका आग्रह स्वीकार कर लिया और उनके मंच से लोगों को संबोधित किया। ये नजारा बेहद दिलचस्प था। एक निर्दलीय उम्मीदवार अपने विरोधी के मंच से भाषण दे रहा था। नरसिंह नारायण बताते थे, ‘महंत जी जब भी मुझे देखते थे, रुक जाते थे। आवाज देकर मुझे करीब बुलाते थे। मैं सम्मान से उनके पांव छूता था। वो मुस्कुराकर आशीर्वाद देते थे।' यह सिलसिला बाद के वर्षों में भी यूं ही चलता रहा।
 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:former MP Narasimha Narayan Pandey recalls a 1971 rally about mahant avaidyanath