ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News देशबॉर्डर पर किसान-पुलिस की भिड़ंत में सवा सौ लोग घायल, हरियाणा के 7 जिलों में 3 दिन तक इंटरनेट बंद

बॉर्डर पर किसान-पुलिस की भिड़ंत में सवा सौ लोग घायल, हरियाणा के 7 जिलों में 3 दिन तक इंटरनेट बंद

Farmers Protest 2024: पथराव के दौरान 24 पुलिसकर्मियों को गंभीर चोटें आई। इनमें 15 पुलिसकर्मी (डी.एस.पी. व अन्य रैंक) शंभू बॉर्डर पर ड्यूटी के दौरान घायल हुए जबकि 9 पुलिसकर्मी दाता सिंह बॉर्डर जींद मे

बॉर्डर पर किसान-पुलिस की भिड़ंत में सवा सौ लोग घायल, हरियाणा के 7 जिलों में 3 दिन तक इंटरनेट बंद
Pramod Kumarमोनी देवी, हिन्दुस्तान,चंडीगढ़Tue, 13 Feb 2024 11:02 PM
ऐप पर पढ़ें

किसान संगठनों द्वारा दिल्ली कूच के आह्वान के मद्देनजर हजारों प्रदर्शनकारियों ने मंगलवार को ट्रैक्टर-ट्राली लेकर पंजाब से दिल्ली की ओर कूच किया। पुलिस ने उन प्रदर्शनकारियों को रोकने की कोशिश की लेकिन शंभू बॉर्डर (अम्बाला) और दाता सिंह वाला बॉर्डर (खनौरी-जींद) पर धारा-144 लागू होने के बावजूद प्रदर्शनकारियों ने बैरिकेडिंग तोड़ने का प्रयास किया। इस दौरान प्रदर्शनकारियों द्वारा पुलिसकर्मियों पर भारी पथराव किया गया।

पुलिस द्वारा धैर्य और संयम का परिचय देते हुए वाटर कैनन, आंसू गैस के गोले व हल्के बल का इस्तेमाल कर कानून व्यवस्था बनाए रखी गई। पथराव के दौरान 24 पुलिसकर्मियों को गंभीर चोटें आई। इनमें 15 पुलिसकर्मी (डी.एस.पी. व अन्य रैंक) शंभू बॉर्डर पर ड्यूटी के दौरान घायल हुए जबकि 9 पुलिसकर्मी दाता सिंह बॉर्डर जींद में घायल हुए। सभी पुलिसकर्मियों का नजदीकी स्वास्थ्य केंद्रों में उपचार किया जा रहा है। दोनों बॉर्डर पर हुए टकराव में 100 किसान भी घायल हुए हैं।

15 फरवरी तक इंटरनेट बंद
इस बीच, हरियाणा के 7 जिलों में अब 15 फरवरी की रात 12 बजे तक तक इंटरनेट सेवाएं बंद कर दी गई हैं। इससे पहले गृह विभाग की ओर से किसानों के दिल्ली कूच के चलते अम्बाला, कुरुक्षेत्र, कैथल, जींद, हिसार, फतेहाबाद और सिरसा में गत रविवार से इंटरनेट सेवाएं बंद करने का सरकार ने फैसला लिया था। लेकिन 13 फरवरी को पंजाब की ओर से हरियाणा की सीमा में पहुंचे किसानों के आंदोलन को देखते हुए सरकार ने इंटरनेट बंद करने की समय अवधि 2 दिन और बढ़ा दी है। वहीं, सरकार के फैसले के बाद भी सोशल मीडिया पर किसानों के प्रदर्शन की खबरें वायरल होती रहीं। 

सोशल मीडिया पर भड़काऊ पोस्ट न डालें
इस बारे में सरकारी प्रवक्ता ने बताया कि प्रदेश में स्थिति पूरी तरह नियंत्रण में रही। प्रदेश के विभिन्न जिलों में धारा-144 लगाई गई है, जिनकी उल्लंघना करने वालों के खिलाफ नियमानुसार कानूनी कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि लोग शांतिपूर्वक ढंग से प्रदर्शन कर सकते हैं लेकिन कानून अपने हाथ में लेने की अनुमति किसी को भी नहीं दी जा सकती। उन्होंने बताया कि प्रदेश में शांति व्यवस्था भंग करने वालों पर नियमानुसार कार्रवाई की जा रही है इसलिए लोग किसी भी गैर-कानूनी संगठन का हिस्सा ना बनें। लोग सोशल मीडिया पर भड़काऊ पोस्ट न डालें। सोशल मीडिया मॉनिटरिंग सैल द्वारा इस प्रकार की पोस्ट पर नजर रखी जा रही है और भड़काऊ तथा भ्रामक पोस्ट डालने वालों पर नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें