DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

Exit Polls 2019: पिछली बार 6 राज्यों में BJP ने किया था सूपड़ा साफ, इस बार इतिहास दोहराने की होगी चुनौती

Exit Polls 2019: लोकसभा चुनाव 2019 (Lok Sabha Election 2019) के अंतिम चरण के मतदान रविवार शाम खत्म होते ही सबकी नजरें नतीजों की ओर टिक जाएंगी। 19 मई को आखिरी चरण के मतदान के समाप्त होने के बाद एग्जिट पोल (Exit Polls 2019) का दौर शुरू हो जाएगा और एजेंसियां-टीवी चैनल अपने-अपने सर्वे से पार्टियों की हार-जीत का अनुमान लगाएंगी। लोकसभा चुनाव 2014 (Lok Sabha Election 2014) में पूर्ण बहुमत से सरकार बनाने वाली बीजेपी जहां दोबारा सत्ता में आने की कोशिश में लगी है। वहीं 44 सीटों पर सिमटने वाली कांग्रेस इस बार केंद्र सरकार को सत्ता से हाटने की कोशिश कर रही है। लोकसभा चुनाव 2019 का फैसला 23 मई को जारी होगा।

पिछले लोकसभा चुनाव में बीजेपी ने 6 राज्यों में विपक्षियों का सुपड़ा साफ किया था। इस बार देखना होगा कि बीजेपी का पिछले लोकसभा चुनावों का करिश्मा कायम रह पाता है या नहीं। 2014 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी को एंटी इन्कंबेंसी का फायदा मिला था और ऐसे कई राज्य थे, जहां बीजेपी की सरकार थी. मगर इन पांच सालों में परस्थितियां बदली हैं। 

गुजरात: लोकसभा चुनाव 2014 में बीजेपी ने जिन 6 राज्यों में पूर्ण रूप से विजयी पताका लहराया था, उसमें सबसे बड़ा राज्य गुजरात ही था। गुजरात की सभी 26 सीटें बीजेपी ने जीत ली थी। जबकि 2009 के लोकसभा चुनाव में भाजपा ने 15 सीटें जीती थीं। 2014 के बाद हुए गुजरात विधानसभा चुनाव में बीजेपी भले ही सरकार बचा पाने में कामयाब हुई हो, मगर वहां कांग्रेस ने भी अपनी मजबूत उपस्थिति दर्ज कराई है। इसलिए गुजरात में भारतीय जनता पार्टी के सामने सबसे बड़ी चुनौती इतिहास दोहराने की ही होगी।

दिल्ली: दिल्ली में लोकसभा चुनाव इस बार काफी रोचक रहा। पिछली बार दिल्ली की सातों सीटें जीतने वाली भारतीय जनता पार्टी ने इस बार अपने दो उम्मीदवार बदले और इस चुनाव में गौतम गंभीर को उतारा। दिल्ली में इस बार त्रिकोणीय मुकाबला देखने को मिला। वैसे तो इस बार दिल्ली की सभी सीटों पर त्रिकोणीय मुकाबला देखा जा रहा है, मगर अब 23 मई को ही तस्वीर स्पष्ट हो पाएगी कि आखिर दिल्ली में बीजेपी सभी सीटें जीत पाती है या नहीं। 

राजस्थान: राजस्थान में इस बार मुकाबला काफी दिलचस्प है। यही वजह है कि यहां के नतीजों का सबको बेसब्री से इंतजार है। कारण कि पिछले लोकसभा चुनाव में बीजेपी ने राज्य की सभी 25 लोकसभा सीटों पर जीत दर्ज की थी। हालांकि, उस वक्त राज्य में बीजेपी की सरकार थी। मगर अब यहां कांग्रेस की सरकार है और इस बार कांग्रेस ने चुनौती भी पेश की है। इसलिए यहां भी बीजेपी के सामने इतिहास दोहराने की चुनौती है। राजस्थान में कांग्रेस की गहलोत सरकार है और ऐसे में राज्य की सभी सीटें जीत पाना बीजेपी के लिए किसी मुश्किल से कम नहीं है। 

गोवा: गोवा में लोकसभा की दो सीटें हैं और लोकसभा चुनाव 2014 में बीजेपी ने दोनों सीटों पर अपनी जीत दर्ज की थी। लेकिन इस बार बीजेपी के दिग्गज नेता और राज्य के पूर्व सीएम मनोहर पर्रिकर के निधन के बाद चुनौती बड़ी है। ऐसे में देखना होगा कि बीजेपी गोवा में अपनी दोनों सीटें बचा सकती है या नहीं।

हिमाचल प्रदेश: 2009 लोकसभा चुनाव से ही बीजेपी की हिमाचल प्रदेश में लगातार शक्ति बढ़ रही है। लोकसभा चुनाव 2014 में बीजेपी ने हिमाचल प्रदेश की चारों सीटों पर जीत का परचम लहराया था। वहीं साल 2009 में बीजेपी ने तीन सीटें अपने नाम की थी। बीजेपी ने पिछले चुनाव में चारों सीटें तब जीती थीं, जब राज्य में कांग्रेस की सरकार थी। मगर 2017 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी राज्य की सत्ता में आ गई। इसलिए एक बार फिर से 2019 में बीजेपी 2014 के परिणाम को दोहराने की उम्मीद कर रही है। 

उत्तराखंड: लोकसभा चुनाव 2014 में उत्तराखंड की सभी पांच सीटों पर बीजेपी ने जीत दर्ज की थी। इस बार भी बीजेपी उसी इतिहास दोहराने की कोशिश में लगी है। राज्य में भाजपा सरकार होने का बीजेपी को फायदा मिल सकता है, मगर देखना होगा कि लोकसभा चुनाव 2019 के नतीजों में बीजेपी के पाले में कितनी सीटें जाती हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Exit Poll 2019: bjp won all seats in 6 states in 2014 lok sabha election