ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ देशसभी मस्जिदों की करो खुदाई, शिवलिंग मिले तो हमारा और शव मिले तो तुम्हारा; BJP नेता ने ओवैसी को दी चुनौती

सभी मस्जिदों की करो खुदाई, शिवलिंग मिले तो हमारा और शव मिले तो तुम्हारा; BJP नेता ने ओवैसी को दी चुनौती

वाराणसी के ज्ञानवापी मस्जिद परिसर के सर्वे में कथित तौर पर शिवलिंग मिलने के बाद बयानबाजी थमती नजर नहीं आ रही है। इस बीच तेलंगाना बीजेपी के प्रमुख बंदी एसके ने ओवैसी को चुनौती दी है।

सभी मस्जिदों की करो खुदाई, शिवलिंग मिले तो हमारा और शव मिले तो तुम्हारा; BJP नेता ने ओवैसी को दी चुनौती
Himanshu Jhaलाइव हिन्दुस्तान,हैदराबाद।Thu, 26 May 2022 08:11 AM

इस खबर को सुनें

0:00
/

वाराणसी के ज्ञानवापी मस्जिद परिसर के सर्वे में कथित तौर पर शिवलिंग मिलने के बाद बयानबाजी थमती नजर नहीं आ रही है। इस बीच तेलंगाना बीजेपी के प्रमुख बंदी एसकी ने एआईएमआईएम चीफ असदुद्दीन ओवैसी को चुनौती दी है। उन्होंने कहा कि हम राज्य की सभी मस्जिदें खोदेंगे। अगर वहां शिवलिंग मिले तो इसे हमें सौंप दें।

तेलंगाना बीजेपी चीफ ने कहा, ''जहां कहीं भी मस्जिद परिसर की खुदाई की जाती है, वहां शिवलिंग मिलते हैं। मैं ओवैसी को चुनौती दे रहा हूं कि हम राज्य में सभी मस्जिदें खोदेंगे। यदि शव बरामद होते हैं तो यह आपका (मुसलमानों का)।  यदि शिवलिंग मिलेगा तो आप इसे हमें सौंप दें। क्या आप इसे स्वीकार करेंगे?''

बुधवार रात करीमनगर में एक विशाल 'हिंदू एकता यात्रा' को संबोधित करते हुए तेलंगाना भाजपा प्रमुख बंदी संजय कुमार ने एआईएमआईएम अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी पर जमकर निशाना साधा। कुमार ने दावा किया कि अतीत में मुस्लिम शासकों द्वारा तेलंगाना में कई मंदिरों को ध्वस्त कर दिया गया था और उनके स्थान पर मस्जिदों का निर्माण किया गया था। ओवैसी को खुली चुनौती देते हुए उन्होंने राज्यों की सभी मस्जिदों में खुदाई का आह्वान किया और कहा कि अगर धार्मिक प्रतीकों का पता चला तो हिंदू उन्हें अपने कब्जे में ले लेंगे।

मदरसों को खत्म करने का भी वादा
यह वादा करते हुए कि भाजपा सत्ता में आने पर तेलंगाना में राम राज्य की शुरुआत करेगी, करीमनगर के सांसद ने कहा, “अगर भाजपा सत्ता में आती है, तो हम सभी मदरसों को खत्म कर देंगे, अल्पसंख्यकों को दिए जा रहे आरक्षण को खत्म कर देंगे और एससी, एसटी, ओबीसी और ईबीसी को अतिरिक्त कोटा प्रदान करेंगे। हम उर्दू को दूसरी आधिकारिक भाषा के रूप में भी स्थायी रूप से हटा देंगे।" 

आपको बता दें कि मदरसों पर रुख महत्वपूर्ण हो जाता है क्योंकि कुछ दिन पहले असम के सीएम हिमंत बिस्वा सरमा ने सार्वजनिक रूप से इसे खत्म करने की मांग की थी।
 

epaper