DA Image
24 जनवरी, 2021|3:10|IST

अगली स्टोरी

खत्म नहीं होगा अन्नदाताओं का प्रदर्शन? अमित शाह की अपील पर किसान बोले- बातचीत के लिए सशर्त न्योता ठीक नहीं

farmers protest amit shah bharatiya bharatiya kisan union s punjab president agricultural law delhi

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की ओर से बातचीत की अपील को किसान मानने को तैयार नहीं है। भारतीय किसान यूनियन के पंजाब अध्यक्ष जगजीत सिंह ने कहा कि गृह मंत्री अमित शाह जी ने सशर्त जल्दी मिलने की बात कही है जो कि अच्छा नहीं है। उन्हें बिना शर्त खुले दिल से बातचीत की पेशकश करनी चाहिए। जगजीत सिंह ने कहा कि इस संबंध में हम कल बैठक करेंगे और फिर अपने प्रतिक्रिया तय करेंगे।

तीन कृषि कानूनों के खिलाफ हो रहे प्रदर्शन को लेकर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने शनिवार को कहा है सरकार किसान की हर मांग और समस्या पर विचार करने के लिए तैयार है। अमित शाह ने किसानों को बातचीत करने का न्योता दिया है। सरकार ने कहा है कि अगर किसान जल्द बातचीत करना चाहते हैं तो फिर वे प्रदर्शन करने के लिए दी गई जगह पर शिफ्ट हों और फिर उसके अगले दिन सरकार उनसे चर्चा करेगी। 

गृह मंत्री अमित शाह ने कहा, ''मैं प्रदर्शन कर रहे किसानों से अपील करता हूं कि भारत सरकार बातचीत करने के लिए तैयार है। किसानों को कृषि मंत्री ने 3 दिसंबर को बातचीत करने के लिए बुलाया है। सरकार किसानों की मांगों और सभी समस्याओं पर विचार करने के लिए तैयार है।''

यह भी पढ़ें- हरियाणा: किसानों पर हत्या के प्रयास और दंगा करने के आरोप में केस दर्ज

उन्होंने आगे कहा, ''कई स्थानों पर, किसान इस ठंड में अपने ट्रैक्टरों और ट्रोलियों के साथ रह रहे हैं। मैं उनसे अपील करता हूं कि दिल्ली पुलिस आपको बड़े मैदान में ले जाने के लिए तैयार है, कृपया वहां जाएं। आपको वहां कार्यक्रम आयोजित करने की अनुमति दी जाएगी।''

केंद्रीय गृह मंत्री ने कहा कि अगर किसान संघ 3 दिसंबर से पहले बातचीत करना चाहते हैं तो फिर मैं आश्वस्त करता हूं कि जैसे ही आप अपने प्रदर्शन को अनुमति दी गई वाली जगह पर शिफ्ट करते हैं, हमारी सरकार उसके अगले दिन ही आपकी चिंताओं को दूर करने के लिए बातचीत आयोजित करेगी।

दिल्ली की सीमाओं पर हजारों की संख्या में किसान जमे रहे, शनिवार दिन में उनकी संख्या बढ़ती गई क्योंकि काफी संख्या में किसान यहां और पहुंच गए और सैकड़ों किसान महानगर के बुराड़ी मैदान में इकट्ठे हुए और नए कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन किया। 

सड़क पर एक और रात बिताने के लिए तैयार कुछ किसानों का कहना था कि वे रविवार को होने वाली महत्वपूर्ण बैठक का इंतजार करेंगे जिसमें आगे की रूपरेखा तय होगी। भारतीय किसान यूनियन काडिया के जालंधर इकाई के अध्यक्ष बलजीत सिंह महल ने कहा, कल सुबह 11 बजे एक और बैठक होगी। तब तक हम सिंघू पर ही रहेंगे। 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Farmers Protest Amit Shah Bharatiya Bharatiya Kisan Union Punjab president Agricultural law Delhi Farmers Protest