Fake call center busted in Ghaziabad and 3 arrested - गाजियाबाद में फर्जी कॉल सेंटर का भंडाफोड़, बीमा के नाम पर ऐंठते थे पैसे, तीन गिरफ्तार DA Image
14 नबम्बर, 2019|7:49|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गाजियाबाद में फर्जी कॉल सेंटर का भंडाफोड़, बीमा के नाम पर ऐंठते थे पैसे, तीन गिरफ्तार

गाजियाबाद के विजयनगर पुलिस ने प्रताप विहार में फर्जी कॉल सेंटर का भंडाफोड़ किया है। इस दौरान तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर 1.90 लाख रुपये, 18 फोन, चार टैब, मोबाइल आदि बरामद किया है। आरोपी लोगों को कॉल कर पॉलिसी के नाम पर ठगी करते थे। ये लोग ज्यादातर उड़ीसा के लोगों को शिकार बनाते थे। पुलिस का दावा है कि आरोपी अब तक एक हजार लोगों के साथ जालसाजी कर चुके हैं। 

क्षेत्राधिकारी द्वितीय आतिश कुमार सिंह ने बताया कि प्रताप विहार में फर्जी कॉल सेंटर की सूचना मिली थी। पुलिस ने सोमवार रात 12:50 बजे एविलेशन बिजनेस सॉल्यूशन नाम के कॉल सेंटर पर छापा मारा। उस समय कॉल सेंटर में तीन लोग मिले, जो मौके पर कॉल सेंटर के कागजात नहीं दिखा पाए। इसके बाद पुलिस ने तीनों को हिरासत में लेकर दफ्तर से 1.90 लाख रुपये समेत सारा सामान बरामद कर लिया। 

सीओ ने बताया कि सोनू व बलराम सिंह निवासी बक्सर बिहार और अमन निवासी साहिबाबाद को थाने लाकर पूछताछ की गई। पूछताछ में आरोपियों ने बताया कि वह ऐसे पॉलिसी होल्डरों की लिस्ट प्राप्त कर लेते थे जो किसी वजह से अपनी किस्त जमा नहीं कर पाए थे। ये लोग उन्हें उनका पैसा वापस दिलाने का झांसा देकर फर्जी पॉलिसी बेचकर रकम ऐंठ लेते थे। इसके अलावा जीएसटी बचाने के नाम पर भी पैसे ठग लेते थे। ठगी के आधे पैसे इन्हें मिलते थे, जबकि बाकी पैसे डाटा उपलब्ध कराने वाले व अन्य लोगों को दिए जाते थे।

उड़ीसा के लोगों को शिकार बनाते थे
सीओ ने बताया कि यह लोग अधिकतर उड़ीसा के लोगों को अपना शिकार बनाते थे, जिससे वो लोग यहां आकर शिकायत न कर सकें। यह ज्यादातर 50 साल से ऊपर वाले लोगों को झांसे में लेते थे, जिनकी पॉलिसी बंद हो चुकी होती थी। पॉलिसी की रकम वापस न देकर नई फर्जी पॉलिसी कर रकम ऐंठ लेते थे। 

एजेंट का काम करते समय तीनों संपर्क में आए
पुलिस ने बताया कि तीनों आरोपी नोएडा की एक कंपनी में एजेंट का काम करते समय संपर्क में आए थे। बिहार के रहने वाले दोनों आरोपी पहले बिहार में भी एजेंट के रूप में काम कर चुके थे, जिससे इन लोगों का फील्ड में रहने वाले लोगों से संपर्क हो गया था, जिनसे यह डाटा खरीद लेते थे। 

मोटी कमाई के चक्कर में फंसे
पकड़े गए तीनों आरोपी ग्रेजुएट हैं। दो आरोपियों ने बीए तो एक ने बीएससी किया है, लेकिन एजेंट के तौर पर मोटी रकम न मिलने पर तीनों ने लोगों को ठगने की योजना बनाई। इसके बाद विजयनगर के प्रताप विहार में किराये की बिल्डिंग में ठगी का कॉल सेंटर खोल दिया। बीते दो वर्ष से यह लोग अब तक एक हजार लोगों को अपना शिकार बना चुके हैं। 

प्रतिमाह ढाई लाख का कमीशन
सीओ ने बताया कि तीनों आरोपी लोगों को फर्जी तरीके से फंसाकर प्रतिमाह ढाई लाख रुपये कमा लेते थे। तीनों पार्टनर हैं। कमाई को आपस में बांट लेते थे। इसके अलावा जिससे डाटा खरीदते थे, उन्हें भी पैसे दिए जाते थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Fake call center busted in Ghaziabad and 3 arrested