ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News देशप्रदर्शन के दौरान खनौरी बॉर्डर पर किसान की मौत, अब तक 4 ने गंवाई जान; 5 लाख रुपये मुआवजे का ऐलान

प्रदर्शन के दौरान खनौरी बॉर्डर पर किसान की मौत, अब तक 4 ने गंवाई जान; 5 लाख रुपये मुआवजे का ऐलान

खनौरी बॉर्डर पर प्रदर्शन कर रहे किसान ने गुरुवार रात को दम तोड़ दिया। मृतक की पहचान दर्शन सिंह के तौर पर हुई है जो 62 साल का था। रिपोर्ट के मुताबिक, वह बठिंडा जिले के अमरगढ़ के रहने वाले थे।

प्रदर्शन के दौरान खनौरी बॉर्डर पर किसान की मौत, अब तक 4 ने गंवाई जान; 5 लाख रुपये मुआवजे का ऐलान
Niteesh Kumarलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीFri, 23 Feb 2024 03:43 PM
ऐप पर पढ़ें

एमएसपी समेत दूसरी मांगों को लेकर चल रहे आंदोलन के बीच एक और प्रदर्शनकारी किसान की मौत हो गई है। खनौरी बॉर्डर पर प्रदर्शन कर रहे इस किसान ने गुरुवार रात को दम तोड़ दिया। मृतक की पहचान दर्शन सिंह के तौर पर हुई है जो 62 साल का था। रिपोर्ट के मुताबिक, वह बठिंडा जिले के अमरगढ़ के रहने वाले थे। दर्शन सिंह की मौत कैसे हुई, इसका कारण अभी तक पता नहीं चला है। बताया जा रहा है कि फिलहाल पोस्टमार्टम जारी है जिसके बाद मौत का कारण सामने आ पाएगा। 

अब तक मिली सूचना के मुताबिक, दर्शन सिंह गुरुवार रात करीब 11 बजे बेहोश हो गए थे। तबीयत खराब होने पर कम्युनिटी हेल्थ सेंटर में उनका इलाज किया गया। कुछ समय बाद उन्हें पटियाला के सरकारी राजेंद्र हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया, जहां डॉक्टर्स ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। बताया जा रहा है कि घर पर उनकी पत्नी, एक बेटा और एक बेटी हैं। उनके बेटे की शादी 15 दिन पहले ही हुई थी। सिंह की मौत से उनके घर का माहौल गमगीन है। परिवार के लोगों के आंसू नहीं रुक रहे हैं। 

'मुआवजे के रूप में 5 लाख रुपये देने का ऐलान' 
दर्शन सिंह की मृत्यु पर किसान नेता सरवन सिंह पंढेर का बयान आया है। उन्होंने कहा, 'वह खनौरी बॉर्डर पर थे और इस किसान आंदोलन के चौथे शहीद हैं। उनकी पहचान दर्शन सिंह के रूप में हुई है। वह 62 साल के थे। उनकी मृत्यु दिल का दौरा पड़ने से हुई। पिछले तीन शहीदों के समान ही मुआवजा दिया गया है और उनके परिवार के एक सदस्य को नौकरी दी जानी चाहिए। उन्होंने पहले प्रत्येक को मुआवजे के रूप में 5 लाख रुपये प्रदान किए हैं।' इस दौरान पंढेर से पूछा गया कि किसान आंदोलन किस दिशा में बढ़ता दिख रहा है। इस पर उन्होंने कहा कि बैठक के बाद इस बारे में आगे की जानकारी दी जाएगी। 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें