DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

30 दिन बाद भी मेघालय की 370 फुट गहरी खदान में फंसे खनिकों का कोई सुराग नहीं

मेघालय कोयला खदान

मेघालय के ईस्ट जयंतिया हिल्स जिले में एक अवैध रैटहोल खदान में अचानक पानी भर जाने से खनिकों के अंदर फंस जाने की घटना को पूरे एक माह हो गए हैं। अब तक के बचाव संबंधी प्रयासों के लगातार विफल होने के कारण यह उम्मीद बेहद क्षीण हो चुकी है कि इन खनिकों को सही सलामत बाहर निकाला जा सकेगा। 

खदानों में अपने काम के लिए महारथ रखने वाले वैज्ञानिकों की एक शीर्ष टीम बचाव अभियान को गति देने के लिए रविवार को ईस्ट जयंतिया हिल्स जिला पहुंची। इस बचाव अभियान को देश का सबसे लंबा चलने वाला बचाव अभियान बताया जा रहा है।

बचाव अभियान के प्रवक्ता आर सुस्नगी ने बताया कि हैदराबाद स्थित राष्ट्रीय भू-भौतिकीय अनुसंधान संस्थान, वैज्ञानिक तथा औद्योगिक अनुसंधान परिषद (एनजीआईआर-सीएसआईआर) और ग्रैविटी एंड मैग्नेटिक ग्रुप के विशेषज्ञों की एक टीम बचाव स्थल पहुंच गई है।

उन्होंने कहा, इसके अलावा ‘ग्राउंड पेनेट्रेटिंग रेडार’ (जीपीआर) और चेन्नई स्थित ‘रिमोटली ऑपरेटेड व्हीकल’ (आरओवी) की एक टीम भी बचाव मिशन में मदद के लिए पहुंची है।

अधिकारी ने कहा कि अब तक 370 फुट गहरी खदान से एक करोड़ लीटर पानी निकाला जा चुका है, लेकिन जलस्तर में बहुत ज्यादा बदलाव नहीं आया है।

खदान में श्रमिक मामला : केंद्र ने कहा, चमत्कार पर भरोसा करना होगा

खदान में फंसे 15 श्रमिक, पानी अब भी 100 फुट से ज्यादा

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Even after 30 days there is no clue of miners stranded in 370 feet deep in Meghalaya