ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News देशहोंठ-जीभ पर कटवाया जाता है, 6-7 दिन रहता है असर; ऐसे होता है सांप के जहर का नशा

होंठ-जीभ पर कटवाया जाता है, 6-7 दिन रहता है असर; ऐसे होता है सांप के जहर का नशा

Elvish Yadav: जब सांप का जहर रक्तप्रवाह से साथ मिलता है, तो यह सेरोटोनिन, ब्रेडिकिनिन समेत कई अन्य रसायन छोड़ता है। इनमें से कई रसायनों का असर नशा करने वाले के दिमाग पर हो सकता है।

होंठ-जीभ पर कटवाया जाता है, 6-7 दिन रहता है असर; ऐसे होता है सांप के जहर का नशा
Nisarg Dixitलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीWed, 08 Nov 2023 10:58 AM
ऐप पर पढ़ें

Youtube पर्सनालिटी एल्विश यादव समेत 6 लोगों के खिलाफ नोएडा पुलिस जांच कर रही है। आरोप हैं कि ये लोग पार्टी में सांप के जहर का इस्तेमाल कर नशा कर रहे थे। इनके खिलाफ 3 नवंबर को भारतीय दंड संहिता यानी IPC और वाइल्डलाइफ प्रोटेक्शन एक्ट के तहत मामला दर्ज कर लिया गया था। सवाल है कि आखिर सांप जैसा जहरीला जीव नशे के इस्तेमाल में कैसे आ सकता है।

सांप के जहर से नशा!
एक मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, वैज्ञानिक आधार पर सांप के जहर से शराब जैसा नशा नहीं होता। हालांकि, नर्वस सिस्टम पर असर के चलते ऐसे कई लक्षण शरीर पर देखें जा सकते हैं, जिन्हें नशा माना जाता है। ये स्थिति जहर में मौजूद न्यूरोटॉक्सिन्स से बन सकती है, जो न्यूरोट्रांसमिशन पर असर डाल सकता है। कहा जाता है कि इसका असर 6-7 दिनों तक रह सकता है।

कैसे लिया जाता है जहर?
कहा जाता है कि जहर से नशा करने वाले पहले सांप को कैमिकल का इंजेक्शन लगाते हैं। इसके बाद वह जानबूझकर सांप से खुद को होंठ या जीभ पर कटवाते हैं। अब जहर में मौजूद न्यूरोटॉक्सिन्स नर्वस सिस्टम पर असर डालता है और नर्व सिग्नल के ट्रांसमिशन को प्रभावित करता है। इसके चलते मांसपेशियों में कमजोरी और कई मानसिक और शारीरिक असर होते हैं।

किन सांपों का होता है इस्तेमाल
रिपोर्ट में 2014 में नेशनल लाइब्रेरी ऑफ मेडिसिन की तरफ से जारी पेपर के अनुसार, नशे के आदि नाजा नाजा (कोबरा), बंगारुस सेरुलियस (आम करैत) और ओफियोड्रिस वर्नालिस का इस्तेमाल करते हैं। इंडियन जर्नल ऑफ फिजियोलॉजी एंड फार्माकोलॉजी में साल 2021 में प्रकाशित एक स्टडी से पता चलता है कि सर्पदंश के 60 फीसदी मामले ड्राय होते हैं।

कैसे होता है नशा
एक स्टडी में बताया गया है कि जब सांप का जहर रक्तप्रवाह से साथ मिलता है, तो यह सेरोटोनिन, ब्रेडिकिनिन समेत कई अन्य रसायन छोड़ता है। इनमें से कई रसायनों का असर नशा करने वाले के दिमाग पर हो सकता है। इसके बाद नींद आना या मानसिक रूप से शांत महसूस होता है।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें