DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

5 मजदूरों ने पहले एक साथ खाया खाना और फिर 10 मिनट बाद ही हो गई मौत

5                                                                                                       10

सीवर लाइन के कनेक्शन का काम कर रहे पांच मजदूरों की मौत महज दस मिनट के अंदर हो गई। संदीप (30), होरिल (35), विजय (40), शिवकुमार (32) और दामोदर (40) एक के बाद एक सीवर के मैनहोल में उतरते गए और अंदर से निकल रही मिथेन गैस की चपेट में आकर मौत के शिकार होते गए। यह सबकुछ मौके पर मौजूद आधा दर्जन लोगों की आंखों के सामने हुआ। लेकिन जबतक कोई कुछ समझ पाता, इन पांचों मजदूरों की मौत हो चुकी थी।

सीवर लाइन में कनेक्शन का काम कृष्णाकुंज स्थित एक पंसारी की दुकान के बाहर चल रहा था। दुकानदार रामबीर के मुताबिक करीब साढ़े 12 बजे पांचों मजदूरों ने एक साथ खाना खाया और काम पर लग गए। चूंकि सीवर लाइन के लिए बनाए गए चैंबर को मैनहोल से जोड़ा जाना था। इसलिए ठेकेदार विजय ने एक मजदूर को मैनहोल में छेद कर पाइप लगाने के लिए कहा। इसके बाद मजूदर मैनहोल का ढक्कन हटा कर अंदर घुसा ही था कि अंदर से गैस का भभका निकला और वह उसकी चपेट में आकर बेहोश हो गया और 13 फीट नीचे जा गिरा। करीब दो मिनट बाद दूसरा मजूदर यह देखने के लिए गया कि पहले ने मैनहोल को तोड़ना क्यों नहीं शुरू किया, लेकिन अंदर जाते ही वह भी बेहोश होकर अंदर गिर गया। इसी प्रकार पांचों मजदूर महज दस मिनट के अंदर एक दूसरे को देखने के चक्कर में अंदर गिरते गए। 

गाजियाबाद : सीवर सफाई के दौरान 5 की मौत, बिहार के रहने वाले थे सभी मृतक

गैरइरदातन हत्या का मामला दर्ज

सिहानी गेट थाना पुलिस ने नगर निगम की शिकायत पर जलनिगम के अधिशासी अभियंता व ईएमएस इंफ्राकॉन कंपनी के खिलाफ गैरइरादतन हत्या का मामला दर्ज किया है। पुलिस ने दोनों आरोपियों के खिलाफ एससी एसटी एक्ट की धाराएं भी लगाई हैं। पुलिस अधीक्षक (शहर) श्लोक कुमार सिंह के मुताबिक पुलिस मामले की जांच कर रही है। उन्होंने बताया कि नगर निगम गाजियाबाद के अधिशासी अभियंता आनंद कुमार त्रिपाठी और सहायक अभियंता योगेंद्र सिंह ने सिहानी गेट थाना पुलिस को लिखित शिकायत दी है। इसमें बताया है कि जलनिगम के पर्यवेक्षण में सीवर लाइन का काम शुरू किया गया था। 

काम की जिम्मेदारी ईएमएस इंफ्राकॉन कंपनी के पास है। इस साइट पर गुरुवार को पांच मजदूरों की मौत की सूचना मिलने के बाद नगर निगम की टीम ने मौका मुआयना किया था। इस दौरान पाया गया कि साइट पर काम कर रहे मजदूरों को सुरक्षा उपकरण नहीं दिया गया था। उन्होंने अपनी शिकायत में ठेकेदार कंपनी को जहां सुरक्षा उपकरण उपलब्ध कराने में लापरवाही का आरोपी बताया है तो जलनिगम के अधिशासी अभियंता रविंद्र सिंह को अपनी ड्यूटी के प्रति लापरवाह बताया है। इस शिकायत के अधार पर सिहानी गेट थाना पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:five labourers working in sewer line died in 10 minutes at ghaziabad