ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News देशहमसे ट्यूटोरियल ले लीजिए, पूर्व केंद्रीय मंत्री ने एलन मस्क के ईवीएम वाले बयान पर दिया जवाब

हमसे ट्यूटोरियल ले लीजिए, पूर्व केंद्रीय मंत्री ने एलन मस्क के ईवीएम वाले बयान पर दिया जवाब

पूर्व केंद्रीय मंत्री राजीव चंद्रशेखर ने एलन मस्क के ईवीएम वाले बयान पर जवाब दिया है। एलन मस्क ने कहा था कि ईवीएम में हैकिंग का खतरा होता है। चंद्रशेखर ने मस्क को ट्यूटोरियल देने की पेशकश की है।

हमसे ट्यूटोरियल ले लीजिए, पूर्व केंद्रीय मंत्री ने एलन मस्क के ईवीएम वाले बयान पर दिया जवाब
Jagritiलाइव हिंदुस्तान,नई दिल्लीSun, 16 Jun 2024 01:03 PM
ऐप पर पढ़ें

बीजेपी नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री राजीव चंद्रशेखर ने रविवार को इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) के इस्तेमाल को खत्म करने के टेक दिग्गज एलन मस्क के बयान पर करारा जवाब दिया है। उन्होंने कहा है कि सुरक्षित डिजिटल हार्डवेयर सच में बनाया जा सकता है। मस्क ने ईवीएम की सुरक्षा पर बहस छेड़ते हुए कहा था कि ईवीएम को इंसान या आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस की मदद से हैक किया जा सकता है और इसीलिए उन्हें इस्तेमाल में नहीं लाया जाना चाहिए। 

अमेरिकी राजनीतिज्ञ रॉबर्ट एफ. कैनेडी जूनियर की प्यूर्टो रिको के हालिया चुनावों में ईवीएम के साथ समस्याओं चिंता व्यक्त की थी। इस पर जवाब देते हुए मस्क ने एक्स पर पोस्ट करते हुए लिखा, "हमें इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनों को खत्म कर देना चाहिए। मनुष्यों या एआई द्वारा हैक किए जाने का जोखिम, हालांकि कम है, फिर भी बहुत ज्यादा है।" राजीव चंद्रशेखर पिछली सरकार में इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय के राज्य मंत्री के रह चुके हैं। उन्होंने मस्क के दावे को "बहुत बड़ा सामान्यीकरण" बताया, जो सुरक्षित डिजिटल हार्डवेयर बनाने की संभावना की पहचान करने में असफल रहा। चंद्रशेखर ने लिखा, "यह बहुत बड़ा व्यापक सामान्यीकरण स्टेटमेंट है कि कोई भी सिक्योर डिजिटल हार्डवेयर नहीं बना सकता। यह गलत है।"

हमसे ट्यूटोरियल ले लीजिए: राजीव चंद्रशेखर

बीजेपी नेता ने कहा कि मस्क की चिंताएं उन देशों पर लागू हो सकती हैं जहां इंटरनेट कनेक्टिविटी के साथ मानक कंप्यूटिंग प्लेटफॉर्म का प्रयोग करके वोटिंग मशीनें बनाई जाती हैं। यह भारत पर लागू नहीं होती हैं। “भारतीय ईवीएम कस्टम डिज़ाइन किए जाते हैं। यह सुरक्षित और किसी भी नेटवर्क या मीडिया से अलग है - कोई कनेक्टिविटी नहीं, कोई ब्लूटूथ नहीं, वाईफाई, इंटरनेट नहीं। यानी कोई रास्ता नहीं है। फ़ैक्टरी प्रोग्राम किए गए नियंत्रक जिन्हें फिर से प्रोग्राम नहीं किया जा सकता है।”

राजीव चंद्रशेखर ने सुरक्षित इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनों को ठीक से डिज़ाइन और बनाने के तरीके पर एक ट्यूटोरियल देने की भी पेशकश की। "इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनों को ठीक से डिज़ाइन और बनाया जा सकता है जैसा कि भारत ने किया है। हमें एक ट्यूटोरियल देने में खुशी होगी एलन।"

केनेडी, जो एक स्वतंत्र उम्मीदवार के रूप में अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव लड़ रहे हैं, ने "सैकड़ों मतदान अनियमितताओं" पर एसोसिएटेड प्रेस की रिपोर्ट का हवाला दिया था और ऐसे मुद्दों की पहचान करने और उन्हें ठीक करने के लिए पेपर ट्रायल के महत्व पर जोर दिया था। उन्होंने ट्वीट कर लिखा, "सौभाग्य से, पेपर ट्रायल था इसलिए समस्या की पहचान की गई और वोटों की गिनती को सही किया गया। उन अधिकार क्षेत्रों में क्या होता है जहाँ पेपर ट्रायल नहीं है?"  उन्होंने लिखा कि अमेरिकी नागरिकों को यह जानने की ज़रूरत है कि उनके हर वोट की गिनती की गई है, और उनके चुनावों को हैक नहीं किया जा सकता है। चुनावों में इलेक्ट्रॉनिक हस्तक्षेप से बचने के लिए पेपर बैलेट पर वापस लौटने की ज़रूरत है।