ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News देशExit Poll: बंगाल में गलत साबित हुआ था एग्जिट पोल, अब मध्य प्रदेश में बीजेपी को दीं बंपर सीटें; देख लीजिए ट्रैक रिकॉर्ड

Exit Poll: बंगाल में गलत साबित हुआ था एग्जिट पोल, अब मध्य प्रदेश में बीजेपी को दीं बंपर सीटें; देख लीजिए ट्रैक रिकॉर्ड

Exit Poll 2023: एक्सिस माय इंडिया सर्वे एजेंसी का दावा है कि उसने कुल 64 सर्वे में 60 सही बताए हैं। उसका एक्यूरेसी रेट 94 फीसदी का रहा है। हालांकि, बंगाल विधानसभा में गलत साबित रहा।

Exit Poll: बंगाल में गलत साबित हुआ था एग्जिट पोल, अब मध्य प्रदेश में बीजेपी को दीं बंपर सीटें; देख लीजिए ट्रैक रिकॉर्ड
Madan Tiwariलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीFri, 01 Dec 2023 04:47 PM
ऐप पर पढ़ें

Exit Polls 2023: मध्य प्रदेश समेत पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव से जुड़े एग्जिट पोल सामने आ गए हैं। सबसे ज्यादा मध्य प्रदेश और राजस्थान के एग्जिट पोल ने चौंकाया है। मध्य प्रदेश में जहां ज्यादातर सर्वे एजेंसियों ने कड़ी टक्कर के बीच कांग्रेस की अधिक सीटें दिखाई हैं, तो दो ऐसे एग्जिट पोल्स हैं, जिसमें बीजेपी को बंपर सीटें दी गईं। इन्हीं दो पोल्स की वजह से कांग्रेस को टेंशन हो सकती है। दरअसल, इंडिया टुडे एक्सिस माय इंडिया एग्जिट पोल में बीजेपी को 140-162 सीटें दी गई हैं, जबकि कांग्रेस को 68-90 सीटों का अनुमान है। वहीं, न्यूज 24- टुडेज चाणक्य एग्जिट पोल में बीजेपी को 139-163 सीटें और कांग्रेस को 62-86 सीटें दी गई हैं। इन्हीं दो एग्जिट पोल्स की वजह से मध्य प्रदेश का चुनावी नतीजा दिलचस्प हो गया है। नतीजों का ऐलान रविवार को होगा। हालांकि, फिलहाल अभी जानते हैं कि इन दोनों सर्वे एजेंसियों का ट्रैक रिकॉर्ड कैसा रहा है और पिछले कुछ चुनावों में कितने सही प्रिडिक्शन साबित हुए हैं। पश्चिम बंगाल में साल 2021 में हुए विधानसभा चुनाव के दौरान एक्सिस माय इंडिया का एग्जिट पोल पूरी तरह से गलत साबित हुआ था, जबकि टुडेज चाणक्य ने टीमएसी की सरकार तो बनवाई थी, लेकिन सीटें कम दी थीं।

एक्सिस माय इंडिया ने कब कैसा किया प्रिडिक्शन?  
एक्सिस माय इंडिया सर्वे एजेंसी का दावा है कि उसने कुल 64 सर्वे में 60 सही बताए हैं। उसका एक्यूरेसी रेट 94 फीसदी का रहा है। इस साल हुए कर्नाटक विधानसभा चुनाव में एक्सिस माय इंडिया ने एग्जिट पोल में बीजेपी की करारी शिकस्त का अनुमान जताया था जोकि पूरा सही साबित हुआ था। पोल में बीजेपी को 62-80, कांग्रेस को 122-140, जेडीएस को 20-25, अन्य को शून्य से तीन सीटें दी गई थीं, जबकि जब नतीजे सामने आए तो यही सीटें रहीं। रिजल्ट में बीजेपी को 66, कांग्रेस प्लस को 135+1, जेडीएस को 19 और अन्य को तीन सीटें मिली थीं। वहीं, पिछले साल हुए हिमाचल प्रदेश के विधानसभा चुनाव के एग्जिट पोल में एक्सिस माय इंडिया का दावा था कि बीजेपी 24-34, कांग्रेस 30-40 सीटें जीत सकती है और नतीजों में बीजेपी को 25, कांग्रेस को 40 सीटें मिलीं। यानी कि यह एग्जिट पोल भी सही रहा। 

इसके अलावा, गुजरात विधानसभा चुनाव में भी एक्सिस माय इंडिया ने बीजेपी की बंपर जीत का अनुमान जताया था। तब बीजेपी को 129-151, कांग्रेस को 16-30, आम आदमी पार्टी को 9-21, अन्य को दो से छह सीटें दी गई थीं। नतीजों में बीजेपी ने 156 सीटों पर बंपर जीत दर्ज की थी। कांग्रेस को महज 17 सीटें ही मिली थीं, जबकि आम आदमी पार्टी पांच सीटें जीतने में कामयाब हो सकी थी।  उत्तर प्रदेश के पिछले विधानसभा चुनाव में बीजेपी गठबंधन को एग्जिट पोल में 288-326 सीटें दी गई थीं, जबकि नतीजों में 273 सीटें मिलीं। सपा गठबंधन को पोल में 71-101 सीटें दी गईं और नतीजों में 125 सीटें मिलीं। इसके अलावा, वोट पर्सेंटेज भी बिल्कुल ठीक साबित हुआ था। 

हालांकि, हर बार एक्सिस माय इंडिया का एग्जिट पोल पूरी तरह से सही ही नहीं हुआ है। दो साल पहले पश्चिम बंगाल में हुए विधानसभा चुनाव के दौरान एग्जिट पोल गलत साबित हुए थे। तब एक्सिस ने बीजेपी और टीएमसी के बीच कांटे की टक्कर दिखाई थी, लेकिन नतीजों में ममता बनर्जी की बड़ी जीत हुई थी। एग्जिट पोल के अनुसार, तब बीजेपी गठबंधन को सबसे ज्यादा 134 से 160 सीटें दी गई थीं, जबकि टीएमसी को 130 से 156 सीटें मिलीं। हालांकि, जब नतीजे सामने आए तो यह एग्जिट पोल गलत साबित हुआ। टीएमसी ने 215 सीटों के साथ बड़ी जीत दर्ज की थी, जबकि बीजेपी को 77 सीटें मिली थीं, जोकि एग्जिट पोल के हिसाब से बिल्कुल अलग थीं।

टुडेज चाणक्य कब सही-कब गलत
एग्जिट पोल करने के मामले में टुडेज चाणक्य के नतीजे ज्यादातर सटीक रहे हैं। इतिहास में विधानसभा चुनावों से लेकर लोकसभा चुनावों तक टुडेज चाणक्य ने ऐसे आंकड़े दिए हैं, जोकि नतीजों से मेल खाते दिखे। इसलिए एग्जिट पोल के समय लोगों की निगाहें चाणक्य के आंकड़ों पर जरूर रहती है। इस बार भी मध्य प्रदेश में टुडेज चाणक्य ने बीजेपी की बंपर जीत का अनुमान जताया है। पिछले कुछ एग्जिट पोल्स पर नजर डालें तो इसी साल कर्नाटक चुनाव के एग्जिट पोल में कांग्रेस की क्लियर जीत का अनुमान जताया गया था। कांग्रेस को 120 सीटें दी गई थीं, जबकि बीजेपी को 92 और जेडीएस को 12 सीटें दी गईं। हालांकि, नतीजों में कांग्रेस प्लस को 135+1 सीटें मिलीं, लेकिन चाणक्य के एग्जिट पोल के अनुसार ही सरकार कांग्रेस की बनी। वहीं, हिमाचल प्रदेश के एग्जिट पोल्स में टफ फाइट दिखाई गई थी। कांग्रेस और बीजेपी, दोनों को 33-33 सीटें दी गई थीं, जबकि जब नतीजे सामने आए तो कांग्रेस की स्पष्ट जीत हुई और 40 सीटें जीतीं। वहीं, बीजेपी को 25 सीटें मिली थीं। इसके अलावा, पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में चाणक्य ने टीएमसी को 180 सीटें दी थीं, जबकि बीजेपी को 108 सीटें। हालांकि, नतीजों में सरकार टीएमसी की ही बनी, लेकिन सीटों की संख्या टीएमसी की अधिक थी और बीजेपी की कम। इसके अलावा, टुडेज चाणक्य का दावा है कि वह इकलौती एजेंसी है, जिसने पिछले तीन लोकसभा चुनावों में बिल्कुल सही प्रिडिक्शन दिए हैं। पिछले लोकसभा चुनाव में भी चाणक्य ने बीजेपी को 300 और एनडीए को 350 सीटें दी थीं। वहीं, कांग्रेस को 55 और यूपीए को 95 सीटें दी थीं। जब नतीजे सामने आए तो बीजेपी को 303, एनडीए को 353 सीटें मिलीं। वहीं, कांग्रेस को 52 और यूपीए को 91 सीटें मिलीं।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें