DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   देश  ›  रामदेव की टिप्पणी के विरोध में आज काला दिवस मनाएंगे डॉक्टर, योगगुरु ने एलोपैथी पर कसा था तंज

देशरामदेव की टिप्पणी के विरोध में आज काला दिवस मनाएंगे डॉक्टर, योगगुरु ने एलोपैथी पर कसा था तंज

एजेंसी,नई दिल्लीPublished By: Priyanka
Tue, 01 Jun 2021 09:17 AM
रामदेव की टिप्पणी के विरोध में आज काला दिवस मनाएंगे डॉक्टर, योगगुरु ने एलोपैथी पर कसा था तंज

एलोपैथी पर योग गुरु रामदेव की टिप्पणी से नाराज फेडरेशन ऑफ रेजिडेंट डॉक्टर्स एसोसिएशन (Forda) के सदस्य आज यानी 1 जून को देशभर में काला दिवस मनाएंगे। हालांकि, Forda ने कहा है कि उनके इस प्रदर्शन से मरीजों को कोई नुकसान नहीं होगा। योग गुरु बाबा रामददेव ने कोरोना वायरस संक्रमण के इलाज के लिए इस्तेमाल की जा रही कुछ दवाओं पर सवाल उठाया था और उन्हें यह कहते हुए सुना गया था कि कोविड -19 के लिए एलोपैथिक दवाएं लेने से लाखों लोग मारे गए हैं। उनके इस बयान के बाद से ही विवाद छिड़ गया है। 

पहले इंडियन मेडिकल एसोसिएशन ने उनके बयानों का जोरदार तरीके से विरोध किया। इसके बाद उनके खिलाफ पुलिस में शिकायत भी दर्ज कराई गई। आज प्रदर्शन के तौर पर कोरोना ड्यूटी में में तैनात सभी डॉक्टर, नर्स व अन्य स्वास्थ्यकर्मी अपनी पीपीई किट पर काली पट्टी बांधकर काम करेंगे।  साथ ही अपने सोशल मीडिया हैंडल की प्रोफाइल पिक्चर को भी काला करेंगे। 

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने भी रामदेव से उनके "बेहद दुर्भाग्यपूर्ण" बयान को वापस लेने के लिए कहा था। इसके बाद रविवार को बाबा रामदेव को अपने बयान वापस लेने पड़े। हालांकि योग गुरु यहीं नहीं रुके। उन्होंने अगले ही दिन एक ट्वीट किया और इंडियन मेडिकल एसोसिएशन से 25 सवाल पूछ दिए। पत्र में एलोपैथी के जरिए बीमारियों के स्थायी निदान क्या हैं, इसके बारे में पूछा गया था।

गुजरात के डॉक्टरों ने रामदेव पर कार्रवाई के लिए पुलिस से किया संपर्क
गुजरात में डॉक्टरों का प्रतिनिधित्व करने वाले अहम संगठनों ने आधुनिक चिकित्सा पद्धति और उसके चिकित्सकों के विरुद्ध कथित रूप से अपमाननजक टिप्पणियां करने को लेकर योगगुरु रामदेव के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने की मांग करते हुए सोमवार को यहां अहमदाबाद पुलिस से संपर्क किया।

इंडियन मेडिकल एसोसिएशन की गुजरात इकाई और अहमदाबाद मेडिकल एसोसिएशन के वरिष्ठ डॉक्टरों एवं पदाधिकारियों ने नवरंगपुरा पुलिस को अलग-अलग आवेदन दिए तथा रामदेव के खिलाफ कार्रवाई की मांग की। एलोपैथी और टीकों के खिलाफ टिप्पणियां कर रामदेव विवादों में घिर गए हैं। दोनों ही संगठनों ने पुलिस से रामदेव के विरुद्ध महामारी रोग अधिनियम और आपदा प्रबंधन अधिनियम की संबंधित धाराओं के तहत प्राथमिकी दर्ज करने की अपील की। पुलिस ने कहा कि उसे डॉक्टरों से ज्ञापन मिले हैं। पुलिस उपायुक्त (जोन-1) रवींद्र पटेल ने कहा, ‘उन्होंने जो मुद्दा उठाया है, वह हमारे क्षेत्राधिकार के बाहर है।’ उन्होंने कहा कि कोई प्राथमिकी दर्ज नहीं की गई है।

संबंधित खबरें