DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

Exit Poll results 2019: जब एग्जिट पोल के अनुमान गलत साबित हुए

                             2019

लोकसभा और विधानसभा चुनावों में मतदान खत्म होने के बाद एग्जिट पोल को नतीजों की सटीक संकेत माना जाता है, लेकिन ऐसा कई बार हुआ है जब एग्जिट पोल के अनुमान पूरी तरह गलत साबित हुए। वर्ष 2004 के लोकसभा चुनाव और 2015 के दिल्ली के विधानसभा चुनाव के नतीजे एग्जिट पोल के संकेतों से ठीक उलट साबित हुए।  

लोकसभा चुनाव 2004 में ज्यादातर एग्जिट पोल यानी चुनाव पश्चात सर्वेक्षणों में शाइनिंग इंडिया के नारे पर चुनाव लड़ने वाली एनडीए सरकार की जीत का अनुमान लगाया था। लेकिन जब नतीजे आए तो पासा पूरी तरह पलटा हुआ था। वर्ष 2009 में एग्जिट पोल में यूपीए को बढ़त का अनुमान लगाया था, लेकिन इस बात का अहसास नहीं था कि कांग्रेस को 2004 से 61 सीटें ज्यादा मिलेंगी। एग्जिट पोल में मतदान के बाद बूथ से बाहर निकलने वाले लोगों की राय ली जाती है और इस डाटा की राजनीतिक दलों के उस इलाके में अनुमानित वोट प्रतिशत के आधार पर आकलन किया जाता है। 

वर्ष 1999 के चुनाव में भी कई सर्वेक्षणों में एनडीए सरकार को 310 से ज्यादा सीटें मिलने का अनुमान दिया गया था, जबकि कुछ का आकलन था कि वह बहुमत के आंकड़े से भी दूर रहेगी। हालांकि परिणाम आए तो एनडीए को 298 सीटें मिलीं। वर्ष 2014 में भी एग्जिट पोल नरेंद्र मोदी के पक्ष में चल रही आंधी को पूरी तरह भांप नहीं पाए लेकिन भाजपा ने अकेले दम पर 282 सीटें हासिल कर इतिहास रचा। जबकि एनडीए का आंकड़ा 336 के पार पहुंच गया। 

दिल्ली के चुनाव ने झुठलाए दावे

मोदी को प्रचंड बहुमत के बाद 2015 में दिल्ली में विधानसभा चुनाव हुए। एग्जिट पोल का अनुमान था कि आप को 31 से 50 के बीच सीट मिलेंगी और भाजपा को 17 से 35 सीटें मिल सकती हैं। कांग्रेस को 03 से 07 सात सीटें मिलने का अनुमान था। लेकिन 70 सीटों वाली विधानसभा के नतीजे आए तो आप ने 67 सीटें जीतकर सभी अनुमानों को धराशायी कर दिया। भाजपा तीन पर सिमट गई और कांग्रेस खाता भी नहीं खोल पाई। 

बिहार चुनाव में भी गलत अनुमान

बिहार में वर्ष 2015 के चुनाव में महागठबंधन और भाजपा के बीच कड़ी टक्कर का दावा था। लेकिन परिणाम आए तो जदयू, राजद और कांग्रेस के गठबंधन ने 243 सीटों वाली विधानसभा में 178 सीटें झटक लीं। जबकि भाजपा 53 सीटों पर ठहर गई। 

यूपी में भाजपा ने सबको चौंकाया

नोटबंदी के बाद उत्तर प्रदेश में हुए 2017 के विधानसभा चुनाव ने तो एग्जिट पोल और राजनीतिक पंडितों को हिलाकर रख दिया। सारे पोल में त्रिशंकु विधानसभा के संकेत थे, लेकिन परिणाम आए तो 403 विधानसभा सीटों वाले राज्य में भाजपा 312 सीटों के प्रचंड बहुमत से सत्ता में आ गई।

Loksabha Exit Polls 2019: जानें- Exit और ओपिनियन पोल में क्या है फर्क?

Biha exit poll 2019: कौन मार सकता है बाजी, एग्जिट पोल कुछ देर में

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Exit Poll results 2019 When the exit poll estimates were proved wrong