DA Image
हिंदी न्यूज़ › देश › महाराष्ट्र में कोरोना का महा विस्फोट, कैसे होगा कंट्रोल, एक्सपर्ट्स ने सुझाए ये 10 उपाय
देश

महाराष्ट्र में कोरोना का महा विस्फोट, कैसे होगा कंट्रोल, एक्सपर्ट्स ने सुझाए ये 10 उपाय

लाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीPublished By: Mrinal Sinha
Sun, 04 Apr 2021 11:23 AM
महाराष्ट्र में कोरोना का महा विस्फोट, कैसे होगा कंट्रोल, एक्सपर्ट्स ने सुझाए ये 10 उपाय

महाराष्ट्र में कोरोना वायरस ने त्राही-त्राही मचा दी है। एक तरफ जहां भारत कोरोना वायरस की दूसरी लहर से जूझ रहा है वहीं, महाराष्ट्र में देश में सबसे ज्यादा मामले देखने को मिल रहे हैं। महाराष्ट्र का भारत के दैनिक मामलों में लगभग 60 प्रतिशत का योगदान कर रहा है। पूरे देश में कोरोना के मामले में महाराष्ट्र टॉप पर बना हुआ है। यहां कोरोना के बढ़ते मरीजों को देखते हुए कई कोरोना सेंटर्स भी बनाए जा रहे हैं। पिछले एक सप्ताह में राज्य में 1 लाख 90 हजार से ज्यादा मामले सामने आए हैं।

इधर, पूरे देश में कोरोना वायरस के मामलों में हर दिन रिकॉर्ड इजाफा हो रहा है और अब यह आंकड़ा 90 हजार पार कर गया है। भारत में बीते 24 घंटे में कोरोना वायरस के 93 हजार से अधिक मामले सामने आए हैं और 513 से अधिक लोगों की मौतें हुईं हैं। मध्य सितंबर के बाद से कोरोना के ये आंकड़े सबसे अधिक हैं। कोरोना केस के दैनिक मामलों में आज भी शनिवार की तुलना में बड़ा इजाफा है। हालांकि, राहत की बात है कि मरने वालों की संख्या बीते दिन की तुलना में काफी कम है। शनिवार को 741 लोगों की कोरोना से मौत हुई थी। 

महाराष्ट्र के बुरे होते हालातों के बीच विशेषज्ञों ने कहा है कि इससे निपटने के लिए आवश्यक कदम उठाए जाने चाहिए:

1. सार्वजनिक बसों, लोकल ट्रेनों में कम से कम सवारी रखी जाएगी।

2. 50% कर्मचारियों को दफ्तर में काम करने की अनुमति दी जाए।

3. मॉलों में कोरोना नियमों को सख्त रूप से लागू किया जाए। बाजारों के लिए विषम / सम-दिवस को लागू किया जाए।

4.  रात में गैर जरूरी यात्राओं पर रोक लगाई जाए।

5. राज्य भर में सभी 18 और उससे अधिक उम्र वालों का टीकाकरण किया जाए।

6. छोटे-छोटे कंटेनमेंट जोन में कोरोना नियमों पर सख्ती की जाए।

7. सार्वजनिक स्थानों जैसे पार्कों और सी बीच पर लोगों की भीड़ कम की जाए।

8. शादियों में अधिकतम 50 लोगों की उपस्थिति हो।

9. होम क्वारंटाइन का उल्लंघ्न करने वालों और मास्क न पहनने वालों पर भारी जुर्माना लगाया जाए।

10. पब्लिक मीटिंग के नियमों का पालन न करने वालों पर सख्त जुर्माना लगाया जाए।

संबंधित खबरें