DA Image
28 मई, 2020|4:37|IST

अगली स्टोरी

लॉकडाउन: पुलिसवालों का मनोबल बढ़ाकर कोरोना महामारी से जंग

लॉकडाउन के दौरान व्यवस्था संभालने के लिए अग्रिम मोर्चे पर तैनात पुलिसकर्मियों का मनोबल बढ़ाने की कोशिश की जा रही है। यूपी पुलिस के जवानों को प्रेरित करने की रणनीति और पुलिसकर्मियों को संक्रमण से बचाने की कवायद अन्य राज्यों से श्रेष्ठ प्रयोग के तौर पर साझा की गई है। मजदूरों को लेकर हो रही तमाम आलोचना के बीच यूपी में पुलिस बलों द्वारा प्रवासी मजदूरों का भीड़ प्रबंधन भी कारगर रणनीति माना गया है। दरअसल, कोरोना संकट से पुलिसकर्मियों पर काम का बोझ बढ़ गया है। उन्हें कई घंटे अतिरिक्त ड्यूटी करनी पड़ रही है।

ब्यूरो ऑफ पुलिस रिसर्च एंड डेवलपमेंट (बीपीआरडी) द्वारा वेबिनार में यूपी का प्रतिनिधित्व करने वाले एडीजी मेरठ जोन प्रशांत कुमार* ने 'हिन्दुस्तान' को बताया कि उच्च स्तर से निचले स्तर के जवान तक सीधा संवाद करने की रणनीति और पुलिसबलों को मिल रहे लोगों के समर्थन व सहयोग का असर है कि छुट्टी पर गए पुलिसकर्मी भी वापस लौटकर ड्यूटी करने की इच्छा जाहिर कर रहे हैं।

कई राज्य रणनीति साझा कर रहे : पुलिसकर्मियों का तनाव कम करने और उनका मनोबल ऊंचा रखने की कवायद में कई राज्य अपने रणनीति और सफल प्रयोग आपस में साझा कर रहे हैं। लॉकडाउन के दौरान राज्य पुलिस *बलों के श्रेष्ठ प्रयासों को साझा करने के लिए बीपीआरडी लगातार संवाद आयोजित कर रहा है। शुक्रवार को चौथी बार वेबिनार का आयोजन किया गया था।

पुलिस को कोरोनामुक्त रखने की रणनीति: यूपी की ओर से एडीजी मेरठ जोन ने प्रदेश और खासतौर पर मेरठ ज़ोन में कोरोना संकट के बीच अपनाई गई पुलिस प्रबंधन की रणनीति को श्रेष्ठ प्रयोग के तौर पर अन्य राज्यों से साझा किया। मेरठ जोन में 9 पुलिस लाइन को कोरोना फ्री रखने की रणनीति को लेकर कई राज्यों ने रुचि दिखाई। एडीजी ने बैठक में बताया कि पुलिस लाइन में सिंगल एंट्री रखी गई और सैनिटाइजिंग टनल स्थापित करके थानों में वाशिंग मशीन, फ्रिज एवं वाटर डिस्पेंसर स्थापित किए गए। 50 साल से ज्यादा के पुलिसकर्मियों को फ्रंट लाइन ड्यूटी से मुक्त रखा गया है। ड्यूटी पर तैनात पुलिसकर्मियों की चिंता कम करने के लिए पुलिस लाइन एवं उनके आवास पर परिजनों को सभी दैनिक उपयोग की चीजें पहुंचाई गईं।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Fighting with coronavirus by boosting morale of policemen