DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   देश  ›  निर्मला सीतारमण का कांग्रेस पर हमला, कहा- पार्टी हिंसा करने वालों के साथ
देश

निर्मला सीतारमण का कांग्रेस पर हमला, कहा- पार्टी हिंसा करने वालों के साथ

जयपुर, एजेंसीPublished By: Madan
Sun, 05 Jan 2020 08:03 PM
निर्मला सीतारमण का कांग्रेस पर हमला, कहा- पार्टी हिंसा करने वालों के साथ

केन्द्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने रविवार को कहा कि कांग्रेस पार्टी आज उस कांग्रेस से अलग है, जिसने स्वतंत्रता आंदोलन का नेतृत्व किया था क्योंकि अब वह हिंसा करने वालों के साथ खड़ी है। नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) को लेकर कांग्रेस पर हमला करते हुए वित्त मंत्री ने आरोप लगाया कि पार्टी तुष्टिकरण की राजनीति कर रही है और इस कानून को लेकर लोगों में गलतफहमी फैला रही है।

भाजपा मुख्यालय पर आयोजित संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए सीतारमण ने आरोप लगाया कि विपक्ष गलतफहमी पैदा कर रहा है और सीएए पर लोगों को गुमराह कर रहा है। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने एक बयान का वीडियो जारी किया लेकिन उन्होंने हिंसा की निंदा नहीं की। कांग्रेस उन लोगों के साथ खड़ी है, जो हिंसा कर रहे हैं।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस बार-बार देश को बताती है कि उन्होंने (कांग्रेस पार्टी) स्वतंत्रता संग्राम चलाया और वो पूछते है कि हम कहां थे...स्वतंत्रता आंदोलन का नेतृत्व करने वाली कांग्रेस टुकडे़-टुकडे़ गैंग के साथ खड़ी नहीं हो सकती और हिंसा का समर्थन नहीं कर सकती, यह अलग कांग्रेस है।

उन्होंने कहा कि ये लोग सत्ता से दूर रहने के आदी नहीं है। ये लोग तुष्टिकरण की राजनीति करने के आदी है। सीतारमण ने कहा कि कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी उनके साथ खडे थे, जिन्होंने 'देश तेरे टुकडे होंगे के नारे लगाये थे। उन्होंने नागरिकता के मुद्दे पर कहा कि ये यह पहली बार नहीं है, जब नागरिकता दी जा रही है।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने अपने अपने घोषणा पत्रों में वादे किये लेकिन वादा पूरा नहीं किया। उन्होंने कहा कि भाजपा द्वारा अपने घोषणा पत्र में किये गये वादो को पूरा करने के लिये इन शरणार्थियों को नागरिकता दे रही है तो इन्हे यह गलत लग रहा है। राज्य में सीएए को लागू नहीं करने के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के फैसले पर केंद्र की प्रतिक्रिया के बारे में पूछे जाने पर सीतारमण ने कहा कि गहलोत भूल गए हैं कि उन्होंने पाकिस्तान के शरणार्थियों को नागरिकता देने के लिए केंद्र को (अपने पहले कार्यकाल के दौरान) एक पत्र लिखा था।

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि उन्हें (गहलोत को) याद रखना चाहिए कि उन्होंने केंद्र को एक पत्र लिखा था। उन्हें अब (मोदी) सरकार का समर्थन करना चाहिए, जब नागरिकता संशोधन कानून को लागू किया जा रहा है।
उन्होंने कोटा के अस्पतालों में बच्चों की मौतों को लेकर मुख्यमंत्री (अशोक गहलोत) पर निशाना साधते हुए कहा कि उन्हें उपमुख्यमंत्री ने जो कहा है उसे सुनना चाहिए।

शनिवार को कोटा के जेके लोन अस्पताल में अपनी यात्रा के दौरान उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट ने कहा था कि इस मुद्दे पर सरकार को और अधिक जिम्मेदार और संवेदनशील होना चाहिए था। वित्त मंत्री ने आरोप लगाया की मुख्यमंत्री बच्चों की मौतों के बजाय सीएए पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं। वह अल्पसंख्यक वोटों के बारे में चिंतित हैं।

किसी का नाम लिए बगैर उन्होंने कहा कि जो लोग तिरंगा फहराने में संकोच करते थे वे अब गणतंत्र दिवस पर तिरंगा फैराने की बात कर रहे हैं। इससे पूर्व सीतारमण ने सांगानेर इलाके के कागजी मोहल्ले में खुदाबक्श चौक पर भाजपा कार्यकर्ताओं को संबोंधित करते हुए विपक्ष पर निशाना साधते हुए कहा कि विपक्ष नागरिकता संशोधन कानून को लेकर लोगो में गलतफहमी फैला रहा है।

उन्होंने एक मुस्लिम परिवार को बताया कि नागरिकता संशोधन कानून किसी की भी नागरिकता लेने के लिये नहीं है। विपक्ष को कुछ और विषय नहीं मिल रहा है इस लिये वो जानबूझ कर गलतफहमी फैला रहा है। कागजी मोहल्ले में जनजागरण अभियान के शुभारंभ के बाद वित्त मंत्री ने पास की लक्ष्मी कॉलोनी में अभियान चलाने पहुंची।

संबंधित खबरें