DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   देश  ›  विशेषज्ञ ने भारत के लिए सुझाई नई टीका रणनीति, 2 साल में लग जाएगी सभी को वैक्सीन
देश

विशेषज्ञ ने भारत के लिए सुझाई नई टीका रणनीति, 2 साल में लग जाएगी सभी को वैक्सीन

एजेंसी,वाशिंगटन।Published By: Himanshu Jha
Wed, 21 Apr 2021 06:56 PM
विशेषज्ञ ने भारत के लिए सुझाई नई टीका रणनीति, 2 साल में लग जाएगी सभी को वैक्सीन

भारत में कोविड-19 वैश्विक महामारी की नयी लहर के बीच, देश के एक जनस्वास्थ्य विशेषज्ञ ने इस संकट से निपटने के लिए सामूहिक टीकाकरण के लिए उत्पादन, खरीद और टीका लगाने की रणनीति अपनाने का आह्वान किया है। इसके साथ उचित व्यवहार लागू करने और चिकित्सकों, नेताओं एवं प्रशासन से लगातार संपर्क में रहने का भी सुझाव दिया है।

हार्वर्ड विश्वविद्यालय में फिलहाल कोविड-19 पर विशेष ध्यान के साथ जन स्वास्थ्य में पीएचडी कर रहीं आईएएस अधिकारी डॉ. मृणालिनी दरसवाल ने कहा कि हम भारत में वैश्विक महामारी को भयानक तरीके से फिर से सिर उठाते देख रहे हैं जहां कुछ महीने पहले माना जा रहा था कि यह लगभग खत्म हो चुका है। दुर्भाग्य से यह आबादी के बीच में छिपा हुआ था और इसने तब हमला किया जब हम कम चौकन्ने थे।

दो साल लगेगा समय: उन्होंने कहा कि टीकाकरण की मौजूदा दर के हिसाब से भारत की 75 प्रतिशत आबादी को टीका देने में दो साल लग जाएंगे। साथ ही कहा कि सामान्य हालात की तरफ लौटने के लिए गति को बढ़ाने और ज्यादा से ज्यादा आबादी को इसमें शामिल करने को कई गुणा तक बढ़ाने की जरूरत है। दरसवाल ने कहा कि समूची आबादी को इसमें शामिल करने के लक्ष्य को देखते हुए हमें रणनीतिक तरीके से आगे बढ़ने की जरूरत है। साथ ही उन्होंने नई संभावित रणनीति उत्पादन, खरीद और टीका लगाने का आह्वान किया।

एक मई से टीकाकरण का नया अभियान
देश में कोरोना से जंग के लिए वैक्सीनेशन के अभियान को सरकार ने तेज करने का फैसला लिया है। अब 1 मई से 18 साल से अधिक आयु के सभी लोगों को कोरोना का टीका लगेगा। पीएम नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में सोमवार को हुई मीटिंग में यह फैसला लिया गया है। एक मई से देश भर में कोरोना टीकाकरण का तीसरा राउंड शुरू हो रहा है, जिसमें युवाओं को भी कवर किया जाएगा। अब तक 45 साल से अधिक आयु के लोगों को ही टीका लगाया जा रहा था। हालांकि दिल्ली, पंजाब और महाराष्ट्र जैसे राज्यों के मुख्यमंत्रियों की ओर से युवाओं को भी टीका लगाए जाने की मांग की थी। 

पीएम नरेंद्र मोदी की देश के शीर्ष डॉक्टरों के साथ विचार मंथन के बाद यह फैसला लिया गया। पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि सरकार बीते एक साल से प्रयास कर रही है कि देश में ज्यादा से ज्यादा भारतीयों को कम से कम समय में वैक्सीन दी जा सके। इस मीटिंग में घरेलू कंपनियों को वैक्सीन के अधिक उत्पादन के लिए प्रेरित करने की बात कही गई है। इसके अलावा अन्य भारतीय और विदेशी वैक्सीन्स को भी मंजूरी देने की बात शामिल है। 

संबंधित खबरें